IPL 2021 Auction: नीलामी के दौरान सभी फ्रेंचाइजी को इन नियमों का रखना होगा ध्यान

IPL 2021: आईपीएल 14वें सीजन की नीलामी 18 फरवरी को चेन्नई में (IPL/Twitter)

IPL 2021 Auction: आईपीएल के 14वें सीजन के लिए आज चेन्नई में होने वाली नीलामी में 292 खिलाड़ियों की फाइनल लिस्ट में से 61 खाली स्लॉट के लिए खिलाड़ी चुने जाएंगे.

  • Share this:
    नई दिल्ली. इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन (IPL 2021) के लिए आज चेन्नई (Chennai) में नीलामी होगी. 292 खिलाड़ियों की फाइनल ऑक्शन लिस्ट (IPL Auction 2021) में से 61 खाली स्लॉट के लिए सभी फ्रेंचाइजी बोली लगाएंगी. ऑक्शन लिस्ट में 164 भारतीय, 125 विदेशी और एसोसिएट देशों के तीन खिलाड़ियों को भी जगह मिली है. नीलामी की शुरुआत बल्लेबाजों से होगी. इसके बाद ऑलराउंडर्स और विकेटकीपर्स पर फ्रेंचाइजी बोली लगाएंगी. नीलामी के दौरान सबकी इस बात पर नजर रखती है कि किस खिलाड़ी को सबसे ज्यादा कीमत पर खरीदा गया. कौन सा खिलाड़ी किस टीम के साथ जुड़ा और किस फ्रेंचाइजी ने सबसे ज्यादा खिलाड़ी खरीदे. हालांकि इस पूरी प्रक्रिया के दौरान आठों फ्रेंचाइजी को जरूरी गाइडलाइन का भी पालन करना होगा. जानिए वो तमाम नियम जिस पर फ्रेंचाइजी को अमल करना होगा.

    पर्स से ज्यादा पैसा खर्च नहीं कर सकती फ्रेंचाइजी
    नीलामी में कोई भी फ्रेंचाइजी खिलाड़ियों को खरीदने के लिए अपने पर्स में बची रकम से ज्यादा का इस्तेमाल नहीं कर सकेगी. खिलाड़ियों को खरीदने के लिए हर फ्रेंचाइजी को 85 करोड़ रुपए अलॉट किए गए हैं. आज होने वाले मिनी ऑक्शन में पंजाब किंग्स के पर्स में सबसे ज्यादा 53.2 करोड़ रुपए हैं. वहीं, सनराइजर्स हैदराबाद( SRH) और कोलकाता नाइट राइडर्स( KKR) के पर्स में सबसे कम 10.75 करोड़ रुपए हैं.



    IPL Auction 2021 Live: आईपीएल के 14वें सीजन की नीलामी का लाइव अपडेट देखने के लिए यहां क्लिक करें

    IPL auction 2021: आईपीएल 14वें सीजन की नीलामी में इन 292 खिलाड़ियों पर लगेगी बोली, जानें सबका बेस प्राइस

    फ्रेंचाइजी को कुल पर्स का 70 फीसदी खर्च करना होगा
    हर फ्रेंचाइजी को अलॉट किए गए 85 करोड़ के पर्स में से खिलाड़ियों को खरीदने के लिए 75 फीसदी राशि खर्च करना होगी. अगर कोई फ्रेंचाइजी 70 फीसदी रकम खर्च करके अपना स्क्वॉड पूरा कर लेती है, तो बची हुई पांच फीसदी राशि सीधे बीसीसीआई के पास चली जाएगी. मिनी ऑक्शन में पंजाब किंग्स (53.2 करोड़ रु.), राजस्थान रॉयल्स( 37.85 करोड़ रु.) और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलरु(35.4 करोड़ रु.) के पास सबसे ज्यादा रकम है. ऐसे में इनकी नजर बड़े खिलाड़ियों पर होगी.

    राइट टू मैच कार्ड का विकल्प नहीं होगा
    मिनी ऑक्शन होने की वजह से फ्रेंचाइजी आईपीएल 2021 में खिलाड़ियों को रिटेन करने के लिए राइट टू मैच यानी आरटीएम कार्ड का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगी. फ्रेंचाइजी मेगा ऑक्शन में ही इसका प्रयोग कर सकती हैं. ऐसे में अगर किसी फ्रेंचाइजी ने ऑक्शन से पहले किसी खिलाड़ी को रिलीज किया होगा. तो उसे वापस टीम से जोड़ने के लिए सबसे बड़ी बोली की रकम चुकानी होगी. आरटीएम कार्ड के जरिए फ्रेंचाइजी अपने किसी पुराने खिलाड़ी को नीलामी में दोबारा हासिल कर सकती है. हालांकि, इसके लिए उसे नीलामी में संबंधित खिलाड़ी पर लगी सबसे बड़ी बोली की रकम चुकानी होगी. मान लीजिए किसी फ्रेंचाइजी ने किसी खिलाड़ी को रिटेन नहीं किया है. मगर ऑक्शन में वो उसे अपने पास रखना चाहती है. ऐसे में फ्रेंचाइजी आरटीएम का इस्तेमाल कर सकती है और नीलामी के दौरान खिलाड़ी पर लगी सबसे ज्यादा बोली के बराबर की कीमत चुकाकर खिलाड़ी को दोबारा टीम में शामिल कर सकती है. फ्रेंचाइजी अधिकतम 5 खिलाड़ियों को इसके जरिए टीम से जोड़ सकती है.

    IPL 2021 Auction लाइव स्ट्रीमिंग: जानें कब, कहां और कैसे देखें

    किसी भी टीम में अधिकतम 25 खिलाड़ी ही होंगे
    बीसीसीआई ने हर टीम में खिलाड़ियों की अधिकतम और न्यूनतम संख्या तय कर रखी है. सभी फ्रेंचाइजी अपनी टीम में अधिकतम 25 और न्यूनतम 18 खिलाड़ी रख सकती हैं. किसी भी टीम में ज्यादा से ज्यादा 8 विदेशी खिलाड़ी हो सकते हैं. विराट कोहली की अगुवाई वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के पास सबसे ज्यादा 11 स्लॉट खाली हैं और सनराइजर्स हैदराबाद के पास सिर्फ तीन स्लॉट खाली हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.