ICC World Cup : मेजबान इंग्लैंड की इस ‘साजिश’ से कैसे निपटेगी टीम इंडिया?

यह महज इत्तेफाक है या भारत के खिलाफ मुकाबले के लिए इंग्लैंड ने मेजबान होने के नाते यहां की पिच को लेकर क्यूरेटर को कुछ खास निर्देश दिए हैं?

News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 3:55 PM IST
ICC World Cup : मेजबान इंग्लैंड की इस ‘साजिश’ से कैसे निपटेगी टीम इंडिया?
यह महज इत्तेफाक है या भारत के खिलाफ मुकाबले के लिए इंग्लैंड ने मेजबान होने के नाते यहां की पिच को लेकर क्यूरेटर को कुछ खास निर्देश दिए हैं?
News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 3:55 PM IST
वर्ल्ड कप के 48 मैचों में 26 हो चुके हैं. यानी आधे से ज्यादा मुकाबले खत्म हो चुके हैं. भारत के अलावा, बाकी सभी टीमें पांच या छह मैच खेल चुकी हैं. भारत को पांच मुकाबले खेलने हैं. शनिवार 22 जून को अफगानिस्तान, गुरुवार 27 जून को वेस्ट इंडीज, 30 जून को इंग्लैंड, 2 जुलाई को बांग्लादेश और छह जुलाई को श्रीलंका के खिलाफ भारत को उतरना है. इसमें सबसे अहम मुकाबला इंग्लैंड के खिलाफ माना जा रहा है. यह मुकाबला बर्मिंघम में होगा.

अब दिलचस्प और काम की बात पर आते हैं. इंग्लैंड में दस शहरों और 11 मैदानों पर मैच हो रहे हैं. भारत और इंग्लैंड के लिए जो मैदान चुना गया है, उस पर वर्ल्ड कप का पहला मैच 19 जून को हुआ. यानी वर्ल्ड कप शुरू होने के करीब 21 दिन बाद. वर्ल्ड कप में लो स्कोरिंग और आखिरी ओवर तक सस्पेंस में रखने वाला मैच था यह. इसे टूर्नामेंट का सबसे रोचक मैच माना जा रहा है, जिसमें केन विलियमसन ने संघर्ष भरा शतक जमाया था.

इंग्लैंड इसलिए मुश्किल टीम

इस पिच में गेंदबाजों के लिए मदद है. वर्ल्ड कप की ज्यादातर पिच फ्लैट हैं. जसप्रीत बुमराह जैसे गेंदबाज ने कहा है कि यहां हम लोगों के लिए कुछ नहीं है. ऐसे में बर्मिंघम के एजबेस्टन में मैच होगा, जहां बल्लेबाज परेशानी में नजर आए हैं. ध्यान रखिए, जिन टीमों की तेज गेंदबाजी को सबसे मुश्किल माना जा रहा है, इंग्लैंड उनमें से एक है. खासतौर पर जाेफ्रा आर्चर, जो खौफ बनकर उभरे हैं.

बर्मिंघम में भारत और इंग्लैंड के बीच मुकाबले से पहले एक और मैच है. न्यूजीलैंड और पाकिस्तान के बीच 26 जून को मुकाबला खेला जाना है. आमतौर पर एक पिच पर लगातार दो मैच नहीं होते. ऐसे में माना जा सकता है कि यह मैच 19 जून को जिस पिच पर मुकाबला हुआ था, उससे अलग पिच पर होगा. उसके बाद 30 जून को भारत और इंग्लैंड के बीच मैच होगा. संभव है कि यह वही पिच हो, जो 19 जून के मैच में इस्तेमाल हुई थी. ऐसा होता है, तो भारतीय बल्लेबाजों के लिए असली चुनौती उसी रोज देखने को मिलेगी.

icc cricket world cup 2019, cricket, cricket world cup, england cricket team, indian cricket team, england pitch, birmingham pitch, आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019, क्रिकेट, भारतीय क्रिकेट टीम, इंग्लैंड क्रिकेट टीम, ईसीबी, बीसीसीआई, बर्मिंघम पिच

इंग्लैंड के खिलाफ भारत का मैच 'अलग' पिच पर
Loading...

भारत को इस मैदान पर एक और मैच खेलना है, जो बांग्लादेश के खिलाफ है. लेकिन बांग्लादेश की बॉलिंग इंग्लैंड जैसी धारदार कतई नहीं है. भारतीय टीम ने अब तक जो चार मैच खेले हैं, उनमें एक धुल गया था. न्यूजीलैंड के खिलाफ वो मैच नॉटिंघम में होना था. जो तीन मैच जीते हैं,  वो साउथैम्पटन, लंदन के ओवल और मैनचेस्टर में खेले गए हैं. शनिवार को अफगानिस्तान के खिलाफ साउथैम्पटन में ही मुकाबला है. यहां की पिच को बल्लेबाजी के लिए अच्छा माना जाता है. इसके बाद वेस्ट इंडीज के खिलाफ मैनचेस्टर में खेलना है. यहां की पिच भी बल्लेबाजी के लिए मुफीद है.

यानी बाकी लगभग सभी मैच बल्लेबाजी के अनुकूल पिच पर हैं. लेकिन मेजबान इंग्लैंड के खिलाफ जो मुकाबला होना है, वो ऐसी जगह पर है, जहां अब तक हुए मैचों में गेंदबाजों को सबसे ज्यादा मदद मिली है. यह महज इत्तेफाक है या इंग्लैंड ने मेजबान होने के नाते यहां की पिच को लेकर क्यूरेटर को कुछ खास निर्देश दिए हैं? इसे लेकर सवाल बना ही हुआ है.
First published: June 21, 2019, 3:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...