खेल

CSK VS RR: महेंद्र सिंह धोनी को देखते ही युवा यशस्वी ने जोड़ लिए हाथ, ऐसा था माही का रिएक्शन

एम एस धोनी से मिले यशस्वी जायसवाल
एम एस धोनी से मिले यशस्वी जायसवाल

18 साल के यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) पहली बार आईपीएल (IPL) में राजस्थान रॉयल्स (Rajasthan Royals) की ओर से खेल रहे हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2020, 8:30 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने भले ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया हो पर वह अभी भी युवा खिलाड़ियों के लिए एक प्रेरणा हैं. दिग्गजों से लेकर युवा खिलाड़ियों तक हर कोई धोनी का मुरीद है. कभी सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को पूजने वाले धोनी आज खुद कई युवाओं के भगवान बने हुए हैं. धोनी से मिलना उनके साथ खेलना कई खिलाड़ियों के लिए सपने जैसा होता है. ऐसे में जब अंडर19 वर्ल्ड कप का स्टार बनकर उभरे यशस्वी जायसवाल (Yashsvi Jaiswal) का मौका मिला तो वह माही के प्रति अपना सम्मान दिखाना नहीं भूले.

धोनी को देखकर यशस्वी ने जोड़े हाथ
मुंबई के यशस्वी जायसवाल की कहानी आज लगभग हर क्रिकेट प्रेमी जानता है. गोलगप्पे बेचने वाले इस लड़के ने अंडर19 वर्ल्ड कप में रनों का अंबार लगा दिया था. उनके रिकॉर्ड प्रदर्शन के पहले ही राजस्थान उन्हें अपनी टीम में शामिल कर चुकी थी. आईपीएल में मंगलवार को राजस्थान रॉयल्स और माही की टीम चेन्नई सुपर किंग्स आमने-सामने थी. ऐसे में जब धोनी युवा यशस्वी के सामने आए तो वह अपनी भावनाओं को रोक नहीं पाए.





मैच शुरू होने से पहले धोनी मैदान पर वार्मअप कर रहे थे तभी जायसवाल की मुलाकात धोनी के साथ हुई. दोनों ने पहले नियमों के अनुसार हाथ न मिलाते हुए फिस्ट पंप किया. इसके बाद यशस्वी धोनी के सामने दोनों हाथ जोड़कर खड़े हो गए. उनकी यह सादगी फैंस को बेहद पसंद आई और सोशल मीडिया पर यह वीडियो काफी वायरल हो गया. इस दौरान महेंद्र सिंह धोनी यशस्वी को देखकर मुस्कुराते रहे और बात करते रहे

पहले मैच में कमाल नहीं कर पाए जायसवाल
जायसवाल ने राजस्थान रॉयल्स की ओर से ओपनिंग की लेकिन ज्यादा कमाल नहीं दिखा पाए. उनकी टीम फिर भी जीत हासिल करने में कामयाब रही. इस साल की शुरुआत में खेले गए अंडर-19 वर्ल्ड कप में जायसवाल ने 6 पारियों में 5 हाफ सेंचुरी लगाई थीं. जिस मैच में वह ऐसा नहीं कर पाए वहां भी वजह यह थी कि टीम को लक्ष्य ही 42 रन का मिला था. भारत को हालांकि फाइनल में बांग्लादेश के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था लेकिन बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने कई लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज