IPL 2021: पडिक्कल को RCB के बायो-बबल में सीधे एंट्री देने से दूसरी टीमें नाराज, क्वारंटीन पीरियड पर उठे सवाल

IPL 2021: देवदत्त पडिक्कल ने जड़ा शतक (RCB/Twitter)

IPL 2021: देवदत्त पडिक्कल ने जड़ा शतक (RCB/Twitter)

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (Royal Challengers Bangalore) के सलामी बल्लेबाज देवदत्त पडिक्कल (Devdutt Padikkal) को कोरोना से ठीक होने के बाद टीम के बायो-बबल में सीधे एंट्री देने से दूसरी टीमें नाराज हैं. आईपीएल फ्रेंचाइजी इस बात को लेकर गुस्सा हैं कि पडिक्कल को निर्धारित 7 दिन का क्वारंटीन पीरियड पूरा किए बिना बायो बबल में एंट्री दे दी गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 7:59 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर(Royal Challengers Bangalore) के सलामी बल्लेबाज देवदत्त पडिक्कल (Devdutt Padikkal) को कोरोना से ठीक होने के बाद टीम के बायो-बबल(Bio-Bubble Rule) में सीधे एंट्री देने से दूसरी टीमें नाराज हो गई हैं. आईपीएल फ्रेंचाइजी इस बात को लेकर गुस्सा हैं कि पडिक्कल को निर्धारित सात दिन का क्वारंटीन पीरियड पूरा किए बिना बायो बबल में एंट्री दे दी गई, जबकि नियमों के तहत ऐसा होना जरूरी है. पडिक्कल 22 मार्च को कोरोना संक्रमित पाए गए थे. इसके बाद वो होम क्वारंटीन हो गए थे और पूरी तरह ठीक होने के वो 7 अप्रैल को टीम से जुड़ गए थे. हालांकि, वो शुक्रवार को मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के खिलाफ टीम के पहले मैच में नहीं खेल पाए.

आरसीबी टीम मैनेजमेंट ने क्रिकबज को बताया कि उन्होंने बीसीसीआई द्वारा तय किए गए सभी प्रोटोकॉल का पालन किया है. पडिक्कल की तीन कोरोना रिपोर्ट निगेटिव थी. टीम ने इस संबंध में एक बयान भी जारी किया. इसके मुताबिक, हमें ये बताते हुए खुशी हो रही है कि आरसीबी के बाएं बाथ के बल्लेबाज देवदत्त पडिक्कल 7 अप्रैल को टीम में शामिल हो गए हैं. बीसीसीआई प्रोटोकॉल के तहत उनकी सभी कोरोना रिपोर्ट निगेटव थी. फिलहाल, आरसीबी की मेडिकल टीम उनके संपर्क में हैं. एक फ्रेंचाइजी के अधिकारी ने कहा कि अगर घर में क्वारंटीन में रहना मंजूर किया जाता, तो हमारी टीम के कई सदस्य ऐसा करते.

इसे भी पढ़ें, 3 साल पहले मार्को ने कोहली को किया था परेशान, अब उन्हीं के खिलाफ मिला डेब्यू का मौका
बीसीसीआई का नियम क्या कहता है ?

बीसीसीआई ने आईपीएल को लेकर 19 मार्च को सभी पक्षों को जो कोरोना प्रोटोकॉल भेजा था. उसमें ये साफ लिखा गया है कि किसी भी टीम के बायो-बबल में प्रवेश करने से पहले होटल में अनिवार्य रूप से सात दिन क्वारंटीन होना पड़ेगा. नियम के मुताबिक, सभी फ्रेंचाइजी के टीम मेंबर्स बबल में प्रवेश करने से पहले अनिवार्य रूप से होटल के कमरे में 7 दिन के लिए क्वारंटीन होंगे. होटल में आने से लेकर सामूहिक ट्रेनिंग शुरू करने से पहले. सभी टीम के सदस्य जो बायो-बबल में शामिल होंगे वो तय किए गए आरटी-पीसीआर के टेस्ट से गुजरेंगे. इसके लिए उनकी नाक से स्वाब सैम्पल लिए जाएंगे. सैम्पल लेने के 8-12 घंटे बाद रिपोर्ट आएगी. इसके बाद अनिवार्य रूप से तीन बार आरटी-पीसीआर टेस्ट होंगे. तीनों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही किसी को भी टीम के बायो-बबल में प्रवेश करने की इजाजत होगी.

यह भी पढ़ें: IPL 2021: विराट कोहली से छूटा कैच लेकिन आंख में लगी गेंद, फिर भी मैदान पर जमे रहे

प्रवेश में देरी के लिए नियम क्या कहता है?



बाद में टीम के बायो-बबल में प्रवेश करने वाले सदस्य के लिए भी नियम स्पष्ट हैं. किसी भी खिलाड़ी को टीम के बायो-बबल में प्रवेश करने से पहले अनिवार्य रूप से होटल में 7 दिन के लिए क्वारंटीन होना जरूरी है. टीमों के बायो-बबल में प्रवेश करने के अगर कोई दूसरा खिलाड़ी इसमें शामिल होना चाहता है, तो उसे टीम होटल में ही 7 दिन के लिए क्वारंटीन होना होगा. लेकिन ये अवधि टीम के बायो-जोन बबल के बाहर पूरी करनी होगी. इसके लिए खिलाड़ी को अलग होटल के अलग फ्लोर या विंग में रखा जाएगा. 7 दिन की अवधि के दौरान अगर दूसरा, पांचवें और सातवें दिन उसकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आती है तो उसे टीम के बायो-बबल में ट्रांसफऱ किया जा सकता है. फ्रेंचाइजियों को कहना है कि पडिक्कल के मामले में भी ये नियम लागू होना चाहिए था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज