किसी ने वर्ल्ड कप जिताया, कोई बेखौफ बल्लेबाज, किसी ने जड़ा भारतीय महिला क्रिकेट का पहला छक्का...

पिछली बार सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण वाली क्रिकेट सलाहकार समिति ने रवि शास्‍त्री को टीम इंडिया का कोच चुना था. इस बार कोच चुनने का जिम्मा कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़ और शांता रंगास्वामी को दिया गया है.

News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 6:16 PM IST
किसी ने वर्ल्ड कप जिताया, कोई बेखौफ बल्लेबाज, किसी ने जड़ा भारतीय महिला क्रिकेट का पहला छक्का...
बीसीसीआई ने कोच चुनने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी का घठन किया है.
News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 6:16 PM IST
भारतीय क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 के खत्म होने के बाद से बदलाव के दौर में है. टीम वर्ल्ड कप में सेमीफाइनल मुकाबला हारकर बाहर हो गई थी. उसके बाद से कोचिंग स्टाफ को बदलने की खबरें जोर पकड़ने लगी हैं. सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित प्रशासकों की समिति (सीओए) ने इसे लेकर नई क्रिकेट सलाहकार समिति का गठन कर दिया है. इस समिति में भारत को पहली बार वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले कप्तान कपिल देव, टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज व दो बार कोच रह चुके अंशुमान गायकवाड़ और भारतीय महिला टीम की पहली कप्तान शांता रंगास्वामी शामिल हैं.

नई क्रिकेट सलाहकार समिति तय करेगी कि भारतीय क्रिकेट टीम का अगला कोच कौन होगा. इससे पहले, पिछली बार सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण वाली क्रिकेट सलाहकार समिति ने रवि शास्‍त्री को टीम इंडिया का कोच चुना था. अब टीम इंडिया का कोचिंग स्टाफ कैसा होगा, इसका फैसला कपिल देव की मौजूदगी वाली क्रिकेट सलाहकार समिति करेगी. आइए जानते हैं कि आखिर कौन हैं नई क्रिकेट सलाहकार समिति के सदस्य.

कपिल देव : टीम इंडिया को पहली बार बनाया वर्ल्ड चैंपियन
कपिल देव का नाम न तो भारतीय क्रिकेट में अनजान है और न ही विश्व क्रिकेट में. 6 जनवरी 1959 को चंडीगढ़ में जन्मे कपिलदेव रामलाल निखंज यानी वो खिलाड़ी जिसने 1983 के वर्ल्ड कप में कप्तानी करते हुए टीम इंडिया को खिताब दिलाया. वो खिलाड़ी जिसकी गिनती दुनिया के सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडरों में की जाती है. और वो खिलाड़ी जिसने उस दौर में भारतीय क्रिकेट को पहचान दिलाई जब इस खेल में वेस्टइंडीज, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड की तूती बोलती थी.

कपिल का करियर :
131 टेस्ट में 434 और 225 वनडे में 253 विकेट. 5248 टेस्ट और 3783 वनडे रन.

कपिल देव की कप्तानी में भारत ने पहली बार वर्ल्ड कप जीता था. (ap)
कपिल देव की कप्तानी में भारत ने पहली बार वर्ल्ड कप जीता था. (ap)

Loading...

जानिए कपिल देव को
-कपिल देव अक्टूबर 1999 से अगस्त 2000 तक टीम इंडिया के कोच रहे.

-उनके कोच रहते मनोज प्रभाकर ने मैच फिक्सिंग के आरोप लगाए, जो बाद में खारिज हो गए.

-उसके बाद कपिल देव ने अगस्त 2000 में मुख्य कोच के पद से इस्तीफा दे दिया.

-कपिल इस विवाद से इतने आहत हुए कि उन्होंने ऐलान कर दिया कि वह इस खेल को पूरी तरह छोड़ रहे हैं.

-इसके बाद 2002 में विजडन ने उन्हें इंडियन क्रिकेटर ऑफ द सेंचुरी के पुरस्कार से नवाजा. कपिल ने सुनील गावस्कर और सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़ते हुए यह पुरस्कार जीता.

-इसके बाद कपिल देव वापस क्रिकेट से जुड़े और टीम के गेंदबाजी सलाहकार बने. इसके साथ ही वह दो साल के लिए राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी के अध्यक्ष भी रहे. मई 2007 में कपिल देव ने इंडियन क्रिकेट लीग से नाता जोड़ा, जिसकी वजह से उन्हें राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी से हटा दिया गया.

अंशुमान गायकवाड़ : बॉडीलाइन गेंदबाजी के आगे डटकर खड़े रहे
अंशुमान गायकवाड पूर्व भारतीय क्रिकेटर हैं और दो बार टीम इंडिया के कोच रह चुके हैं. उन्होंने भारत के लिए 40 टेस्ट और 50 वनडे खेले हैं. गायकवाड ने नेशनल सेलेक्टर के तौर पर भी काम किया है जिसके बाद उन्हें भारतीय कोच की जिम्मेदारी दी गई थी. पहली बार अक्टूबर 1998 से सितंबर 1999 तक टीम के कोच रहे थे. उन्होंने मदल लाल के बाद कोच पद संभाला और वनडे में टीम के लिए अच्छा काम किया. हालांकि साल 1999 में ऑस्ट्रेलिया के खराब दौरे और वर्ल्ड कप के असफल अभियान के बाद उन्हें हटा दिया गया. इसके बाद साल 2000 में कपिल देव के कोच के पद से हट जाने के बाद उन्होंने कुछ समय तक कोच का पद संभाला जिसके बाद जॉन राइट ने कोच का पद संभाला.

अंशुमन गायकवाड दो बार भारतीय टीम के कोच रह चुके हैं (news18)
अंशुमन गायकवाड दो बार भारतीय टीम के कोच रह चुके हैं (news18)


अंशुमान का करियर 
अंशुमान गायकवाड़ ने 40 टेस्ट में 1985 रन बनाए थे. वहीं 15 वनडे में उन्होंने 269 रन बनाए थे.

जानिए अंशुमान गायकवाड़ को

-वो 1992 से लेकर 1996 तक नेशनल सेलेक्टर रहे.

-अंशुमान दो बार भारतीय टीम के कोच भी रहे. पहले 1997 से लेकर 1999 तक इसके बाद जब कपिल देव ने इस्तीफा दे दिया था वह जॉन राइट के आने तक टीम के कोच थे.

-उन्होंने अपना फर्स्ट क्लास करियर एक उंचाई पर ख़त्म किया. अपने आख़िरी मैच में शतक लगाया.

- अंशुमान के परिवार में और भी क्रिकेटर्स थे. उनके पिता दत्ताजी गायकवाड़ और उनके बेटे शत्रुंजय ने बड़ोदा के लिए फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेली.

-उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ जालंधर (पाकिस्तान) में 1982-83 के दौरे के समय 436 गेंदों में 201 रनों की पारी खेली थी जिसके लिए उन्होंने 671 मिनट का समय क्रीज पर बिताया था. यह उनके करियर की सर्वश्रेष्ठ पारी थी जिसे सबसे सुस्त पारी भी माना जाता है.

-वेस्टइंडीज के खिलाफ 1975-76 के दौरे पर  खतरनाक गेंदबाजी के खिलाफ बिना हेलमेट के खेल रहे थे. चौथे टेस्ट में वह 81 के स्कोर तक पहुंच गए थे. इसके बाद माइकल होल्डिंग की बाउंसर सीधे अंशुमन के कान पर आ लगी. ग्राउंड पर ख़ून ही ख़ून बिखर गया. अंशुमन को तुरंत मैदान से बाहर ले जाया गया. 48 घंटे तक वो ICU में रहे. दो बार कान की सर्जरी हुई. आज तक उनको सुनने में दिक्कत महसूस होती है.

शांता रंगास्वामी : भारतीय महिला टीम की पहली कप्तान
शांता रंगास्वामी भारतीय महिला टीम की पहली कप्तान थीं. उन्होंने 31 अक्टूबर 1976 को वेस्टइंडीज के खिलाफ डेब्यू किया था. उन्होंने कुल 16 टेस्ट मैच खेले जिसमें 12 में उन्होंने कप्तानी की थी. 15 साल के करियर में उन्होंने 19 वनडे मैच में भी खेले.  साल 1976 में उन्हें अर्जुन अवॉर्ड दिया गया था.

शांता रंगास्वामी भारत की पहली महिला क्रिकेट कप्तान हैं (twitter)
शांता रंगास्वामी भारत की पहली महिला क्रिकेट कप्तान हैं (twitter)


शांता रंगास्वामी का करियर
शांता रंगास्वामी ने 16 मैचों में 750 रन बनाए और 21 विकेट हासिल किए. वहीं वनडे में उन्होंने 19 मैचों में 287 रन बनाए और 12 विकेट हासिल किए.

जानिए शांता रंगास्वामी को

- शांता भारत के लिए पहली टेस्ट सीरीज जीतने वाली कप्तान थीं. साल 1976 में उनकी कप्तानी में भारत ने पहली बार वेस्टइंडीज के खिलाफ 1-0 से टेस्ट सीरीज जीती थी.

- उन्हें बीसीसीआई का लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड दिया गया. वह यह अवॉर्ड हासिल करने वाली पहली महिला क्रिकेटर हैं.

- वह भारत की ओर से शतक जड़ने वाली पहली भारतीय महिला क्रिकेटर हैं. साथ ही वह छक्का लगाने वाली भी पहली भारतीय महिला क्रिकेटर हैं.

- जब वह खेला नहीं करती थीं, तब वह ऑल इंडिया रेडियो के लिए क्रिकेट कमेंट्री किया करती थीं.

यह भी पढ़ें- इस बड़े क्रिकेटर के 5-6 लड़कियों के साथ रहे नाजायज रिश्ते, खुलासे के बाद लोगों ने जमकर बजाई तालियां!

इन दिग्गज खिलाड़ियों को मिल सकता है भारतीय कोच बनने का मौका
First published: July 26, 2019, 5:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...