• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • T20 के नंबर-1 गेंदबाज ने कहा- हम बस सर्कस के जानवर बनकर रह गए, जानिए इसकी वजह

T20 के नंबर-1 गेंदबाज ने कहा- हम बस सर्कस के जानवर बनकर रह गए, जानिए इसकी वजह

IRE vs SA: तबरेज शम्सी ने आयरलैंड के खिलाफ हाल ही में खत्म हुई वनडे सीरीज में पांच विकेट लिए थे. (Tabraiz Shamsi Twitter)

IRE vs SA: तबरेज शम्सी ने आयरलैंड के खिलाफ हाल ही में खत्म हुई वनडे सीरीज में पांच विकेट लिए थे. (Tabraiz Shamsi Twitter)

बायो-बबल (Bio-Bubble) में लगातार रहने का असर अब क्रिकेट खिलाड़ियों पर भी पड़ रहा है. आयरलैंड दौरे पर गए दक्षिण अफ्रीका (Ireland vs South Africa) के स्पिनर तबरेज शम्सी (Tabraiz Shamsi) ने इसे लेकर कहा कि कोई क्रिकेट खिलाड़ियों और उनके परिवार की परेशानी पूरी तरह से नहीं समझ पा रहा है. लग रहा है कि हम सर्कस की जानवरों की तरह हैं, जिन्हें प्रैक्टिस और मैच के वक्त ही बाहर लाया जाता है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोरोना महामारी (Covid-19 Pandemic) पूरी दुनिया पर भारी साबित हो रही है. लॉकडाउन, आर्थिक नुकसान और मानसिक थकान से हर कोई परेशान है. क्रिकेट खिलाड़ी भी इससे अछूते नहीं है. उन्हें भी कोरोना के कारण लंबे वक्त तक बायो-बबल में रहना पड़ रहा है. अब उनका भी सब्र टूट रहा है. क्योंकि उन्हें लंबे वक्त तक परिवार से भी दूर रहना पड़ रहा है. टी20 रैंकिंग में दुनिया के नंबर-1 गेंदबाज तबरेज शम्सी (Tabraiz Shamsi) भी लगातार बायो-बबल (Bio-Bubble) में रहने से परेशान हो गए हैं. वो फिलहाल, दक्षिण अफ्रीका टीम (South Africa Cricket Team) के साथ आयरलैंड दौरे पर हैं.

    दक्षिण अफ्रीका के स्पिनर शम्सी ने बायो-बबल को लेकर ट्वीट किया कि मुझे नहीं लगता कि हर कोई सही मायने में इन चीजों का हम पर, हमारे परिवारों और क्रिकेट के बाहर हमारी जिंदगी पर पड़ रहे प्रभाव को समझता है. कभी-कभी तो ऐसा लगता है कि हम सर्कस के जानवरों की तरह हैं, जिन्हें प्रैक्टिस और मैच खेलने के समय पर ही बाहर ले जाया जाता है. ताकि भीड़ का मनोरंजन हो सके. ये किसी एक खिलाड़ी या टीम का दर्द नहीं है. कोरोना के दौरा में हर खिलाड़ी को इसी तरह के हालात का सामना करना पड़ा रहा है.

    छूट के कारण भारतीय क्रिकेटर कोरोना संक्रमित हुए
    हाल ही में इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) की बायो-बबल में खिलाड़ियों को ढील देने को लेकर आलोचाना हुई थी. क्योंकि इसी वजह से टीम के तीन खिलाड़ी और सपोर्ट स्टाफ के चार सदस्य कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए थे और इंग्लैंड को पाकिस्तान के खिलाफ 18 सदस्यीय नई टीम का ऐलान करना पड़ा था.

    ये इंग्लैंड में कोरोना संक्रमण का इकलौता मामला नहीं था. भारतीय टीम मैनेजमेंट ने भी खिलाड़ियों को बीस दिन का ब्रेक दिया था. इसी दौरान विकेटकीपर ऋषभ पंत (Rishabh Pant) औऱ सपोर्ट स्टाफ मेंबर दयानंद घरानी (Dayanand Garani) कोरोना पॉजिटिव हो गए थे. इसके बाद बीसीसीआई सचिव जय शाह ने टीम मैनेजमेंट को चिठ्ठी लिखकर सतर्क रहने को कहा था.

    SA vs IRE: क्विंटन डीकॉक ने 16वां वनडे शतक ठोक रचा इतिहास, धोनी-गिलक्रिस्ट जैसे दिग्गज पीछे

    IRE vs SA: सिमी सिंह ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ ठोका शतक, भारत में टूटा सपना तो आयरलैंड में दिखाया दम!

    ECB ने खिलाड़ियों को बायो-बबल में छूट देने का फैसला किया
    विरोध के बावजूद ईसीबी के मुख्य कार्यकारी टॉम हैरिसन (Tom Harrison) ने हाल ही में कहा था कि बोर्ड ने खिलाड़ियों के कल्याण और उनके मानसिक स्वास्थ्य को देखते हुए बायो-बबल में छूट देने का फैसला किया है.

    ईएसपीएन क्रिकइंफो के हवाले से हैरिसन ने कहा था कि हम चाहते हैं कि लोग बाहर जाने और जिस टूर्नामेंट में हिस्सा ले रहे हैं, उसमें खेलने के बारे में अच्छा महसूस करें. फिर चाहें वो हंड्रेड, भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज या काउंटी क्रिकेट ही क्यों न हो. हम ऐसी जगह खिलाड़ियों को बंद नहीं करना चाहते हैं, जहां उन्हें लगे कि वो अपनी जिंदगी में सिर्फ एक ही भूमिका निभा रहे हैं. उनका काम अपनी टीम के लिए बाहर जाकर बल्लेबाजी या गेंदबाजी करना भर ही है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज