कोच पद के दावेदारों को 100 में से मिले अंक, हेसन-शास्‍त्री के बीच हुआ कड़ा मुकाबला

News18Hindi
Updated: August 16, 2019, 11:35 PM IST
कोच पद के दावेदारों को 100 में से मिले अंक, हेसन-शास्‍त्री के बीच हुआ कड़ा मुकाबला
रवि शास्त्री फिर बने हेड कोच

क्रिकेट सलाहकार समिति ने रवि शास्त्री (Ravi Shastri) को टीम इंडिया का हेड कोच (Indian Cricket Team Head Coach) चुना. शास्त्री को माइक हेसन (Mike Hesson) और टॉम मूडी (Tom Moody) से कड़ी टक्कर मिली

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 16, 2019, 11:35 PM IST
  • Share this:
रवि शास्त्री (Ravi Shastri) को एक बार फिर टीम इंडिया (Team India) का हेड कोच चुन लिया गया है. मुंबई में क्रिकेट सलाहकार समिति ने कोच पद के 5 दावेदारों का इंटरव्यू लिया जिसमें रवि शास्त्री का वेस्टइंडीज से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इंटरव्यू हुआ. उनके अलावा ऑस्ट्रेलिया के पूर्व ऑलराउंडर टॉम मूडी, न्यूजीलैंड के पूर्व कोच माइक हेसन, पूर्व भारतीय ऑलराउंडर रॉबिन सिंह और लालचंद राजपूत शामिल थे. हालांकि हेड कोच की रेस में रवि शास्त्री ने बाजी मारी.

कोच पद के दावेदारों को 100 में से मिले अंक
रवि शास्त्री (Ravi Shastri) के चयन के बाद कपिल देव ने बताया कि कोच पद के दावेदारों को 100 में से अंक दिए गए. जिसमें सबसे ऊपर रवि शास्त्री रहे. इसके बाद दूसरे नंबर पर माइक हेसन और तीसरे नंबर पर टॉम मूडी रहे. हालांकि उन्होंने उम्मीदवारों को दिए गए नंबरों का खुलासा नहीं किया.

रवि शास्त्री को हासिल था विराट कोहली का समर्थन


शास्त्री का चयन विराट कोहली की वजह से नहीं
कपिल देव ने शुक्रवार को कहा कि रवि शास्त्री का भारतीय टीम के मुख्य कोच पद पर फिर से चयन का फैसला कप्तान विराट कोहली का मौजूदा कोच को खुले समर्थन से प्रभावित नहीं रहा. कपिल से जब पूछा गया कि अंतिम फैसला कप्तान की प्राथमिकता से प्रभावित रहा, उन्होंने कहा, 'नहीं, क्योंकि अगर हम उनकी राय लेते तो हमें पूरी टीम की राय लेनी पड़ती. हमने उनसे नहीं पूछा क्योंकि हमारे पास यह सुविधा नहीं थी.' सभी उम्मीदवारों में शास्त्री का रिकॉर्ड शानदार था. उनके कोच रहते हुए भारतीय टीम टेस्ट रैंकिंग में नंबर एक स्थान पर पहुंची और उसने 71 सालों में पहली बार ऑस्ट्रेलिया को उसकी सरजमीं पर हराया.

कपिल देव (Kapil Dev) की अगुवाई वाली क्रिकेट सलाहकार समिति (Cricket Advisory Committee) ने रवि शास्त्री(Ravi Shastri) को टीम इंडिया के हेड कोच पद पर बरकरार रखा
रवि शास्त्री 2021 तक रहेंगे कोच

Loading...

आईसीसी टूर्नामेंट में नाकामी बड़ा मुद्दा नहीं
रवि शास्त्री की अगुआई में हालांकि भारत आईसीसी टूर्नामेंट नहीं जीत पाया और उसे 2015 और 2019 के विश्व कप में निराशा हाथ लगी. कपिल देव की अगुआई वाली समिति को हालांकि यह बड़ा कारण नहीं लगा
आईसीसी टूर्नामेंटों में भारत के सेमीफाइनल में हारने के बारे में पूछे जाने पर कपिल ने कहा, 'अगर मैनेजर किसी टीम के साथ एक विश्व कप नहीं जीत पाता है तो क्या उसे बर्खास्त कर देना चाहिए. नहीं. आपको पूरी तस्वीर पर गौर करना होता है और हमने ऐसा किया. हमने उनकी प्रस्तुति को देखा और हमने उस हिसाब से फैसला किया.'

शास्त्री की कम्यूनिकेशन स्किल्स अच्छी
कपिल देव ने बताया कि शास्त्री के कम्यूनिकेशन स्किल्स (संवाद कौशल) ने उनके चयन में अहम भूमिका निभाई. कपिल ने कहा, 'वे सभी लाजवाब थे. कुछ अवसरों पर मुझे लगा कि शास्त्री संवाद कौशल में बेहतर हैं, बाकी सदस्यों की राय हो सकती है इसमें अलग हो, लेकिन हमने इस पर चर्चा नहीं की. हमने प्रस्तुति सुनने के बाद सभी को अंक दिये. हम तीनों ने काफी कुछ सीखा. सभी ने अपनी प्रस्तुति के लिए कड़ी मेहनत की थी.'

माइक हेसन और मूडी ने दी शास्त्री को कड़ी टक्कर


टीम को समझते हैं शास्त्री
शास्त्री के चयन पर अंशुमन गायकवाड़ ने कहा, 'असल में मौजूदा कोच होने के कारण वह खिलाड़ियों को अच्छी तरह से समझते हैं, टीम की समस्याओं को वो जानते हैं और इसके लिए क्या करना है ये भी उन्हें पता है.' आपको बता दें शास्त्री का भारतीय टीम के साथ यह चौथा कार्यकाल होगा. वह बांग्लादेश के 2007 के दौरे के समय कुछ समय के लिए कोच बने थे. इसके बाद वह 2014 से 2016 तक टीम निदेशक और 2017 से 2019 तक मुख्य कोच रहे.

यह भी पढ़ें-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 16, 2019, 9:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...