जो रूट भी ऋषभ पंत के मुरीद हुए, बोले-उन्हें खामोश रखना गेंदबाजों के लिए बहुत मुश्किल

इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने कहा कि ऋषभ पंत ने जिस तरह 600 टेस्ट विकेट लेने वाले जेम्स एंडरसन की गेंद पर रिवर्स स्वीप खेला उससे पता चलता है कि उन्हें खुद पर कितना यकीन है. (Joe root/Twitter)

इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने कहा कि ऋषभ पंत ने जिस तरह 600 टेस्ट विकेट लेने वाले जेम्स एंडरसन की गेंद पर रिवर्स स्वीप खेला उससे पता चलता है कि उन्हें खुद पर कितना यकीन है. (Joe root/Twitter)

इंग्लैंड के कप्तान जो रूट (Joe Root) ने भारतीय विकेटकीपर ऋषभ पंत (Rishabh Pant)की तारीफ की. उन्होंने कहा कि पंत ने उस गेंदबाज के खिलाफ रिवर्स स्वीप खेला जो टेस्ट क्रिकेट में 600 से ज्यादा विकेट ले चुका है.

  • Share this:
अहमदाबाद. इंग्लैंड के खिलाफ 4 टेस्ट की सीरीज में ऋषभ पंत (Rishabh Pant) ने अपने ऑलराउंड खेल से सबको प्रभावित किया. उन्होंने सीरीज के आखिरी टेस्ट में मुश्किल हालात में शतक जड़कर टीम की जीत तय की और वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप (World Test Championship) के फाइनल में पहुंचाने में अहम रोल निभाया. उन्होंने सीरीज में कई मौकों पर टीम के लिए रन बनाए. उनकी इसी खूबी के कारण इंग्लैंड के कप्तान जो रूट (Joe Root) ने भी इस विकेटकीपर बल्लेबाज की तारीफ की है.

रूट ने कहा कि पंत को खामोश रखना बहुत मुश्किल है. वो जिस अंदाज में बल्लेबाजी करते हैं उसमें गेंदबाजों के लिए उन पर दबाव बनाना बहुत मुश्किल हो जाता है. अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि आखिरी टेस्ट में उन्होंने उस गेंदबाज के खिलाफ रिवर्स स्वीप शॉट खेला जो टेस्ट क्रिकेट में 600 से ज्यादा विकेट ले चुका है. ये वाकई पंत की काबिलियत है और उनके साहस का उदाहरण है. दरअसल, इंग्लिश कप्तान पंत के उस शॉट का जिक्र कर रहे थे जो उन्होंने चौथे टेस्ट के दूसरे दिन जेम्स एंडरसन की गेंद पर खेला था. वो भी तब जब इंग्लैंड ने दूसरी नई गेंद ली ही थी.

पंत का अपनी बल्लेबाजी पर कितना यकीन है, इसका अंदाजा मैच के बाद उनके इस बयान से लगाया जा सकता है जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर मौका मिलेगा तो दोबारा किसी तेज गेंदबाज के खिलाफ रिवर्स स्वीप खेलूंगा.



पंत विपक्षी टीम को दबाव में लाना जानते हैं: रूट
इंग्लिश कप्तान ने पंत की विपक्षी टीम को दबाव में लाने की काबिलियत की तारीफ की. उन्होंने कहा कि सीरीज में कई खिलाड़ियों ने अच्छी बल्लेबाजी की. लेकिन इस तरह की कंडीशंस में जिस तरह पंत ने खेला उसने सीरीज में काफी बड़ा फर्क पैदा किया. एक वक्त हम चौथे टेस्ट में बने हुए थे. लेकिन पंत और वॉशिंगटन सुंदर के बीच हुई पार्टनरशिप ने हमारे लिए आगे की राह मुश्किल कर दी. हमें मैच पर पकड़ मजबूत करने के मौके मिले थे लेकिन हम इसमें नाकाम रहे. दरअसल, पंत और सुंदर ने इंग्लैंड के खिलाफ पहली पारी में टीम के 6 विकेट जल्दी गिर जाने के बाद सातवें विकेट के लिए 113 रन की साझेदारी की थी. इस साझेदारी की वजह से भारत इंग्लैंड पर 160 रन की बढ़त हासिल कर पाया और इंग्लैंड को पारी और 25 रन से हराने में सफल रहा.

पंत इस सीरीज में रोहित के बाद सबसे ज्यादा रन बनाने वाले भारतीय
पंत ने चौथे टेस्ट में 118 गेंद पर 101 रन बनाए. इस पारी में उन्होंने 13 चौके और 2 छक्के लगाए. इस विकेटकीपर बल्लेबाज ने छ्क्का जड़कर अपनी सेंचुरी पूरी की.अपनी इस पारी के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया. इस सीरीज में रन बनाने के मामले में पंत तीसरे स्थान पर रहे. उन्होंने सीरीज के 4 टेस्ट में 54 की औसत से 270 रन बनाए. इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने 368 और रोहित शर्मा ने 345 रन बनाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज