बेहतरीन ऑलराउंडर थे एक्टर इरफान खान, तेज गेंदबाजी से बल्लेबाजों के लिए बन गए खौफ

बेहतरीन ऑलराउंडर थे एक्टर इरफान खान, तेज गेंदबाजी से बल्लेबाजों के लिए बन गए खौफ
इरफान खान तेज गेंदबाज थे और लंबाई के कारण उन्‍हें अतिरिक्‍त उछाल का फायदा मिलता था (फाइल फोटो)

इरफान खान (Irrfan Khan) का चयन सीके नायडू टूर्नामेंट के लिए हो गया था, मगर पैसों की कमी के चलते वह हिस्‍सा नहीं ले पाए थे

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 10:00 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. एक्‍टर इरफान खान (Irrfan Khan) ने बुधवर को दुनियाा को अलविदा कह दिया. वें 53 साल के थे. इरफान जितने बेहतरीन एक्‍टर थे, उतने ही माहिर खेल के मैदान पर भी थे. एक्‍टर से पहले उनका सपना क्रिकेटर बनने का था. वो इस राह पर आगे भी बढ़ रहे थे. सीके नायडू टूर्नामेंट के लिए उनका चयन भी हो गया था, मगर पैसों की कमी के चलते वह टूर्नामेंट में हिस्‍सा नहीं ले पाए और इसके बाद उन्‍होंने नेशनल स्‍कूल ऑफ ड्रामा में एडमिशन लेने का फैसला किया.

उनके बचपन के दोस्‍त ने बताया कि वह एक अच्‍छे ऑलराउंडर थे. इंडियन एक्‍सप्रेस की खबर के अनुसार इरफान के बचपन के दोस्‍त भरत भटनागर ने बताया कि 1984 से 85 के बीच वें लोग साथ में एक ही क्‍लब से खेलते थे. हर शाम साढ़े चार से साढ़े छह बजे तक आयुर्वेदिक कॉलेज ऑफ जयपुर में अभ्‍यास करते थे.

लंबाई का मिलता था फायदा
भटनागर ने बताया कि वे और इरफान दोनों तेज गेंदबाज थे. मगर लंबाई की वजह से इरफान को अतिरिक्‍त उछाल में मदद मिलती थी. उन्‍होंने बताया कि इरफान अपनी अतिरिक्‍त उछाल वाली गेंदों से बल्‍लेबाजों को काफी परेशान करते थे.
टूर्नामेंट खेलने के लिए बोलना पड़ा झूठ


खबर के अनुसार इरफान की मां सईदा बेगम कड़क थीं और वो चाहती थीं कि उनका लाडला बेटा पढ़ाई पर ध्‍यान दें. इसीलिए कुछ टूर्नामेंट के लिए इरफान को झूठ भी बोलना पड़ा. हालांकि उनके पिता काफी सहायता करते थे.

गुंडप्पा विश्वनाथ के थे फैन
भटनागर के अनुसार उस समय कपिल देव (Kapil Dev) और गुंडप्‍पा विश्वनाथ इरफान के पसंदीदा क्रिकेटर थे. वह पाकिस्‍तानी दिग्‍गज इरफान खान और जहीर अब्‍बास के भी फैन थे. मगर वो सबसे ज्‍यादा प्रभावित विश्वनाथ के खेलने के तरीके से प्रभावित हुए थे. इरफान अक्‍सर विश्वनाथ के लिए कहते थे कि उनके जैसे खिलाड़ी कम होते हैं. इरफान के सबसे खास दोस्‍त ने कहा कि अगर उन्‍हें परिवार का साथ मिलता तो वें क्रिकेट के सितारे होते. कई बार उन्‍होंने ओपनिंग भी की है. इसीलिए वे अच्‍छे ऑलराउंडर भी थे. उन दिनों ऐसा टैलेंट कम ही लोगों में होता था.

पिता ने कर दी होती मदद तो टीम इंडिया में सचिन के साथ खेल रहे होते इरफान खान!

कैंसर से इरफान खान की मौत पर भावुक हुए युवराज, कहा- इस दर्द को जानता हूं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading