WTC Final: शुभमन गिल को मौका देना भारी ना पड़ जाए, क्या जोखिम उठाएंगे विराट कोहली?

WTC Final: शुभमन गिल को फाइनल में मौका देना कितना सही? (PC-AFP)

WTC Final: शुभमन गिल को फाइनल में मौका देना कितना सही? (PC-AFP)

WTC Final, India vs New Zealand: इंग्लैंड के साउथैंप्टन में 18 जून को भारत और न्यूजीलैंड के बीच वर्ल्ड टेस्ट सीरीज का फाइनल खेला जाएगा, इस मुकाबले में टीम इंडिया किस प्लेइंग इलेवन के साथ उतरेगी ये काफी दिलचस्प होने वाला है. क्या प्लेइंग इलेवन में शुभमन गिल (Shubman Gill) को मौका देना सही रहेगा?

  • Share this:

नई दिल्ली. साउथैंप्टन...इंग्लैंड का वो शहर जहां भारतीय क्रिकेट टीम को अगले महीने 18 जून को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल (WTC Final, India vs New Zealand) खेलना है. विरोधी है न्यूजीलैंड जिसने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप की अंक तालिका में दूसरी पोजिशन हासिल की. विरोधी बेहद खतरनाक है क्योंकि उसके पास वर्ल्ड क्लास गेंदबाजों की भरमार है. खासतौर पर जहां गेंद स्विंग होती है वहां कीवी तेज गेंदबाजों का जलवा होता है. वहीं दूसरी ओर भारत की मजबूत बल्लेबाजी अकसर स्विंग के आगे नतमस्तक नजर आती है. विराट कोहली से लेकर रोहित शर्मा तक. चेतेश्वर पुजारा हों या अजिंक्य रहाणे सभी बल्लेबाजों को हवा में घूमती गेंदों से परेशानी होती है. ऐसे में सवाल ये है कि टीम इंडिया वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में किन बल्लेबाजों के साथ मैदान पर उतरेगी. हमेशा की तरह इस मुकाबले में भी ओपनिंग बेहद अहम रहने वाली है और टीम इंडिया रोहित शर्मा के साथ किस खिलाड़ी को ओपनिंग के लिए भेजेगी, इस सवाल का जवाब 18 जून को ही मिलेगा.

एक्सपर्ट्स का मानना है कि टीम इंडिया वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में भी शुभमन गिल को ही ओपनिंग के लिए उतारेगी. शुभमन गिल (Shubman Gill) ने ऑस्ट्रेलिया सीरीज में जबर्दस्त प्रदर्शन किया था लेकिन उसके बाद उनकी फॉर्म रूठ सी गई है. इंग्लैंड टेस्ट सीरीज हो या आईपीएल, दोनों में गिल का बल्ला खामोश रहा, वो बिलकुल आउट ऑफ फॉर्म नजर आए, ऐसे में सवाल ये है कि क्या कप्तान विराट कोहली वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप जैसे मुकाबले में गिल पर दांव खेलेंगे?

शुभमन गिल का प्रदर्शन

शुभमन गिल ने अबतक 7 टेस्ट मैचों में 34.36 की औसत से 378 रन बनाए हैं. गिल के बल्ले से 3 अर्धशतक निकले हैं और वो 2 बार शून्य पर पैवेलियन लौट चुके हैं. शुभमन गिल ने ऑस्ट्रेलिया दौरे से अपने टेस्ट करियर का आगाज किया था जहां उन्होंने 51.80 के धमाकेदार औसत से 259 रन बनाए. गिल ने मेलबर्न टेस्ट में 45 और नाबाद 35 रनों की पारी खेली. सिडनी टेस्ट में गिल ने 50 और 31 रन बनाए. इसके बाद ब्रिसबेन टेस्ट में गिल ने 7 और दूसरी पारी मं मैच जिताऊ 91 रनों की पारी खेली.
इंग्लैंड सीरीज में बुरी तरह फ्लॉप

हालांकि ऑस्ट्रेलिया दौरे पर मिली कामयाबी को शुभमन गिल इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज में नहीं दोहरा पाए. गिल ने इंग्लैंड के खिलफ 4 टेस्ट मैचों की सीरीज में खेली 7 पारियों में महज 19.83 की औसत से 119 रन ही बनाए. शुभमन गिल 7 में से 3 पारियों में LBW आउट हुए. भारत-इंग्लैंड सीरीज में स्पिन फ्रेंडली पिच थी लेकिन इसके बावजूद जेम्स एंडरसन ने गिल को काफी परेशान किया और यही बात टीम इंडिया के लिए परेशानी का सबब हो सकती है.

IPL 2021 में नहीं चला बल्ला



इंडियन प्रीमियर लीग 2021 में भी शुभमन गिल का बल्ला नहीं चला और वो 7 मैचों में महज 18.85 के औसत से 132 रन ही बना सके. उनका स्ट्राइक रेट भी 117.85 का रहा. गिल के बल्ले से एक भी अर्धशतक नहीं निकला. ये आंकड़े साफ-साफ बयां करते हैं कि टीम इंडिया का ये ओपनर बेहद खराब फॉर्म से जूझ रहा है.

श्रीलंका दौरे पर 3 वनडे और 3 टी20 मैच खेलेगी टीम इंडिया, जानिये सीरीज का कार्यक्रम

शुभमन गिल के हक में क्या बात जाती है?

अब आपको बताते हैं कि आखिर क्यों इन सब आंकड़ों के बावजूद शुभमन गिल वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में खेलते दिखाई दे सकते हैं. दरअसल शुभमन गिल का बल्ला स्विंग होने वाली कंडिशन में अच्छा चलता है. गिल ने पिछले साल इंडिया ए की टीम की ओर से न्यूजीलैंड का दौरा किया था, जहां उन्होंने रनों की झड़ी लगा दी थी. गिल ने न्यूजीलैंड ए के खिलाफ 3 पारियों में 211 से ज्यादा की औसत से 423 रन बना दिये थे. गिल के बल्ले से 2 शतक और एक अर्धशतक निकला था. गिल का सर्वश्रेष्ठ स्कोर नाबाद 204 रन रहा. ऐसे में साफ है कि गिल को स्विंग से ज्यादा फर्क नहीं पड़ता वो रन बनाना जानते हैं. ऐसे में विराट कोहली इस युवा बल्लेबाज से ओपनिंग कराने का जोखिम उठा सकते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज