ICC World Cup : क्या हम क्रिकेट इतिहास का सबसे बोर वर्ल्ड कप देख रहे हैं?

इस वर्ल्ड कप के आधे से ज्यादा मैच निकल गए. रोमांच के लिए कितने मैच आपको याद हैं? ऐसे कितने मैच हैं, जहां कोई टीम दस रन से कम से हारी या आखिरी गेंद पर मैच का नतीजा निकला? जवाब है, एक भी नहीं.

Shailesh Chaturvedi | News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 1:28 PM IST
ICC World Cup : क्या हम क्रिकेट इतिहास का सबसे बोर वर्ल्ड कप देख रहे हैं?
इस वर्ल्ड कप के आधे से ज्यादा मैच निकल गए. रोमांच के लिए कितने मैच आपको याद हैं? ऐसे कितने मैच हैं, जहां कोई टीम दस रन से कम से हारी या आखिरी गेंद पर मैच का नतीजा निकला? जवाब है, एक भी नहीं.
Shailesh Chaturvedi | News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 1:28 PM IST
साउथ अफ्रीका और न्यूजीलैंड के बीच मैच ऐसा था, जहां नतीजा महज तीन गेंद पहले तय हुआ. आखिरी ओवर तक यह रोमांच बना हुआ था कि कोई भी टीम मैच जीत सकती है. लेकिन ऐसा कितने मैचों में हुआ है? वर्ल्ड कप में सेमीफाइनल और फाइनल सहित कुल 48 मैच होने हैं. साउथ अफ्रीका और न्यूजीलैंड के बीच मुकाबला वर्ल्ड कप का 25वां मैच था. यानी आधे से ज्यादा मैच निकल गए. रोमांच के लिए कितने मैच आपको याद हैं? ऐसे कितने मैच हैं, जहां कोई टीम दस रन से कम से हारी या आखिरी गेंद पर मैच का नतीजा निकला? जवाब है, एक भी नहीं.

चेज करते हुए जीतने में सबसे करीबी मुकाबला इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच रह है. यह मैच पाकिस्तान ने 14 रन से जीता था. ऑस्ट्रेलिया और वेस्ट इंडीज के बीच मुकाबले में भी जीत का अंतर 15 रन का था. यहां वेस्ट इंडीज को अंपायरिंग की गलतियों का खामियाजा भुगतना पड़ा था. लेकिन ऐसा नहीं हुआ कि मुकाबला आखिरी ओवर में गया हो, जहां जीत की उम्मीद 50-50 हो.

इस वर्ल्ड कप के रोमांचक मैच याद करने की कोशिश कीजिए….

आप खुद याद करने की कोशिश करें. इस वर्ल्ड कप में कई खिलाड़ियों के व्यक्तिगत प्रदर्शन याद आएंगे. किसी की बॉलिंग याद आएगी, किसी की बैटिंग याद आएगी. ऑयन मॉर्गन के सिक्सर याद आएंगे. लेकिन मैच के तौर पर क्या याद आता है. शायद अफ्रीका और न्यूजीलैंड के बीच मुकाबला ही याद रहेगा, जो तीन गेंद बाकी रहते न्यूजीलैंड ने चार विकेट से जीता.

बुधवार को हुए मैच के बाद इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने एक ट्वीट करके लोगों से पूछा कि वे क्या देखना पसंद करेंगे. मॉर्गन के छक्कों से सजी पारियों वाला इंग्लैंड-अफगानिस्तान मैच या फिर दक्षिण अफ्रीका-न्यूजीलैंड मैच, जिसका रोमांच आखिरी ओवर तक था.

क्रिकेट में यह मान लिया गया है कि लोग बड़े शॉट देखना चाहते हैं. यह सच भी है, लेकिन वो दोनों तरफ से होने चाहिए. मॉर्गन की पारी खत्म होते ही लोग टीवी सेट के सामने से हट सकते हैं, यह मानकर कि अब 397 का स्कोर हो गया है. इसे अफगानिस्तान कहां पार कर पाएगा?  हुआ भी यही. अफगानिस्तान 150 रन पीछे रह गया. लेकिन अगर दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड के बीच मैच देखने बैठे होंगे, तो शायद टीवी सेट ऑफ नहीं कर पाए होंगे. भले ही घड़ी की सुइयां रात 12 पार कर चुकी हों.

एकतरफा मुकाबलों की झड़ी
Loading...

वेस्ट इंडीज और पाकिस्तान के बीच मैच तो दूसरी पारी में महज 13.4 ओवर्स ही चला था. वेस्ट इंडीज ने जीत के लिए जरूरी 108 रन इतने ओवर्स मे बना लिए. न्यूजीलैंड ने श्रीलंका को 16.1 ओवर में लक्ष्य हासिल करके हरा दिया था.

पहले 25 में 11 मुकाबले पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम ने जीते हैं, दस बाद में बैटिंग करने वाली टीम ने. चार मैच बारिश की वजह से रद्द हुए या पूरे नहीं हो सके. पहले बल्लेबाजी करने वाली टीमों की जीत में से पांच मैचों में नतीजों का अंतर 50 या ज्यादा रन रहा है. यानी 11 मैच में पांच ऐसे रहे, जहां एक टीम 50 या इससे ज्यादा रन से हारी. तीन में तो अंतर 100 रन से भी ज्यादा का था. इन 11 में दो का फैसला डकवर्थ लुइस सिस्टम से हुआ है. इनमें से एक मैच में अंतर 36 रन रहा. 20 से कम अंतर से जीत वाले महज दो मैच रहे. विकेट से जीतने के दस मैचों में आठ बार जीतने वाली टीम छह या ज्यादा विकेटों से जीती. ये भी दो टीमों के बीच का फर्क है.

क्या बढ़ पाएगी रोमांचक मुकाबलों की संख्या

वर्ल्ड कप को रोमांचक बनाने के लिए ही तय किया गया था कि कमजोर टीमों की संख्या कम की जाएगी. इसीलिए वर्ल्ड कप में इस बार दस टीमें हैं. तमाम ऐसी टीमें नहीं हैं, जिन्हें पहले एक्सपोजर के नाम पर शामिल किया जाता था. इसके बावजूद अंतर बहुत बड़े हैं. क्रिकेट अपने रोमांच और अप्रत्याशित नतीजों के लिए जाना जाता है. इस वर्ल्ड कप में बड़े स्कोर का रोमांच तो है, लेकिन मैच के नतीजों का नहीं. साथ ही, अप्रत्याशित नतीजे तो बहुत ही कम हैं. अभी काफी मैच बाकी हैं. उम्मीद करें कि अगले कुछ दिनों में रोचक मुकाबलों की संख्या कुछ बढ़े.
First published: June 20, 2019, 1:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...