रविचंद्रन अश्विन के परिवार के 10 सदस्य कोरोना संक्रमित, पत्नी प्रीति ने बताया- कैसे थे हालात

श्विन ने रविवार को चेन्नई में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मुकाबला खेलने के बाद टि्वटर पर घोषणा की थी कि वह आईपीएल के मौजूदा सत्र से हट रहे हैं.

श्विन ने रविवार को चेन्नई में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मुकाबला खेलने के बाद टि्वटर पर घोषणा की थी कि वह आईपीएल के मौजूदा सत्र से हट रहे हैं.

आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स का प्रतिनिधित्व करने वाले ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने कोरोना से जूझ रहे परिवार की सहायता के लिए इस लीग को बीच में ही छोड़ने का फैसला किया था. अश्विन की पत्नी प्रीति ने बताया कि उनका परिवार किस तरह के हालात से गुजरा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2021, 10:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) की पत्नी प्रीति नारायणन ने शुक्रवार को कहा कि उनके परिवार के दस सदस्य पिछले सप्ताह कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. दिल्ली कैपिटल्स के स्पिनर अश्विन ने कोरोना से जूझ रहे परिवार की सहायता के लिए रविवार को आईपीएल बीच में ही छोड़ने का फैसला किया था. प्रीति ने सिलसिलेवार ट्वीट में बताया कि उनका परिवार किस तरह के हालात से गुजरा है.

उन्होंने कहा, ‘एक ही सप्ताह में परिवार के छह बड़े और चार बच्चे पॉजिटिव हो गए. अलग-अलग अस्पतालों में सभी भर्ती थे. पूरे सप्ताह यह बुरा सपना जारी रहा. तीन में से एक अभिभावक घर लौट आए हैं.’ उन्होंने कहा, ‘टीका (वैक्सीन) लगवा लीजिए, अपनी और अपने परिवार की इस महामारी से सुरक्षा कीजिए.’

प्रीति ने कहा, ‘मानसिक रूप से स्वस्थ होने की बजाय शारीरिक रूप से स्वस्थ होना आसान है, पांचवें से आठवां दिन सबसे खराब समय था. हर कोई मदद की पेशकश कर रहा था लेकिन कोई आपके पास नहीं था. यह बीमारी आपको बिल्कुल अकेला कर देती है.’

अश्विन ने रविवार को चेन्नई में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मुकाबला खेलने के बाद टि्वटर पर घोषणा की थी कि वह आईपीएल के मौजूदा सत्र से हट रहे हैं. अश्विन चेन्नई के ही रहने वाले हैं. अश्विन ने कहा था कि उनका परिवार कोविड-19 के खिलाफ लड़ रहा है और वह इस मुश्किल वक्त में उनके साथ रहना चाहते हैं. कोरोना वायरस महामारी का असर पूरी दुनिया पर पड़ा है लेकिन भारत में हाल काफी खराब हैं. महामारी की दूसरी लहर ने भारत को बुरी तरह झकझोरा है और देश में रोजाना करीब 3 लाख मामले सामने आ रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज