KKR vs RCB IPL Match Rescheduled: दो खिलाड़ी कोरोना संक्रमित, RCB-KKR मैच टला, जानिए कहां हुई चूक ?

KKR ने आईपीएल 2021 में पिछला मैच 29 अप्रैल को दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ खेला था. (KKR Twitter)

आईपीएल 2021(IPL 2021) में हिस्सा ले रहे खिलाड़ियों को कोरोना से बचाने के लिए बीसीसीआई ने कड़ा बायो-बबल बनाया था. इसके बाद भी कोलकाता नाइट राइडर्स के दो खिलाड़ी वरुण चक्रवर्ती (Varun Chakravarthy) और संदीप वॉरियर (Sandeep Warrier) की रिपोर्ट पॉजिटिव आई. ऐसे में ये सवाल उठ रहा है कि आखिर कहां चूक हुई कि कोरोना ने लीग में दस्तक दे दी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. आईपीएल के 14वें सीजन (IPL 2021) में हिस्सा ले रहे खिलाड़ियों को कोरोना संक्रमण (Coronavirus Infection) से बचाने के लिए किए गए उपायों के बावजूद भी इस वायरस ने लीग में दस्तक दे दी. कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) के दो खिलाड़ी वरुण चक्रवर्ती (Varun Chakravarthy) और संदीप वॉरियर (Sandeep Warrier) की कोविड-19 टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. इसके बाद केकेआर का सोमवार शाम को रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर(RCB) के खिलाफ होने वाला मुकाबला स्थगित करना पड़ा है. इसके अलावा बाकी खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ को भी आइसोलेट किया गया है.

    अब सवाल ये उठता है कि जब खिलाड़ियों के लिए इतना सख्त बायो-बबल तैयार किया गया था. तो फिर वो कैसे संक्रमित हो गए. आखिर कहां चूक हुई? किसकी गलती से वायरस के कारण लीग पर खतरे मंडराने लगा है.

    इसे भी पढ़ें, KKR के गेंदबाज कमिंस ने IPL खेल रहे अपने देश के खिलाड़ियों को किया सतर्क

    आईपीएल 2021 के शुरू होने के बाद से बायो-बबल(Bio-Bubble) के भीतर खिलाड़ियों के कोरोना संक्रमित होने का ये पहला मामला है. वो भी तब, जब कुछ दिन पहले ही बीसीसीआई के अंतरिम चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर ने सभी आठों फ्रेंचाइजी को भेजे ई-मेल में ये भरोसा दिलाया था कि भारत में बढ़ते कोरोना के मामलों के बावजूद सब बायो-बबल में सुरक्षित रखेंगे. इस भरोसे को पूरा करने के लिए भी बीसीसीआई ने 7 दिन पहले ही बायो-बबल को पहले के मुकाबले और सख्त और सुरक्षित कर दिया था. जहां पहले खिलाड़ियों का हर पांच दिन पर कोरोना टेस्ट हो रहा था. उसके बदले हर दो दिन पर कोविड-19 के टेस्ट होने शुरू हो गए थे. इसके अलावा खिलाड़ियों के होटल से बाहर से खाना मंगाने पर भी रोक लगा दी गई थी.

    कोलकाता टीम ने टूर्नामेंट से पहले मुंबई में कैंप लगाया था
    इतने सुरक्षा और स्वास्थ्य इंतजामों के बाद भी अगर खिलाड़ी संक्रमित पाए गए हैं तो इसका मतलब कहीं न कहीं चूक या गलती हुई है. कोलकाता टीम की ही अगर बात करें तो आईपीएल 2021 से शुरू होने से पहले मार्च के आखिरी हफ्ते में ही टीम ने मुंबई में कैंप लगाया था. यहां के एक होटल में बायो-बबल तैयार किया गया था. हालांकि, इसी दौरान टीम के बल्लेबाज नीतीश राणा कोरोना संक्रमित पाए गए थे. जिन्हें आइसोलेशन में रखा गया था. उसके बाद टीम आईपीएल के शुरुआती तीन मैच खेलने के लिए चेन्नई पहुंचीं. यहां अलग से बायो-बबल तैयार हुआ था. चेन्नई में केकेआर ने 18 अप्रैल को आखिरी मैच खेला और इसके बाद आगे के मुकाबलों के लिए टीम वापस मुंबई लौट आई.

    इसे भी पढ़ें, वॉर्नर को टीम से बाहर किए जाने से हैरान ब्रेट ली, गिनाई उनकी खेल की खूबियां

    यात्रा और होटल इंतजामों की कमी से संक्रमित हुए खिलाड़ी
    मुंबई में दूसरी बार टीम के लिए बायो-बबल तैयार किया गया. आशंका है कि इसी दौरान कोई चूक हुई. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जिस होटल में कोलकाता टीम ठहरी थी. उसके कुछ कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए थे. मुंबई में दो मैच खेलने के हफ्ते भर बाद कोलकाता टीम को दोबारा यात्रा करनी पड़ी. इस बार टीम मैच खेलने के लिए अहमदाबाद पहुंचीं थी. इस बात की भी आशंका है कि एयरपोर्ट से आवाजाही के दौरान खिलाड़ी वायरस की चपेट में आए हों. कोलकाता टीम ने अहमदाबाद में 26 अप्रैल को पहला और 29 अप्रैल को दूसरा मैच खेला था और उसे सोमवार (3 मई) को यहां तीसरा मैच खेलना था. ऐसे में यात्रा और होटल में संक्रमण रोकने के इंतजाम में चूक से ही खिलाड़ी संक्रमित हुए हैं.

    ईएसपीएन क्रिकइंफो के मुताबिक, वरुण चक्रवर्ती हाल ही में आधिकारिक ग्रीन चैनल के जरिए अपने कंधे का स्‍कैन कराने के लिए आईपीएल के बायो बबल से बाहर निकले थे और आशंका है कि इसी दौरान वायरस की चपेट में आ गए.

    यह भी पढ़ें : IPL 2021: डेविड वॉर्नर को टीम से बाहर किए जाने पर सनराइजर्स हैदराबाद पर भड़के उनके भाई, बताई असली वजह

    BCCI ने आईपीएल 2021 के लिए सख्त बायो-बबल तैयार किया था
    बीसीसीआई ने आईपीएल 2021 के लिए सख्त बायो-बबल तैयार किया था. सभी टीमों के लिए बीसीसीआई ने चार सुरक्षाकर्मी तैनात किए थे. जिनके ऊपर बायो-बबल के नियम का पालन कराने की जिम्मेदारी थी. इसके अलावा टीम के बायो-बबल से किसी को भी बाहर जाने की इजाजत नहीं थी.

    IPL 2021: टेबल में नंबर-1 पर पहुंचने के बाद ऋषभ पंत का बड़ा बयान- टीम में होगा बदलाव

    वहीं, बायो-बबल में शामिल हर सदस्य को ट्रैकिंग डिवाइस दी गई थी. ये डिवाइस घड़ी की तरह थी और खिलाड़ी को हर वक्त इसे पहनना था. ऐसा इसलिए किया गया था कि अगर कोई सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाया जाता है, तो फिर इस डिवाइस के जरिए ये पता लगाया जाता कि उस शख्‍स के करीब कौन-कौन से सदस्‍य आए थे. वहीं, दूसरे देश से आए खिलाड़ियों या बायो-बबल से बाहर जाने वाले खिलाड़ियों को सात दिन क्वारेंटाइन का नियम भी था. इस सबके बावजूद अगर खिलाड़ी संक्रमित पाए गए हैं तो इंतजामों पर सवाल उठना लाजिमी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.