खेल

IPL 2020: चेन्नई सुपरकिंग्स क्यों हारी लगातार दूसरा मैच, जानिए 5 बड़ी वजहें!

लगातार दो मैच क्यों हारी चेन्नई सुपरकिंग्स?
लगातार दो मैच क्यों हारी चेन्नई सुपरकिंग्स?

दिल्ली कैपिटल्स ने चेन्नई सुपरकिंग्स (Delhi Capitals beat Chennai Super Kings) को 44 रनों से हराया, 64 रन बनाने वाले पृथ्वी शॉ बने मैन ऑफ द मैच

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 26, 2020, 6:01 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आईपीएल 2020 के 7वें मैच में कुछ ऐसा हुआ जिसकी उम्मीद शायद बेहद ही कम लोगों को होगी. दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए मैच में दिल्ली कैपिटल्स ने चेन्नई सुपरकिंग्स को 44 रनों के बड़े अंतर से हरा (Delhi Capitals beat Chennai Super Kings) दिया. पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली कैपिटल्स ने 20 ओवर में 175 रन बनाए, जवाब में चेन्नई सुपरकिंग्स महज 131 रन ही बना सकी और मैच हार गई. ये चेन्नई सुपरकिंग्स की आईपीएल 2020 में लगातार दूसरी हार है. आइए आपको बताते हैं कि आखिर क्यों माही की टीम लगातार दो मैच हार चुकी है.
चेन्नई सुपरकिंग्स की ओपनिंग इस टूर्नामेंट में सबसे कमजोर नजर आ रही है. शेन वॉटसन और मुरली विजय की जोड़ी बिलकुल फॉर्म में नहीं है. वॉटसन पिछले दो साल से लीग मैचों में खराब प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं मुरली विजय भी काफी समय बाद आईपीएल में ओपनिंग कर रहे हैं और तीनों ही मैचों में फ्लॉप साबित हुए हैं. दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ वॉटसन 16 गेंदों में 14 और मुरली विजय 15 गेंदों में 10 रन बनाकर आउट हुए. दोनों का स्ट्राइक रेट 100 से भी कम रहा, नतीजा चेन्नई के मिडिल ऑर्डर पर दबाव पड़ा.
टॉप ऑर्डर फ्लॉप होने से चेन्नई सुपरकिंग्स का मिडिल ऑर्डर दबाव में तो है लेकिन सुरेश रैना की गैरमौजूदगी में इस टीम को काफी दिक्कतें पेश आ रही हैं. पिछले दो मैचों से रायडू भी फिट नहीं हैं और चौथे नंबर पर ऋतुराज गायकवाड़ बल्लेबाजी कर रहे हैं. इसके अलावा केदार जाधव भी बेहद धीमी बल्लेबाजी कर रहे हैं. खुद धोनी बेहद देरी से क्रीज पर आ रहे हैं, नतीजा टीम बुरी तरह दो मैच हारी है.
एमएस धोनी के गेंदबाज भी काफी खराब फॉर्म में दिख रहे हैं. अकसर पावरप्ले में टीम को सफलता दिलाने वाले चाहर की स्विंग गायब दिख रही है. वहीं सैम कर्रन अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं लेकिन स्पिनर रवींद्र जडेजा ने पिछले तीनों मैचों में खूब रन दिये हैं. पीयूष चावला का प्रदर्शन भी औसत रहा है. वो पहले दो ओवरों में काफी रन देते हैं जिससे विरोधी टीम पर बिलकुल दबाव नहीं पड़ता. धोनी ने भी दिल्ली के खिलाफ हार के बाद माना कि उनके गेंदबाज लगातार सही लेंग्थ पर गेंदबाजी नहीं कर पा रहे हैं
एमएस धोनी की खराब रणनीति भी चेन्नई सुपरकिंग्स की हार का कारण है. पिछले दो मुकाबलों से धोनी उस वक्त बल्लेबाजी करने आ रहे हैं जब चेन्नई के हाथ से मैच निकल चुका होता है. दिल्ली के खिलाफ जब धोनी ने क्रीज पर कदम रखा तो उस वक्त महज 26 गेंद बची थी. रैना की गैरमौजूदगी में धोनी ही चेन्नई के एकलौते अनुभवी खिलाड़ी हैं लेकिन इसके बावजूद वो बेहद देरी से क्रीज पर कदम रख रहे हैं. उनकी इस रणनीति से सभी क्रिकेट दिग्गज हैरान हैं.
चेन्नई की लगातार दो हार की एक बड़ी वजह उसके सीनियर खिलाड़ियों का टीम से बाहर होना भी है. हरभजन सिंह आईपीएल नहीं खेल रहे हैं. रैना ने भी टूर्नामेंट से पहले नाम वापस ले लिया. इसके बाद रायडू और ड्वेन ब्रावो भी अनफिट हैं. ये चारों खिलाड़ी चेन्नई को मजबूती देते थे और इनकी कमी साफ तौर पर चेन्नई को खल रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज