WTC Final: हमारे 3 गेंदबाजों ने 11 मैच में 149 विकेट झटके, कोहली की पहली आईसीसी ट्रॉफी हाथ में!

टीम इंडिया इंग्लैंड में पांच मैचों की टेस्ट सीरीज भी खेलेगी. (AP)

टीम इंडिया इंग्लैंड में पांच मैचों की टेस्ट सीरीज भी खेलेगी. (AP)

विराट कोहली (Virat Kohli) 200 मैच में कप्तानी कर चुके हैं. लेकिन अब तक एक भी आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीत सके हैं. अगले महीने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (World test Championship) के फाइनल में भारत और न्यूजीलैंड (India vs New Zealand) की भिड़ंत होनी है.

  • Share this:

नई दिल्ली. वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (World test Championship) का फाइनल अगले महीने भारत और न्यूजीलैंड (India vs New Zealand) के बीच होना है. आईसीसी की ओर से टेस्ट को रोमांचक बनाने के लिए पहली बार इसका आयोजन किया जा रहा है. विराट कोहली (Virat Kohli) 200 मैच में कप्तान कर चुके हैं, लेकिन वे अब तक एक भी आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीत सके हैं. ऐसे में उनके पास यह सुनहरा मौका है. फाइनल मैच 18 से 22 जून तक साउथम्प्टन में खेला जाना है.

फाइनल में बतौर तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और इशांत शर्मा के खेलने की संभावना है. पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने भी तीनों गेंदबाजों को प्लेइंग-11 में शामिल करने की बात कही है. ये तीनों खिलाड़ी जब भी साथ खेलते हैं, विराेधी टीमों को काफी परेशान करते हैं. 11 टेस्ट में ये तीनों एक साथ उतरे हैं और 149 विकेट झटके हैं. इससे इनके शानदार प्रदर्शन का पता चलता है.

बुमराह ने इस दौरान सबसे ज्यादा विकेट लिए

इन 11 टेस्ट को देखें तो जसप्रीत बुमराह ने सबसे ज्यादा 58 विकेट लिए हैं. उन्होंने इस दौरान 5 बार 5 विकेट लेने का कारनामा किया. स्ट्राइक रेट 44 का रहा. इशांत शर्मा 46 विकेट के साथ दूसरे नंबर पर रहे. औसत 19 का और स्ट्राइक रेट 45 का रहा. वहीं मोहम्मद शमी ने इस दौरान 27 की औसत से 45 विकेट लिए. स्ट्राइक रेट 48 का रहा. इस दौरान शमी और इशांत दोनों ने दो-दो बार 5 विकेट लेने का कारनामा किया.
यह भी पढ़ें: एबी डिविलियर्स ने अन्य खिलाड़ियों के लिए दी कुर्बानी! काेच ने कहा- फैसले का सम्मान करते हैं

जडेजा और अश्विन को बराबर-बराबर विकेट मिले

इन 11 मैचों में आर अश्विन और रवींद्र जडेजा का प्रदर्शन भी अच्छा रहा है. अश्विन और जडेजा ने इस दौरान 18-18 विकेट लिए. दोनों गेंदबाज निचले क्रम पर अच्छी बल्लेबाजी भी करते हैं. ऐसे में यह फाइनल में टीम इंडिया के लिए ये दोनों भी अहम हो सकते हैं. इंग्लैंड की पिच तेज गेंदबाजों के अनुकूल मानी जाती है. ऐसे में भारत और न्यूजीलैंड दोनों ही टीम की जीत का दारोमदार तेज गेंदबाजों पर ही होगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज