सचिन तेंदुलकर से भी बड़े ओपनर हैं 'हिटमैन' रोहित शर्मा!

रोहित शर्मा ने ओपनर के तौर पर 103 मैचों में 56.11 के औसत से 5050 रन बनाए हैं. जबकि इस दौरान 17 शतक ( 3 दोहरे) उनके बल्‍ले से निकले हैं.

Ajay Raj | News18Hindi
Updated: September 25, 2018, 3:13 PM IST
सचिन तेंदुलकर से भी बड़े ओपनर हैं 'हिटमैन' रोहित शर्मा!
रोहित शर्मा (फाइल फोटो)
Ajay Raj | News18Hindi
Updated: September 25, 2018, 3:13 PM IST
रोहित शर्मा ने एशिया कप के सुपर 4 दौर में पाकिस्‍तान के खिलाफ हाई-वोल्‍टेज मुकाबले में शतक लगाकर टीम इंडिया को जीत दिलाई. इसके साथ ही एक बार फिर यह चर्चा शुरू हो गई है कि क्‍या वह मौजूदा दौर के सबसे बड़े ओपनर हैं? जी हां, ऐसा ही है और आंकड़े यह बात भली-भांति साबित करते हैं.

रोहित शर्मा ने 23 जून 2007 को आयरलैंड के खिलाफ राहुल द्रविड़ की कप्‍तानी में वनडे क्रिकेट में डेब्‍यू किया था. 2011 में महेंद्र सिंह धोनी ने शर्मा को साउथ अफ्रीका के खिलाफ केपटाउन वनडे में ओपनर के तौर पर आजमाने का फैसला किया था. अफ्रीका के खिलाफ युवा रोहित ने तीन मैचों में 59 गेंदों का सामना करते हुए 9.66 के औसत और 49 के स्‍ट्राइक रेट से 29 रन बनाए थे. इस खराब प्रदर्शन के बाद रोहित की बतौर ओपनर छुट्टी होना तय थी और ऐसा ही हुआ. उन्‍हें 2011 की वर्ल्‍ड कप टीम में भी जगह नहीं मिली. इसके बाद उन्‍होंने घेरलू क्रिकेट में अच्‍छा प्रदर्शन करके वनडे क्रिकेट में वापसी की लेकिन मध्‍यक्रम बल्‍लेबाज़ के तौर पर खेलने का मौका मिला.

जबकि 2013 में कप्‍तान धोनी ने एक बार फिर उन्हें ओपनर के तौर पर आजमाने का साहस जुटाया और रोहित शर्मा ने मोहाली में इंग्‍लैंड के खिलाफ 83 रन की पारी खेलकर मैदान मार लिया. इसके बाद उन्‍होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और आज बतौर ओपनर सबसे ज्‍यादा औसत (56.11) रखने वाले रोहित को दुनिया का महान ओपनर कहा जाए तो कतई गलत नहीं होगा. उनकी अटैकिंग बैटिंंग का हर कोई कायल है, खासतौर पर शॉर्ट बॉल खेलने की क्षमता का कोई जवाब नहीं है.

ओपनर रोहित शर्मा

2007 में वनडे क्रिकेट में डेब्‍यू करने वाले रोहित शर्मा का करियर 187 मैचों का हो चुका है, जिसमें उन्‍होंने 46.16 के औसत से 7017 रन बनाए हैं. इस दौरान उन्‍होंने 19 शतक (3 दोहरे शतक) लगाए हैं. जबकि ओपनर रोहित की बात करें तो उन्‍होंने 103 मैचों में 56.11 के औसत से 5050 रन बनाए हैं और इस दौरान 17 शतक उनके बल्‍ले से निकले हैं. गौर करने वाली बात ये है कि वह वनडे क्रिकेट में तीन दोहरे शतक लगाने वाले दुनिया के इकलौते खिलाड़ी और उन्‍होंने यह कारनामा बतौर ओपनर ही किया है.



 
Loading...

जबकि साउथ अफ्रीका के हाशिम अमला औसत के मामले में दूसरे नंबर पर हैं. उन्‍होंने 164 मैचों में 50.10 के औसत से 7666 रन अपने नाम किए हैं, जिसमें 26 शतक शामिल हैं. आपको बता दें कि अमला ने अफ्रीका के लिए अब तक कुल 169 वनडे खेलते हुए 7696 रन ( औसत-49.65) बनाए हैं. मजेदार बात ये है कि उन्‍होंने अपने सभी शतक ओपनर के रूप में लगाए हैं.

वनडे क्रिकेट में सर्वाधिक मैच, रन और शतकों का रिकॉर्ड रखने वाले सचिन तेंदुलकर बतौर ओपनर सबसे ज्‍यादा औसत रखने वाले तीसरे बल्‍लेबाज़ हैं. 463 मैचों में 44.83 के औसत और 49 शतक की सहायता से 18426 रन बनाने वाले इस महान खिलाड़ी ने ओपनर के तौर पर 344 मैचों में 48.29 के औसत से 15310 रन अपने नाम किए हैं, जिसमें 45 शतक शामिल हैं. जबकि वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक (200) उन्‍होंने ओपनर के तौर पर ही लगाया था और वह ऐसा करने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी बने थे.

अगर ओपनर के तौर पर सबसे अधिक औसत रखने वाले चौथे खिलाड़ी की बात की जाए तो वो नाम है श्रीलंका के तिलकरत्‍ने दिलशान का. श्रीलंका के लिए 330 मैचों में 39.27 के औसत से 10290 रन (22 शतक) बनाने वाले दिलशान ने ओपनर के तौर पर 179 मैचों में 7367 रन 46.04 के औसत से बनाए हैं,जिसमें 21 शतक शामिल हैं.

गौरतलब है कि इन चारों बल्‍लेबाज़ों ने वनडे क्रिकेट में अपना असली जलवा ओपनर के तौर पर दिखाया है और औसत के मामले में रोहित शर्मा सबसे आगे हैं. लिहाजा बिना किसी लाग लपेट के उन्‍हें वनडे क्रिकेट का 'महान' ओपनर कहा जा सकता है. वहीं इस 31 साल के खिलाड़ी के पास अभी काफी क्रिकेट बची है और वह सचिन के कई रिकॉर्ड अपने नाम कर लें तो कोई हैरानी नहीं होनी चाहिए. आखिर सचिन भी तो कह चुके हैं रोहित और विराट में मेरे रिकॉर्ड तोड़ने का दम है.

बहरहाल,आज भी टेस्‍ट टीम में नियमित जगह बनाने की हसरत रखने वाले रोहित ने नंबर एक पोजिशन 85, नंबर दो पर 17, नंबर तीन पर नौ, नंबर चार पर 26, नंबर पांच पर 25, नंबर छह पर 12 और नंबर सात पर सात वनडे मैच खेले हैं. यही नहीं, उन्‍होंने अपने 19 शतकों में से सिर्फ दो शतक नंबर चार पर बल्‍लेबाज़ी करते हुए लगाए हैं.

रोहित का दम
187 वनडे मैचों में 7017 रन बनाने वाले इस धाकड़ बल्‍लेबाज़ ने टीम ने जिन 94 मैचों में टॉस जीता है उनमें 46.05 के औसत से 3500 रन बनाए हैं, जिसमें दस शतक शामिल हैं. जबकि टॉस हारने के बाद बल्‍लेबाज़ी करते हुए 93 मैचों में 46.27 के औसत से 3517 रन (नौ शतक) बनाए हैं. भारत को रोहित के रहते हुए 111 मैचों में जीत मिली है और इस दौरान उन्‍होंने 107 पारियों में बल्‍लेबाज़ी करते हुए 56.95 के औसत से 4727 रन अपने नाम किए हैं 14 शतक के साथ. वैसे रोहित के रहते हुए टीम को 68 मैचों में हार मिली है. दो टाई रहे और छह का कोई रिजल्‍ट नहीं निकला है.

जबकि बल्‍लेबाज़ रोहित ने 181 पारियों में 7000 रन पूरे किए हैं. भारतीय रिकॉर्ड विराट कोहली के नाम है. उन्‍होंने 161 पारियों में तथा सौरव गांगुली ने 174 और सचिन तेंदुलकर ने ऐसा 189 पारियों में किया था.



बड़े टूर्नामेंट का बड़ा खिलाड़ी
रोहित ने वर्ल्‍ड कप खेलते हुए 8 मैचों में 47.14 के औसत से 330 रन, आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में 10 मैचों में 53.44 के औसत से 481 रन और एशिया कप में अब तक खेले 21 मैचों में 46.46 के औसत से 697 रन बनाए हैं. इस दौरान उन्‍होंने सभी टूर्नामेंट में एक-एक शतक भी लगाया है.



शिखर के साथ दमदार जोड़ी
रोहित ने शिखर धवन के साथ वनडे क्रिकेट में पारी शुरू करते हुए 2013 से अब तक 82 मैचों में 47.48 के औसत से 3848 रन बनाए हैं. इस दौरान दोनों के बीच 13 शतकीय (सर्वोच्‍च 210 रन) साझेदारियां हुई हैं. हालांकि भारतीय और वर्ल्‍ड रिकॉर्ड सौरव गांगुली और सचिन के नाम हैं, जिन्‍होंने 136 मैचों में 49.32 के औसत से 6609 रन (21 शतकीय- सर्वोच्‍च 258) रन बनाए हैं. जबकि वीरेंद्र सहवाग और सचिन ने 93 मैचों में 3919 रन 42.13 के औसत से बनाए हैं. इन दोनों ने भारत के लिए 12 बार 100 रन से ज्‍यादा रन की साझेदारी की है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर