खेल

IPL 2020: इन दिनों कहां हैं महज 63 गेंदों पर 120 रन ठोकने वाले पॉल वाल्थटी?

पॉल वाल्थटी
पॉल वाल्थटी

IPL 2020: कुछ ही पारियों के बाद ही दर्शक उनके दीवाने हो गए थे. जब तक वो क्रीज पर रहते थे चौके-छक्के की गारंटी होती थी. लेकिन फिर ऐसा क्या हो गया कि वो गायब हो गए?

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 12:14 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आप आईपीएल के पुराने फैन हैं तो आपको पॉल वाल्थटी (Paul Valthaty) का नाम जरूर याद होगा. किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) का वो बल्लेबाज़ जिसने साल 2011 में रनों की सुनामी ला दी थी. अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी के चलते वाल्थटी रातों रात स्टार बन गए थे. हर गेंद पर वो तोड़तोड़ हमले करते थे. बस कुछ ही पारियों के बाद दर्शक उनके दीवाने हो गए थे. जब तक वो क्रीज पर रहते थे चौके-छक्के की गारंटी होती थी. लेकिन ये बैटिंग आइपीएल में किसी तूफान की तरह थी. एक ऐसा तूफान जिसने आईपीएल के एक सीज़न में तबाही मचा दी और फिर वो गायब हो गए. लेकिन आज 9 साल बाद लोग वाल्थटी का नाम भूल गए हैं.

वो ताबड़तोड़ पारी
सबसे पहले वाल्थटी की उस पारी को याद कर लेते हैं जिसने रातों रातों उन्हें स्टार बना दिया. 13 अप्रैल 2011 का दिन था. मोहाली के मैदान पर धोनी की टीम ने किंग्स इलेवन के सामने 189 रनों का विशाल लक्ष्य रखा था. पंजाब से लोगों को जीत की उम्मीद नहीं थी. लेकिन 10 ओवर के खेल में ही वाल्थटी ने तहलका मचा दिया. एडम गिलक्रिस्ट के साथ पारी की शुरुआत करने आए वाल्थटी ने मैदान पर रनों की बारिश कर दी. उन्होंने सिर्फ 52 गेंदों पर शतक ठोक दिया. सिर्फ 63 गेंदों पर 120 रन. इस दौरान उन्होंने 19 चौके और दो छक्के लगाए. उन्होंने स्टाइरिस से लेकर अश्विन और मॉर्कल हर गेंदबाज़ पर ताबड़तोड़ हमले किए. आईपीएल 2011 के सीजन में वाल्थटी ने 14 मैचों में 463 रन बनाए थे.

कहां हैं वाल्थटी?
आईपीएल के अगले सीज़न में वाल्थटी का बल्ला नहीं चला. कलाई में चोट के चलते उनका इंटरनेशनल क्रिकेट में खेलने का सपना टूट गया. चोट के चलते वो पुरानी फॉर्म में कभी नहीं लौट सके. वाल्थटी इन दिनों एयर इंडिया के लिए खेलते हैं. वो एयर इंडिया के लिए ही नौकरी करते हैं. साल 2018 में लोगों ने उन्हें मुंबई टी-20 लीग में देखा लेकिन वो अपना पुराना रंग नहीं दिखा सके. उनके टैलेंट को देखते हुए लोगों को उम्मीद थी को वो भारत के लिए खेल सकते हैं. लेकिन ऐसा नहीं हो सका.



तकदीर का तमाशा
तकदीर ने हर बार वाल्थटी की उम्मीदें जगाकर दगा दे दी. साल 2001 में उन्हें मुंबई की रणजी टीम के संभावित खिलड़ियों में जगह दी गई. अगले साल उन्हें अंडर 19 वर्ल्ड कप में खेलने का मौका मिला. वर्ल्ड कप में बांग्लादेश के खिलाफ मैच में उनकी आंखों में चोट लग गई. इसके बाद वो रणजी का मैच कभी नहीं खेल पाए. इसके बाद साल 2012 में कलाई में चोट ने उन्हें आईपीएल से भी दूर कर दिया. सिर्फ 28 साल की उम्र में ही वो क्रिकेट से गायब हो गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज