खेल

  • associate partner

कोरोना वायरस पर आईपीएल में बड़ा नियम, हर पांचवें दिन होगा टेस्ट, प्रैक्टिस के लिए ये शर्त

कोरोना वायरस पर आईपीएल में बड़ा नियम, हर पांचवें दिन होगा टेस्ट, प्रैक्टिस के लिए ये शर्त
आईपीएल में खिलाड़ियों का हर पांचवें दिन कोरोना टेस्ट होगा

आईपीएल 2020 (IPL 2020) का आगाज दुबई में 19 सितंबर से हो रहा है. बीसीसीआई ने खिलाड़ियों को कोरोना से बचाने के लिए कई बड़े नियम बनाए हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों और सहयोगी सदस्यों को यूएई में अभ्यास शुरू करने से पहले कोविड-19 की जांच में पांच बार नेगेटिव आना होगा. यही नहीं टूर्नामेंट शुरू होने के बाद उन्हें हर पांचवें दिन कोरोना वायरस जांच करानी होगी. बीसीसीआई के एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा से कहा कि सभी भारतीय खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ को भारत में अपनी संबंधित टीमों से जुड़ने के एक सप्ताह पहले 24 घंटे के अंतराल में दो बार कोविड-19 आरटी-पीसीआर परीक्षण कराना होगा. इसके बाद खिलाड़ी (भारत में ही) 14 दिन तक आइसोलेशन में रहेंगे.

खिलाड़ी कोरोना पॉजिटिव आया तो क्या होगा?
जांच में किसी व्यक्ति का नतीजा अगर पॉजिटिव (Corona Positive) आता है तो वह 14 दिनों तक आइसोलेशन में रहेगा. 19 सितंबर से शुरू होने वाली आईपीएल के लिए यूएई रवाना होने के लिए उसके पृथकवास अवधि खत्म होने के बाद 24 घंटे के अंतराल में दो बार कोविड-19 आरटी-पीसीआर जांच में नेगेटिव आना होगा. अधिकारी ने बताया, 'यूएई पहुंचने के बाद खिलाड़ियों और सहायक कर्मचारियों को एक सप्ताह तक आइसोलेशन में रहने के दौरान तीन बार कोविड-19 जांच करानी होगी. तीनों बार नेगेटिव आने के बाद वह जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में प्रवेश कर के अभ्यास शुरू कर सकते हैं. उन्होंने कहा, 'इस मामले में टीमों से प्रतिक्रिया मिलने के आधार पर इस प्रोटोकॉल में मामूली बदलाव किए जा सकते हैं लेकिन खिलाड़ियों और टीम अधिकारियों की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा.'

पहले हफ्ते एकदूजे से नहीं मिल पाएंगे खिलाड़ी
यूएई में पहले सप्ताह के दौरान टीमों के खिलाड़ियों और अधिकारियों को होटल में एक दूसरे से मिलने की अनुमति नहीं होगी. जांच में तीन बार नेगेटिव आने के बाद ही उन्हें टूर्नामेंट के जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में जाकर अभ्यास करने की अनुमति होगी. विदेशी खिलाड़ियों के सीधे यूएई पहुंचने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, 'सभी विदेशी खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ को भी यूएई के लिए उड़ान भरने से पहले कोविड-19 आरटी-पीसीआर जांच करानी होगी. वे तभी उड़ान भर सकते है जब उनका नतीजा नेगेटिव होगा. अगर ऐसा नहीं हुआ तो उन्हें 14 दिन पृथकवास में रहना होगा और दो बार कोरोना वायरस की जांच में नेगेटिव आना होगा.'



ये भी पढ़ें:-
बड़ी खबर: मुंबई इंडियंस के कप्‍तान रोहित शर्मा का पांच बार होगा कोरोना टेस्‍ट!

इशांत का खुलासा, शरीर से धोनी को 52 साल का लगता हूं, बीवी भी बूढ़ा बोलती है

यूएई में खिलाड़ियों और सहायक कर्मचारियों की आइसोलेशन के दौरान पहले, तीसरे और छठे दिन जांच की जाएगी . इसमें नेगेटिव रहने के बाद 53 दिनों तक चलने वाले टूर्नामेंट में हर पांचवें दिन उनकी जांच होगी. बीसीसीआई परीक्षण प्रोटोकॉल के अलाव टीमों खुद से यूएई सरकार द्वारा लागू नियमों के तहत अतिरिक्त परीक्षण करवा सकती है. टीमों से कहा गया है कि वे 20 अगस्त से पहले उड़ान ना भरे जिससे उन्हें जरूरत पड़ने पर आवश्यक परीक्षण प्रोटोकॉल और आइसोलेशन अभ्यास को अंजाम देने में परेशानी ना हो.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज