खेल

  • associate partner

चेतेश्वर पुजारा का दर्द, कहा-मुझ पर टेस्ट खिलाड़ी का ठप्पा लगा, IPL खेलना चाहता हूं

चेतेश्वर पुजारा का दर्द, कहा-मुझ पर टेस्ट खिलाड़ी का ठप्पा लगा, IPL खेलना चाहता हूं
IPL 2020: चेतेश्वर पुजारा का दर्द आया सामने

चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने कहा-आईपीएल में जगह नहीं मिलने से निराशा नहीं होती, हाशिम अमला जैसे खिलाड़ी भी नहीं बिके

  • Share this:
नई दिल्ली. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) की नीलामी में किसी फ्रेंचाइजी टीम का समर्थन नहीं मिलने के बावजूद चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) को निराशा नहीं होती है. लेकिन पुजारा उन लोगों की इस विचारधारा को बदलना चाहते हैं जो कि ये मानते हैं कि वो एक टेस्ट स्पेशलिस्ट हैं और वो टी20 नहीं खेल सकते. कई ऐसे खिलाड़ी हैं जिनका स्ट्राइक रेट (लगभग 110) पुजारा के बराबर है लेकिन फ्रेंचाइजी उनका चयन करती है. इसके बावजूद पुजारा को आईपीएल के लिए नजरअंदाज किया जाता है.

IPL में चयन नहीं होने पर पुजारा का जवाब
पुजारा (Cheteshwar Pujara) से पूछा गया कि क्या इससे उन्हें दुख या परेशानी होती है कि टी20 खिलाड़ी के रूप में उनकी योग्यता कोई अन्य तय करे, तो इस स्टार बल्लेबाज ने पीटीआई-भाषा से कहा, 'एक क्रिकेटर होने के नाते मैं इस तरह से नहीं सोचता. फिर मैं ऐसा इंसान हूं जो कभी इस तरह का अहं भाव नहीं रखेगा क्योंकि मैंने देखा है कि आईपीएल नीलामी पेचीदा होती है. '

'मुझपर टेस्ट खिलाड़ी का ठप्पा लगाया गया'
कप्तान विराट कोहली के साथ भारत के सबसे अहम टेस्ट बल्लेबाज ने कहा, 'मैंने देखा है कि हाशिम अमला जैसे विश्वस्तरीय खिलाड़ियों को भी नीलामी में खरीदार नहीं मिलता है. कई बहुत अच्छे टी20 खिलाड़ी हैं जिन्हें नहीं चुना जाता है. इसलिए मैं इसको लेकर अहं भाव नहीं रखता कि उन्होंने मुझे नहीं चुना. हां, मौका मिलने पर मैं आईपीएल में खेलना चाहूंगा. ' पुजारा से पूछा गया कि क्या उन्हें लगता है कि उन्हें लोगों की उनको लेकर बनी धारणा के कारण नुकसान होता है, उन्होंने कहा, 'मैं हां कहूंगा. मुझ पर टेस्ट खिलाड़ी का ठप्पा लगा दिया गया है और मैं इसमें कुछ नहीं कर सकता. '



ऑस्ट्रेलिया के 2018-19 दौरे में 500 से अधिक रन बनाकर भारत को 2-1 से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले पुजारा ने कहा, 'मैं शुरू से कहता रहा हूं कि मुझे मौका मिलना चाहिए और एक बार मौका मिलने पर ही मैं यह साबित कर पाऊंगा कि मैं सफेद गेंद की क्रिकेट में भी अच्छा प्रदर्शन कर सकता हूं. ' उन्होंने कहा, 'मैंने लिस्ट ए क्रिकेट (औसत 54), घरेलू टी20 (मुश्ताक अली ट्राफी में शतक) में अच्छा प्रदर्शन किया है. मैंने इंग्लैंड में लिस्ट ए मैचों में अच्छा प्रदर्शन किया था. '

पुजारा ने कहा, 'प्रदर्शन ऐसी चीज है जिस पर मैं नियंत्रण कर सकता हूं और मैं ऐसा करूंगा. मैं अभी केवल मौके का इंतजार कर सकता हूं. सभी फॉर्मेट में खेलकर मुझे खुशी होगी. जब तक मैं खेलता रहूंगा तब तक खेल का स्टूडेंट बना रहूंगा और सीखने की कोई सीमा नहीं होती है. लेकिन जब मुझे मौका मिलेगा तभी मैं धारणा बदल सकता हूं. '

काउंटी क्रिकेट भी नहीं खेल पाएंगे पुजारा
आईपीएल के दौरान पुजारा इंग्लैंड में काउंटी क्रिकेट में खेलते थे लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण इस बार यह संभव नहीं हो पाया. यह निराशाजनक है कि उनके साथियों को आईपीएल में मैच खेलने का मौका मिलेगा लेकिन उन्हें केवल नेट अभ्यास से काम चलाना पड़ेगा क्योंकि घरेलू सत्र को लेकर कोई स्पष्टता नहीं है.

पुजारा ने कहा, 'हां यह निराशाजनक है लेकिन हताश करने वाला नहीं. मैं ब्रिटेन इसलिए नहीं जा पाया क्योंकि यह मुश्किल दौर है और ऐसे में अपने परिवार के साथ और सुरक्षित रहना अधिक महत्वपूर्ण है. यह मैच अभ्यास को लेकर बहुत अधिक चिंता करने का समय नहीं है. '
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज