कपिल ने देव किया खुलासा, 19 साल की उम्र में अधिकारी से झगड़े ने बना दिया तेज गेंदबाज

कपिल ने देव किया खुलासा, 19 साल की उम्र में अधिकारी से झगड़े ने बना दिया तेज गेंदबाज
कपिल देव ने पहली बार भारत को वर्ल्ड कप जिताया था

कपिल देव (Kapil Dev) भारत के सबसे कामयाब तेज गेंदबाज औऱ ऑलराउंडर्स में शामिल है

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 16, 2020, 12:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत को वर्ल्ड कप जिता चुके पूर्व कप्तान कपिल देव (Kapil Dev) ने अपने करियर में बतौर ऑलराउंडर खुद को काफी हद तक साबित किया. कपिल देव (Kapil Dev) के क्रिकेट में आने से पहले और उनके आने के बाद भी दुनिया भर में वेस्टइंडीज (West Indies) के तेज गेंदबाजों की तूती बोलती थी. वह ऐसा समय था भारत में कोई वर्ल्ड क्लास तेज गेंदबाज साबित नहीं हुआ था. आज जहां टीम के पास तेज गेंदबाजों की पूरी एक फौज है वहीं 1970 के दशक के पास भारत के कोई बड़ा नाम नहीं था. कपिल देव के डेब्यू के साथ ही भारत की तेज गेंदबाज की खोज खत्म हुई. कपिल देव ने हाल ही में बताया कि आखिर उन्होंने तेज गेंदबाज बनने की क्यों ठानी.

लोगों को गलत साबित करने के लिए तेज गेंदबाज बने कपिल
कपिल (Kapil Dev) के मुताबिक वह हमेशा से तेज गेंदबाज ही थे लेकिन इस फैसले को लेकर ज्यादा गंभीर तब हुए जब एक कैंप के दौरान एक अधिकारी ने उनके तेज गेंदबाज होने पर सवाल उठाया था. महिला टीम के मौजूदा कोच डब्ल्यूवी रमन के साथ एक इंटरव्यू में बताया, 'आपको पता है कैंप के दौरान अधिकारी कई बार कितनी सख्ती से पेश आते हैं और बात करते हैं. एक बार मेरी एक अधिकारी से बहस हो गई. उस अधिकारी ने गुस्से में मुझसे पूछा कि मैं क्या करता हूं. मैंने कहा कि मैं तेज गेंदबाज हूं तो उन्होंने गुस्से में मुझसे कहा कि भारत में कभी कोई तेज गेंदबाज नहीं रहा.' यह बात कपिल के दिल को चुभ गई औऱ उन्होंने तय किया कि वह अब तेज गेंदबाज बनकर सबको गलत साबित करेंगे.

महान गेंदबाज वकार यूनुस ने पाकिस्तान के गेंदबाजों को सरेआम कह दिया था धोखेबाज, जानिए क्यों
कपिल देव ने बतौर तेज गेंदबाज हासिल की काफी कामयाबी


कपिल ने अपने करियर में सिर्फ गेंद से ही नहीं बल्कि बल्ले से भी कमाल किया. 1983 में जब किसी को भरोसा भी नहीं था तब उन्होंने देश को वर्ल्ड कप जिताया. पूर्व भारतीय बल्लेबाज सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) ने कहा था कि कपिल की कामयाबी ने भारत के युवाओं को दिखाया कि बतौर तेज गेंदबाज भी कामयाबी हासिल की जा सकती है. कपिल ने 131 टेस्ट में 5248 रन बनाए वहीं हैं वहीं 434 विकेट हासिल किए. वहीं वनडे में उन्होंने 253 विकेट लिए और 3783 रन बनाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज