चेतन सकारिया के पिता को हुआ कोरोना, IPL 2021 से लौटते ही अस्‍पताल पहुंचे, इलाज में लगाया कमाई का पैसा

चेतन सकारिया ने राजस्‍थान रॉयल्‍स के लिए शानदार प्रदर्शन किया था (PTI)

चेतन सकारिया (Chetan Sakariya) ने कहा कि लोग कहते हैं आईपीएल (IPL 2021) रोक दो. मगर वह कहना चाहते हैं वह अपने परिवार में इकलौते कमाने वाले हैं और उनकी कमाई का जरिया सिर्फ क्रिकेट ही है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. आईपीएल (IPL 2021) के 14वें सीजन को कोरोना के कारण स्‍थगित कर दिया गया है. सभी खिलाड़ी अपने अपने घर लौटने लगे हैं. आईपीएल के इस सीजन में चमकने वाले राजस्‍थान रॉयल्‍स के तेज गेंदबाज चेतन सकारिया ( Chetan Sakariya) आईपीएल से लौटने के बाद सीधे अस्‍पताल पहुंचे. दरअसल उनके पिता कोरोना से जंग लड़ रहे हैं और वह अस्‍पताल में भर्ती हैं. भावनगर अपने घर पहुंचने के बाद सकारिया का अब ज्‍यादातर समय अस्‍पताल में ही गुजरता है.

    इस तेज गेंदबाज ने आईपीएल के इस सीजन में मिले पैसे पिता के इलाज में लगा दिए हैं. इंडियन एक्‍सप्रेस की खबर के अनुसार सकारिया ने कहा कि वह खुशकिस्‍मत हैं कि राजस्‍थान रॉयल्‍स ने उन्‍हें कुछ दिन पहले ही पैसे दिए. उन्‍होंने अपनी इस कमाई को घर भेज दिया, जो इस मुश्किल समय में परिवार के काम आ रहा है. आईपीएल टलने के बाद वह पीपीई किट पहनकर अपने पिता को देखने अस्‍पताल पहुंचे. उन्‍हें पिछले सप्‍ताह ही मालूम हुआ था कि उनके पिता कोरोना से जंग लड़ रहे हैं.

    आईपीएल की कमाई से ही पिता को दिला सकते हैं बेहतर इलाज 

    इस उभरते गेंदबाज ने कहा कि वह अपने पिता के बेहतर इलाज के लिए आईपीएल के इस सीजन से हुई पूरी कमाई को लगा देंगे. राजस्‍थान ने इस खिलाड़ी को 1.2 करोड़ रुपये में खरीदा था. उन्‍होंने इस सीजन में 7 मैच में 7 विकेट लिए थे, जिसमें एमएस धोनी, सुरेश रैना, केएल राहुल के विकेट शामिल हैं. सकारिया के परिवार की बात करें तो उनके पिता एक समय टेम्‍पो चलाते थे. मगर दो साल पहले उन्‍होंने यह नौकरी छोड़ दी थी.

    यह भी पढ़ें : 

    भारतीय टीम में पहली बार एक साथ शामिल हुए 5 ऐसे तेज गेंदबाज, इंग्लैंड में 15 साल बाद मिलेगी जीत?

    World Test Championship फाइनल के लिए इस दिन इंग्‍लैंड के लिए रवाना होगी भारतीय टीम

    ऐसे में पिता के इलाज के लिए आईपीएल उनके लिए एक मसीहा बनकर आया. उन्‍होंने कहा कि लोग कहते हैं कि आईपीएल रोक दो. मगर वे उनसे कहना चाहते हैं कि वह अपने परिवार में इकलौते कमाने वाले हैं और क्रिकेट ही उनकी कमाई का एकमात्र जरिया है. अगर यह टूर्नामेंट एक महीने के लिए भी नहीं होता तो उनके लिए काफी मुश्किल हो जाती.