कामरान अकमल की बाबर आजम को सलाह- इन दिग्गजों से सीखें टीम सेलेक्शन और कप्तानी के गुर

बाबर आजम की कप्तानी में इस साल पाकिस्तान ने दक्षिण अफ्रीका को वनडे और टी20 दोनों सीरीज में हराया था. ( Babar Azam Twitter)

पाकिस्तान के विकेटकीपर बल्लेबाज कामरान अकमल (Kamran Akmal) का मानना है बाबर आजम (Babar Azam) ने अपनी कप्तानी में टीम के प्रदर्शन में बेहतर सुधार किया है. हालांकि, उन्हें अपनी सेलेक्शन पॉलिसी में बदलाव की जरूरत है. खासतौर पर इस साल भारत में होने वाले टी20 विश्व कप(T20 World Cup 2021) को देखते हुए उन्हें अनुभवी गेंदबाजों को टीम में तरजीह देनी चाहिए.

  • Share this:
    नई दिल्ली. बाबर आजम (Babar Azam) की कप्तानी में पाकिस्तान टीम (Pakistan cricket Team) लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही है. हालांकि, पाकिस्तान के विकेटकीपर-बल्लेबाज कामरान अकमल (Kamran Akmal) को लगता है कि बतौर कप्तान बाबर और बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं. लेकिन इसके लिए उन्हें सेलेक्शन पॉलिसी में बदलाव करना होगा और पूर्व कप्तान इंजमाम-उल-हक (Inzamam-Ul-Haq) और युनिस खान (Younis Khan) से सीखना होगा. अकमल का मानना है कि इन दोनों दिग्गजों ने टीम सेलेक्शन में हमेशा घरेलू प्रदर्शन को तरजीह दी. बाबर को भी इसी राह पर बढ़ना चाहिए.

    अकमल ने क्रिकेट पाकिस्तान से बातचीत में कहा कि बाबर को शॉर्टकट सेलेक्शन की बजाए घरेलू क्रिकेट के अनुभव को प्राथमिकता देनी चाहिए. उन्हें ये समझना होगा कि अगर वो ऐसा नहीं करते हैं तो भविष्य में इसका उनकी टीम के प्रदर्शन पर असर पड़ सकता है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की गेंदबाजी में अनुभवहीनता की कमी दिखती है. ऐसे में मोहम्मद आमिर और वहाब रियाज को टीम में जरूर शामिल करना चाहिए. आमिर में अब भी चार-पांच साल का क्रिकेट बचा है. इस साल भारत में होने वाले टी20 विश्व कप को देखते हुए पाकिस्तान टीम की गेंदबाजी में अनुभव जरूरी है. ऐसे में ये गेंदबाज इस कमी को पूरा कर सकते हैं.

    युवा खिलाड़ियों को टीम में चुनने में जल्दबाजी न दिखाएं सेलेक्टर्स: अकमल
    कामरान ने सेलेक्टर्स के लिए कहा कि उन्हें युवा खिलाड़ियों को पाकिस्तान टीम में चुनने के लिए जल्दबाजी नहीं दिखानी चाहिए. उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को घरेलू अनुभव के आधार पर चुना जाना चाहिए. बाबर आज़म, हसन अली, फवाद आलम और इमामुल हक को देखें, तो इन सभी को लगातार घरेलू प्रदर्शन के आधार पर चुना गया है, जिसका अब अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में असर दिख रहा है. मुझे नहीं पता कि चयनकर्ता युवा खिलाड़ियों को मौका देने की जल्दी में क्यों हैं ?. शायद उन्हें लगता है कि ये खिलाड़ी पाकिस्तान का चयन नहीं होने पर छोड़ देंगे.

    यह भी पढ़ें: पहले भाई और अब पिता को खोया, मुश्किल दौर में अपने युवा गेंदबाज की मदद के लिए आगे आया राजस्‍थान रॉयल्‍स

    ऑस्ट्रेलिया-भारत के खिलाफ पाकिस्तान की होगी परीक्षा
    इस विकेटकीपर ने आगे कहा कि पिछले कुछ महीनों में पाकिस्तान ने जिन टीमों के साथ खेला है, उनमें शीर्ष खिलाड़ी कम थे. इस बात को कोच, सेलेक्टर और कप्तान बेहतर जानते होंगे कि इंग्लैंड, भारत और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उनका खेल कैसा रहेगा. मुझे नहीं लगता कि टीम अभी इस बारे में सोच रही होगी. लेकिन जैसे-जैसे वक्त आगे बढ़ेगा इसे लेकर स्थिति साफ हो जाएगी.

    श्रीलंका दौरे पर नहीं जाएंगे विराट कोहली और रोहित शर्मा, वजह- बीसीसीआई की बड़ी प्लानिंग

    बाबर की कप्तानी में इस साल पाकिस्तान टीम का प्रदर्शन बेहतर रहा है. टीम ने दक्षिण अफ्रीका को उसी के घर में वनडे और टी20 दोनों सीरीज में शिकस्त दी. इसके अलावा जिम्बाब्वे को भी उसी के घर में टी20 सीरीज में हराया. वहीं, जिम्बाब्वे के खिलाफ टेस्ट सीरीज में भी टीम ने 1-0 की बढ़त ले रखी है. हालांकि, बाबर के लिए असली परीक्षा इस साल भारत में होने वाले टी20 विश्व कप में होगी.