IPL 2021: काेरोना के बीच खिलाड़ियों को नाडा से मिली छूट, इस बार कम सैंपल लिए जाएंगे

IPL 2021: देवदत्त पडिक्कल कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं.  (फोटो-देवदत्त पडिक्कल इंस्टाग्राम)

IPL 2021: देवदत्त पडिक्कल कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं. (फोटो-देवदत्त पडिक्कल इंस्टाग्राम)

आईपीएल (IPL 2021) का मौजूदा सीजन कोरोना (covid-19) के कारण सिर्फ 6 वेन्यू पर खेला जा रहा है. इस बार कोई भी टीम होम ग्राउंड पर मुकाबला नहीं खेल सकेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 12:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना (covid-19) के कारण आईपीएल (IPL 2021) का मौजूदा सीजन प्रभावित रहा है. इस बार सिर्फ 6 वेन्यू पर मुकाबले हो रहे हैं. इस बीच कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं. इस कारण इस बार टी20 लीग में खेल रहे खिलाड़ियों के नमूने की जांच कम हाेगी. खिलाड़ियों की सुरक्षा के लिए यह कदम उठाया गया है. लीग के 9 अप्रैल से 30 मई तक खेले जाएंगे. प्लेऑफ और फाइनल मैच अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेला जाएगा.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार, 2020 में यूएई में हुए टी20 लीग के दाैरान 50 से अधिक खिलाड़ियों के सैंपल लिए गए थे. लेकिन कोरोना के बढ़ते केस के कारण इस बार सिर्फ 30 खिलाड़ियों का टेस्ट होगा. ये सभी खिलाड़ी नाडा (नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी) और आईसीसी रजिस्टर्ड टेस्टिंग पूल में शामिल हैं. नाडा ही देश में खिलाड़ियों की जांच करता है. नाडा टूर्नामेंट के बाहर खिलाड़ियों की टेस्टिंग करेगा.

जानकारी के मुताबिक इस बार सिर्फ अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों की जांच की जाएगी. बायाे बबल के बाद भी कई टीम के खिलाड़ी व सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. इस कारण नाडा ने इस तरह का फैसला किया है, ताकि बड़ी संख्या में खिलाड़ी इससे प्रभावित ना हों. यूएई में हुए टूर्नामेंट के दौरान नाडा ने तीन वेन्यू पर पांच डोप कंट्रोल बनाए थे. इस बार सिर्फ तीन वेन्यू दिल्ली, अहमदाबाद और मुंबई में डोप कंट्रोल स्टेशन बनाए जाएंगे.

यह भी पढ़ें: IPL 2021: हर्षल पटेल गुजरात से अमेरिका जाते-जाते बन गए हरियाणवी कप्तान, जानें दिलचस्प सफर
सैंपल की जांच जर्मनी या बेल्जियम में होगी

नेशनल लैब पर फिलहाल बैन लगा हुआ है. इस कारण सैंपल को जांच के लिए देश के बाहर भेजना पड़ता है. इस कारण खिलाड़ियों के सैंपल को जर्मनी या बेल्जियम भेजा जाएगा. खिलाड़ियों की जांच कम करने के पीछे एक और बड़ा कारण यह है कि यूएई में टेस्ट के दौरान सभी खिलाड़ियों का रिजल्ट निगेटिव आया था. इससे पहले भारत और इंग्लैंड सीरीज के दौरान भी 6 खिलाड़ियों के सैंपल लिए गए थे और सभी निगेटिव आए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज