कोच चुनने से पहले ही विवादों में फंसी कपिल देव की अध्यक्षता वाली कमेटी

कपिल देव की अध्यक्षता वाली कमेटी पर हितों के टकराव के मामले को लेकर सवाल उठाए जाने लगे हैं

News18Hindi
Updated: July 31, 2019, 1:25 PM IST
कोच चुनने से पहले ही विवादों में फंसी कपिल देव की अध्यक्षता वाली कमेटी
कपिल देव (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 31, 2019, 1:25 PM IST
टीम इंडिया के नए कोच के चयन के लिए आवेदन करने की तारीख खत्म हो गई है और अब कपिल देव की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय समिति (कमेटी) शॉर्ट लिस्ट किए गए लोगों का इंटरव्यू लेगी. क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी (CAC) में कपिल देव के अलावा पूर्व कोच अंशुमान गायकवाड़ और पूर्व महिला खिलाड़ी शांता रंगास्वामी भी शामिल हैं.

टीम का कोच चुनने की आगे की प्रक्रिया तो अब शुरू होगी, लेकिन उससे पहले ही इस कमेटी पर सवाल उठने लगे हैं. सबसे बड़ा सवाल तो यह उठ रहा है कि बीसीसीआई के नए संविधान के मुताबिक क्या समिति कोच चुन सकती है. चर्चा हो रही है कि कमेटी के सदस्यों पर हितों के टकराव का मामला तो नहीं बनता.

एथिक्स ऑफिसर लेंगे अंतिम निर्णय

अंशुमान गायकवाड़ (फाइल फोटो)


शॉर्ट लिस्ट किए गए लोगों के इंटरव्यू लेने से पहले बीसीसीआई में नियुक्त लोकपाल और एथिक्स ऑफिसर जस्टिस डीके जैन इस मामले में अंतिम निर्णय लेंगे. क्रिकइन्फो के अनुसार हितों के टकराव के मामले को सबसे पहले सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशासनिक समिति की सदस्य डायना इडुल्जी ने दिल्ली में  हुई सीएसी की बैठक में उठाया था. उसके बाद मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के आजीवन सदस्य संजीव गुप्ता ने भी सीओए को पत्र लिखकर उठाया.

विशेषज्ञ के रूप में काम करते हैं कपिल देव और गायकवाड़
कपिल देव भारतीय क्रिकेट एसोसिएशन की स्टीयरिंग कमेटी के भी सदस्य है. वहीं वह और अंशुमन गायकवाड़ टीवी पर विशेषज्ञ की भूमिका निभाते हैं. गायकवाड़ बीसीसीआई की मेंबर संबंधित कमेटी का हिस्सा हैं. वहीं रंगास्वामी भी आईसीए की निदेशक हैं.
Loading...

यह भी पढ़ें- सुंदरम रवि के बाहर होने से आईसीसी एलीट पैनल में अब कोई भारतीय अंपायर नहीं

एशेज के रोमांच को जानना है तो ये खबर जरूर पढ़ें
First published: July 31, 2019, 1:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...