लाइव टीवी

वर्ल्ड कप से पहले दुकान में चोरी करती पकड़ी गई ये टीम, भारत से हो सकती थी भिड़ंत

News18Hindi
Updated: January 22, 2020, 3:42 PM IST
वर्ल्ड कप से पहले दुकान में चोरी करती पकड़ी गई ये टीम, भारत से हो सकती थी भिड़ंत
जापान की टीम ने पहली बार आईसीसी के किसी बड़े इवेंट में हिस्सा लिया था

पापुआ न्यू गिनी टीम के 10 ‌खिलाड़ी दुकान में सामान चोरी करते हुए पकड़े गए, जिसके बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 22, 2020, 3:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अंडर 19 वर्ल्ड कप (Under 19 World Cup) में किसी को भी भारत और जापान (India vs Japan) के बीच कांटे की टक्कर की उम्मीद नहीं थी. हुआ भी ऐसा ही, जब जापान की टीम 41 रन पर सिमट गई और भारत ने बिना किसी नुकसान के 29 गेंदों पर ही लक्ष्य हासिल कर लिया. जापान का यह पहला आईसीसी इवेंट था और वह चार बार की चैंपियन के खिलाफ मैदान पर उतरी थी. कोई भी जापानी बल्लेबाज दोहरे आंकड़े को छू तक नहीं पाया. हालांकि जापान के बल्लेबाजों ने संघर्ष करके शर्मनाक इतिहास बनाने से खुद को बचा लिया. इस टूर्नामेंट के इतिहास का सबसे कम टीम स्‍कोर 22 रन स्कॉटलैंड के नाम है, जो उसने 2004 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बनाए थे और जापान की टीम इस रिकॉर्ड को तोड़ने से बच गई.

india vs japan, under-19 world cup, cricket, icc events, sports news, आईसीसी इवेंट्स, भारत बनाम जापान, क्रिकेट, स्पोर्ट्स अंडर 19 वर्ल्ड कप
भारत ने जापान को 10 विकेट से हराया था


जापान की टीम में चार भारतीय
हालांकि क्रिकेट की दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाना जापान की टीम के लिए फिलहाल थोड़ा मुश्किल है, क्योंकि उस देश में सूमो रेसलिंग, फुटबॉल, बेसबॉल और बैडमिंटन मुख्य खेल हैं. वहीं इस बार उस देश में खेलों का महाकुंभ भी आयोजित होने वाला है और ओलिंपिक में क्रिकेट है नहीं. जापान को अपनी टीम बनाने में भी काफी मुश्किलें आई. उनकी अंतिम एकादश में कम से कम सात से आठ खिलाड़ी दूसरे देशों के प्रवासी हैं. जिसमें से चार तो भारतीय मूल के हैं. जापान की अंडर-19 टीम खुद के खेल को सुधारने की लगातार कोशिश कर रही है और आईसीसी (ICC) के इस टूर्नामेंट से टीम को मदद भी मिलेगी.

जापान की टीम में चार भारतीय हालांकि क्रिकेट की दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाना जापान की टीम के लिए फिलहाल थोड़ा मुश्किल है, क्योंकि उस देश में सुमो रेसलिंग, फुटबॉल, बेसबॉल और बैडमिंटन मुख्य खेल हैं. वहीं इस बार उस देश में खेलों का महाकुंभ भी आयोजित होने वाला है और ओलिंपिक में क्रिकेट है भी नहीं. जापान की टीम को अपनी टीम बनाने में भी काफी मुश्किलें आई. उनकी अंतिम एकादश में कम से कम सात से आठ खिलाड़ी दूसरे देशों के प्रवासी हैं. जिसमें से चार तो भारत मूल के हैं. जापान की अंडर-19 टीम खुद के खेल को सुधारने की लगातार कोशिश कर रही है और आईसीसी (ICC) के इस टूर्नामेंट से टीम को मदद भी मिलेगी.
पांच रन देकर चार विकेट लेने वाले रवि बिश्नोई प्लेयर ऑफ द मैच रहे


मैच से पहले पापुआ न्यू गिनी के खिलाड़ियों ने की थी चोरी
जापान की टीम अंडर- 19 वर्ल्ड कप (Under 19 World Cup) में नहीं उतर पाती, अगर क्वालीफाइंग के फाइनल में विपक्षी टीम के खिलाड़ी दुकान में चोरी नहीं करते. पिछले साल जून में रीजनल क्वालीफायर  का फाइनल मुकाबला जापान और उभरते देशों की सबसे मजबूत टीम पापुआ न्यू गिनी के बीच होना था. मगर फाइनल से पहले पापुआ न्यू गिनी के 10 खिलाड़ी सानो में दुकान में सामान चोरी करते हुए पकड़े गए. जिसके बाद उनकी नेशनल एसोसिएशन ने उन खिलाड़ियों को निलंबित कर दिया और इसके बाद टीम में सिर्फ चार ही योग्य खिलाड़ी बचे. टीम मैनेजमेंट के पास कोई विकल्प नहीं बचा था और उन्होंने फाइनल मैच गंवा ‌दिया. इस वजह से जापान की टीम ने एक भी गेंद फेंके बिना अंडर 19 वर्ल्ड कप (Under 19 World Cup) के लिए क्वालीफाई कर लिया.यह भी पढ़ें :-

न्यूजीलैंड पहुंचते ही कोहली ने जिम में बहाया पसीना तो कोच रवि शास्‍त्री निकले घूमने, देखें Photos

रवींद्र जडेजा जैसा बनना चाहता है ये भारतीय क्रिकेटर,रणजी ट्रॉफी में ली हैट्रिक

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 1:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर