खेल

IPL 2020: क्यों धोनी बैटिंग करने के लिए पहले नहीं आए? कप्तान ने बताई जडेजा और सैम कुर्रन को प्रमोट करने की वजह

एमएस धोनी
एमएस धोनी

IPL 2020: रविवार को मुंबई के खिलाफ मैच में जिस वक्त अंबातू रायडू आउट हुए चेन्नई को जीत के लिए 24 गेंदों में 42 रनों की जरूरत थी. ऐसे में मैच के इस मोड़ पर फैंस को लगा कि राडयू के आउट होने बाद बैटिंग के लिए खुद कप्तान धोनी आएंगे. लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2020, 10:42 AM IST
  • Share this:
अबू धाबी. महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) ने 437 दिनों के बाद रविवार को क्रिकेट के मैदान पर वापसी की. फैंस को उम्मीद थी कि लंबे अरसे बाद धोनी मैदान उतरेंगे तो उन्हें उनके बल्ले से धमाकेदार पारी देखने को मिलेगी. लेकिन ऐसा हुआ नहीं. कप्तान धोनी बैटिंग के लिए तो आए लेकिन आखिर लम्हों में. उस उक्त चेन्नई सुपर किंग्स (Chennai Super Kings) को जीत के लिए सिर्फ 10 और रनों की जरूरत थी. आखिर क्यों कप्तान धोनी ने रवींद्र जडेजा और सैम कुर्रन को बैटिंग ऑर्डर में प्रमोट किया? कप्तान धोनी का कहना है कि इसके पीछे मनोवैज्ञानिक वजह थी. वो चाहते थे कि ये दोनों वहां जाकर एक दो छक्के लगागर मुंबई पर दबाव बनाए.

देर से बैटिंग के लिए आए धोनी
रविवार को मुंबई के खिलाफ मैच में जिस वक्त अंबातू रायडू आउट हुए चेन्नई को जीत के लिए 24 गेंदों में 42 रनों की जरूरत थी. ऐसे में मैच के इस मोड़ पर फैंस को लगा कि राडयू के आउट होने बाद बैटिंग के लिए खुद कप्तान धोनी आएंगे या फिर वो केदार जाधव को भेजेंगे. लेकिन धोनी ने पहले जडेजा और फिर कुर्रन को भेज कर हर किसी को हैरान कर दिया. इसके पीछे एक वजह ये भी थी कि धोनी राइट और लेफ्ट का कॉम्बिनेशन बरकरार रखना चाहते थे. जडेजा 18वें ओवर में आउट हो गए. इसके बाद भी धोनी नहीं आए. फिर सैम कुर्रन ने 2 चौके और छक्के लगाकर चेन्नई को जीत के करीब पहुंचा दिया. 19 वें ओवर में धोनी बैटिंग के लिए आए वो बिना खाते खोले दूसरे छोर पर डटे रहे.

ये भी पढ़ें:- IPL 2020: जीत के बाद धोनी बोले- अलग रणनीति के साथ खेलना होगा इस बार का आईपीएल
क्या कहा धोनी ने?


मैच के बाद धोनी ने कहा, 'मैं चाहता था कि जडेजा और कुर्रन बैटिंग ऑर्डर में ऊपर जाकर खुद को एक्सप्रेस करे. दो स्पिनर का ओवर बचा हुआ था. हम उन पर मनोवैज्ञानिक दबाव बनाना चाहते थे. हमारी बैटिंग काफी लंबी है. हम चाहते थे कि ये दोनों वहां जाकर कुछ लंबे शॉट्स खेल कर दबाव कम करें. इसके बाद के बल्लेबाजों के लिए फिर टारगेट तक पहुंचना आसान होता.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज