लाइव टीवी

Prime Time: लॉकडाउन में Live हुआ दर्द, स्टार खिलाड़ियों का 'अपमान' करता है BCCI

News18Hindi
Updated: May 23, 2020, 9:14 PM IST
Prime Time: लॉकडाउन में Live हुआ दर्द, स्टार खिलाड़ियों का 'अपमान' करता है BCCI
इरफान पठान, सुरेश रैना, अमित मिश्रा, मोहम्‍मद कैफ हर किसी ने चयनकर्ताओं पर सवाल उठाए

एक समय टीम इंडिया (Team India) की जान रहे इन क्रिकेटर्स का अब बीसीसीआई (BCCI) और टीम मैनेजमेंट से एक ही सवाल है कि उन्‍हें टीम से बाहर करने की सिर्फ वजह बता दें.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण क्रिकेट पूरी तरह से ठप पड़ा है और इस दौरान क्रिकेटर्स इंस्‍टाग्राम पर लाइव आ रहे हैं. लाइव में वह न सिर्फ फैंस से अपने अनुभव शेयर कर रहे हैं, बल्कि निजी जिंदगी पर भी बात कर रहे हैं. इसी दौरान वे क्रिकेटर्स भी सामने आए, जो काफी समय से टीम से बाहर हैं या फिर मौका न मिलने के बाद उन्‍हें मजबूरन संन्‍यास लेना पड़ा. इरफान पठान, सुरेश रैना (Suresh Raina) , अमित मिश्रा, मोहम्‍मद कैफ हर कोई सोशल मीडिया पर आया और इन सभी की बातचीत में एक जो बात कॉमन रही, वो थी टीम मैनेजमेंट का व्यवहार. हर किसी ने मौका मिलने पर टीम मैनेजमेंट के मुद्दे को उठाया, जिसे देखकर लगता है कि भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) एक समय स्‍टार रहे अपने इन खिलाड़ियों का सम्‍मान नहीं कर पा रहा है.

इरफान पठान

एक इंस्‍टाग्राम लाइव पर इरफान पठान (Ifran Pathan) ने कहा कि 2012 में श्रीलंका के खिलाफ मैच में खेली गई उनकी शानदार पारी आखिरी साबित हुई. पूर्व ऑलराउंडर ने कहा कि वो मैच उनका आखिरी मैच साबित हुआ था. उन्‍होंने कहा कि 30 साल की उम्र में ही उन्‍हें बूढ़ा बना दिया गया. इरफान ने कहा कि टीम मैनेजमेंट और उनके बीच आपसी बातचीत होनी चाहिए थी. टीम से बाहर किए जाने के बाद अगर वे बातचीत करते तो बहुत कुछ हो सकता है. उनसे, सुरेश रैना और हरभजन सिंह जैसे क्रिकेटर्स से बातचीत होनी चाहिए. मगर मुद्दा ये है कि बातचीत कौन करेगा. पठान ने लाइव सेशन में कहा कि बीसीसीआई और चयनकर्ताओं ने उनके बारे में कोई सोच कायम करने से पहले उनसे बात करना भी जरूरी नहीं समझा और 30 साल की उम्र में उन्‍हें बूढ़ा बना दिया. अगर वे लोग बातचीत करते और कहते ही इरफान तुम एक साल अपना बेस्‍ट करके दिखाओ तो तुम्‍हे टीम में मौका मिल सकता है तो निश्चित तौर पर वे अपना बेस्‍ट करके दिखाते.



cricket news, sports news, indian cricket team, suresh raina, virender sehwag, ravichandran ashwin, team india, क्रिकेट न्यूज, खेल, इंडियन क्रिकेट टीम, टीम इंडिया, सुरेश रैना, रविचंद्रन अश्विन, वीरेंद्र सहवाग
सुरेश रैना लंबे समय से टीम इंडिया से बाहर हैं.




सुरेश रैना

अपनी लाजवाब फील्डिंग के लिए पहचान बनाने वाले सुरेश रैना ने भी कुछ समय पहले बयान दिया था कि चयनकर्ताओं ने उन्‍हें टीम से बाहर रखा, मगर उन्‍हें कभी इसकी वजह नहीं बताई कि आखिर वे उनसे क्‍या चाहते हैं. वे किन लक्ष्‍यों को हासिल करें, ताकि टीम में वापसी हो सके. हालांकि एमएसके प्रसाद ने रैना के इन आरोपों को गलत बताया था. मगर इसके बाद इरफान पठान के साथ इंस्‍टाग्राम लाइव सेशन में रैना ने इस बात से इनकार किया कि एमएसके प्रसाद ने उनसे टीम से बाहर होने के कारणों पर कोई बात नहीं की. सुरेश रैना 2011 में वर्ल्‍ड कप ट्रॉफी जीतने वाली टीम इंडिया का भी हिस्‍सा थे. वही 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी की विजयी टीम का भी हिस्‍सा थे. उन्‍होंने 2018 में अपना आखिरी वनडे और टी20 मैच खेला था.

मोहम्‍मद कैफ

नेटवेस्‍ट सीरीज के हीरो रहे पूर्व मिडिल ऑर्डर बल्‍लेबाज मोहम्‍मद कैफ (mohammad kaif) भी एक लाइव में चयनकर्ताओं पर भी जमकर बरसे. उन्‍होंने कहा कि चयन समिति, टीम कोच या कप्‍तान को उन प्‍लेयर्स से बात करनी चाहिए, जिन्‍हें टीम से बाहर कर दिया गया. कैफ ने कहा कि हर खिलाड़ी देश के लिए खेल रहा है. हर खिलाड़ी का खराब समय आता है. मगर मैनेजमेंट को कम से कम उन्‍हें इस बारे में जानकारी देनी चाहिए कि उन्‍हें टीम से बाहर क्‍यों किया गया. जिससे वह घरेलू मैचों में सुधार करके वापसी कर सके.

amit mishra , virat kohli, cricket
अभ्‍यास सत्र के दौरान विराट कोहली के साथ अमित मिश्रा (फाइल फोटो)


अमित मिश्रा

भारत के स्‍टार लेग स्पिनर अमित मिश्रा (Amit Mishra) ने भी भारतीय चयनकर्ताओं पर सवाल उठाए थे. उन्‍होंने कहा कि हर स्‍तर पर बेहतरीन प्रदर्शन के बावजूद उन्‍हें टीम इंडिया (Team India) से बाहर रखा गया है. हालांकि फरवरी 2017 में इंग्‍लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में चोटिल होने के बाद वह भारत के लिए कोई मैच नहीं खेल पाए. मिश्रा ने कहा कि वह अभी भी खुद से पूछते हैं कि उनके साथ ऐसा क्‍यों हुआ. कोई भी उन्‍हें संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया. अमूमन चोट के कारण अगर किसी खिलाड़ी को बाहर किया जाता है तो फिट होने के बाद उसकी वापसी होती है. डेढ़ साल बाद ऋद्धिमान साहा की भी टीम में वापसी हुई. मगर उन्‍हें नहीं पता है कि उनके साथ ऐसा क्‍यों नहीं हुआ. अमित ने कहा कि चोट से उबरने के बाद आज तक चयनकर्ताओं ने या टीम मैनेजमेंट ने उनसे बात नहीं की. फिट होने पर उन्‍होंने चयनकर्ताओं से बात भी करने की कोशिश की, मगर कोई जवाब नहीं आया. उन्‍होंने आईपीएल भी खेला और उसके बाद कोई बात नहीं की. किसी ने फिटनेस के बारे में नहीं पूछा.

मनोज तिवारी 
भारतीय बल्‍लेबाज मनोज तिवारी के मन में भी यही सवाल है कि शतक लगाने के बावजूद उन्‍हें टीम से बाहर क्‍यों किया गया. हालांकि उनका यह सवाल सिर्फ एमएस धोनी से हैं, जो उस समय कप्‍तान थे. मगर तिवारी धोनी से कभी यह सवाल पूछ नहीं पाए. उनका कहना है कि अभी तक उन्‍होंने पूर्व भारतीय कप्‍तान एमएस धोनी से नहीं पूछा कि टीम इंडिया की तरफ से मेडन वनडे शतक लगाने के बावजूद आखिर क्‍यों उन्‍हें अगले मैच में प्‍लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया गया. तिवारी उन चुनिंदा बल्‍लेबाजों में से एक हैं, जो पिछले मुकाबले में शतक जड़ने के बावजूद अगले मुकाबले में मैदान पर नहीं उतर पाए. 2008 में इंटरनेशनल डेब्‍यू करने वाले तिवारी ने 2011 में चेन्‍नई में वेस्‍टइंडीज के खिलाफ नाबाद 104 रन की विजयी पारी खेली थी. इसके अगले ही मैच में उन्‍हें टीम से बाहर कर दिया गया. इसके बाद टीम से वह अंदर बाहर होते रहे .

ऑस्‍ट्रेलियाई दिग्‍गज की टेस्‍ट टीम में 4 भारतीय, कोहली की जगह बाबर आजम को जगह

खिलाड़ी ने दिया IPL पर बड़ा बयान, कहा- विश्व कप के बाद सबसे बड़ा टूर्नामेंट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2020, 8:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading