• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • IND VS ENG: जसप्रीत बुमराह कनाडा में कर रहे होते नौकरी, कहा-मां की कुर्बानियों के दम पर...

IND VS ENG: जसप्रीत बुमराह कनाडा में कर रहे होते नौकरी, कहा-मां की कुर्बानियों के दम पर...

जसप्रीत बुमराह ने कहा-मां के दम पर टीम इंडिया में खेल रहा हूं (PC-बुमराह इंस्टाग्राम)

जसप्रीत बुमराह ने कहा-मां के दम पर टीम इंडिया में खेल रहा हूं (PC-बुमराह इंस्टाग्राम)

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) आज भारत के सबसे बड़े मैच विनर में से एक हैं. जसप्रीत बुमराह की जिंदगी में उनकी मां का कितना बड़ा रोल है इसके बारे में तेज गेंदबाज ने दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) को दिये इंटरव्यू में खुलासा किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. जसप्रीत बुमराह की गेंदबाजी की आज दुनिया में तूती बोलती है. हर विरोधी बल्लेबाज जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah)  की प्रतिभा का कायल है. फॉर्मेट कोई भी हो जसप्रीत बुमराह अपना दम दिखाते नजर आते हैं. जसप्रीत बुमराह अपनी मेहनत के दम पर आज वर्ल्ड क्लास बॉलर बने हैं लेकिन उन्हें अर्श तक पहुंचाने में उनकी मां का भी बड़ा योगदान है. जसप्रीत बुमराह ने दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) से बातचीत में बताया कि कैसे उनकी मां ने उन्हें इतना काबिल बनाया और साथ ही इस तेज गेंदबाद ने खुलासा किया कि अगर वो क्रिकेटर नहीं होते तो वो क्या कर रहे होते?

    दिनेश कार्तिक ने स्काई स्पोर्ट्स के लिए जसप्रीत बुमराह का इंटरव्यू किया. उन्होंने जसप्रीत बुमराह के शुरुआती दिनों के बारे में सवाल किये. बुमराह जब बहुत छोटे थे तो उनके पिता का निधन हो गया था. दिनेश कार्तिक ने उनसे उनके पिता के बारे में सवाल किया. हालांकि बुमराह ने कहा कि उन्हें अपने पिता के बारे में ज्यादा कुछ याद नहीं है लेकिन उन्हें अपनी मां की हर कुर्बानी याद है.

    मां की वजह से फर्श से अर्श पर पहुंचे बुमराह
    जसप्रीत बुमराह ने कहा, ‘पिता जब गुजरे तो मैं बहुत छोटा था. मुझे ज्यादा कुछ याद नहीं है. मुझे बस अपनी मां की कुर्बानियां याद हैं. उन्होंने बहुत मेहनत की है और उनकी कुर्बानियां रंग लाई हैं.’ बुमराह जिस स्कूल में पढ़ते थे मां उस स्कूल के प्राइमरी सेक्शन की प्रिंसिपल थीं. इस पर बुमराह ने कहा कि वो स्कूल बंक नहीं कर पाते थे. बुमराह ने कहा, ‘ मेरी मां प्राइमरी स्कूल की प्रिंसिपल थी और मैं सीनियर क्लास का छात्र था. लेकिन मां के प्रिंसिपल होने से बहुत नुकसान थे. मैं स्कूल बंक नहीं कर पाता था. मुझे उनके साथ ही स्कूल जाना होता था. मैं कुछ भी गलत करता था तो मां के पास रिपोर्ट पहुंच जाती थी. ये सब नकरात्मक पहलू थे लेकिन सकरात्मक बात ये थी कि मुझसे कोई पंगा नहीं लेता था और ना ही मुझे चिढ़ाया जा सकता था.’

    IND VS ENG: सचिन के बाद सबसे बेस्ट ओपनर रोहित शर्मा, 11 हजार रन ठोक दिखाया दम

    तो बुमराह कनाडा में नौकरी कर रहे होते?
    बुमराह ने बताया कि क्रिकेट में करियर बनाने के लिए उन्हें मां ने ग्रेजुएशन तक का समय दिया था, नहीं तो उन्हें कनाडा जाकर करियर बनाना पड़ता. उन्होंने कहा, ‘ मैं जब पांचवीं छठी क्लास में था तभी से मुझे क्रिकेट से प्यार था. लेकिन मेरी मां जॉब करती थीं और वो समझ नहीं पाती थीं कि क्रिकेट में भी करियर बनाया जा सकता है. लेकिन मुझे यकीन था कि मैं क्रिकेट में कुछ कर सकता हूं इसे अपना प्रोफेशन बना सकता हूं. मेरी मां ने मुझे दसवीं पास करने के बाद क्रिकेट में करियर बनाने का समय दिया. उन्होंने कहा कि तुम्हारी ग्रेजुएशन तक का समय है. तुम्हें जिसमें हाथ आजमाना है आजमाओ. अगर मैं कामयाब नहीं होता तो मुझे कनाडा जाना पड़ता. अपने कॉलेज के पहले ही साल में मैं आईपीएल खेलने लगा और फिर भारतीय टीम में जगह मिली और आज मैं इंग्लैंड में सीरीज खेल रहा हूं.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज