सचिन-द्रविड़ को पहली गेंद पर किया बोल्ड, लगातार 4 विकेट झटकने के बाद लगाया था शतक, फिर भी नहीं चमकी किस्मत

सचिन-द्रविड़ को पहली गेंद पर किया बोल्ड, लगातार 4 विकेट झटकने के बाद लगाया था शतक, फिर भी नहीं चमकी किस्मत
सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ अपना खाता तक नहीं खोल पाए थे (फाइल फोटो)

इस मुकाबले में इस खिलाड़ी ने सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar), राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) सहित कुल 5 विकेट लेने के बाद 103 रन की शानदार पारी खेलकर इतिहास रच दिया था

  • Share this:
नई दिल्‍ली. सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar), राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) जैसे महान बल्‍लेबाजों को पहली ही गेंद पर बोल्‍ड, लगातार 4 विकेट, फिर शतक जड़ने के बाद खिलाड़ी का भाग्‍य तो अपने आप ही खुल जाता है, मगर इंग्‍लैंड के मध्‍य गति के तेज गेंदबाज केवन जेम्‍स (Kevam James) के साथ ऐसा नहीं हो पाया. इतना सब कुछ करने के बावजूद उनकी किस्‍मत नहीं चमकी. आज ही के दिन यानी 1 जुलाई 1996 को केवन जेम्‍स पहली चार गेंदों पर चार विकेट और फिर उसी मैच में शतक जड़ने वाले पहले फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेटर बने थे. जेम्‍स ने सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और संजय मांजरेकर जैसे स्‍टार प्‍लेयर्स को अपना खाता भी खोलने का मौका नहीं दिया. इस मैच की पहली पारी में जेम्‍स ने कुल 5 विकेट लिए थे.

गेंद के बाद बल्‍ले से किया कमाल
1996 में इंग्‍लैंड दौरे पर गई टीम इंडिया (Team India) ने 29 जून से 1 जुलाई के बीच हैम्‍पशर के साथ टूर मैच खेला. पहले बल्‍लेबाजी करते हुए इंडियंस ने 5 विकेट पर 362 रन पर अपनी पारी घोषित की, जवाब में हैम्‍पशर ने आखिरी दिन का खेल समाप्‍त होने तक 9 विकेट पर 458 रन बना लिए थे और मुकाबला ड्रॉ हो गया. इस मुकाबले में भारत की तरफ से सौरव गांगुली ने नाबाद शतक जड़ा था. मगर आज भी इस मुकाबले को सिर्फ जेम्‍स की वजह से याद किया जाता है, जिन्‍होंने पहले 5 विकेट लिए और फिर बाद में 103 रन की पारी खेली.

उन्‍होंने इसी के साथ इतिहास रच दिया था. इस मैच से पहले फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में 30 गेंदबाजों ने चार गेंदों पर चार विकेट लिए थे. हालांकि एक हैट्रिक उतना मुश्किल नहीं था. जेम्‍स से पहले 9 खिलाड़ियों ने शतक के साथ यह उपलब्धि हासिल की थी. मगर आज से 24 साल पहले यानी 1 जुलाई 1996 को जेम्‍स एक ही मैच में चार गेंदों पर चार विकेट और शतक जड़ने वाले पहले खिलाड़ी बने थे. हालांकि 2009 में एक्‍सेस के ग्राहम नेपियर ने चार गेंदों पर चार विकेट लिए थे, मगर वह बल्‍ले से सिर्फ पांच रन ही बना पाए.



यह भी पढ़ें: 



माइकल हसी ने कहा- ऑस्ट्रेलिया में कमाल कर सकते हैं रोहित शर्मा, बताई ये वजह

साथी क्रिकेटर की गर्लफ्रेंड से रेप करने वाला ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी फिर दोषी साबित

नहीं खुली किस्‍मत
ऐसे प्रदर्शन की हर खिलाड़ी उम्‍मीद नहीं करता है, ताकि आगे के रास्‍ते खुल सके. इस प्रदर्शन के दम पर जेम्‍स को आसानी से इंग्‍लैंड की टीम में जगह मिल सकती थी, मगर ऐसा नहीं हो पाया. मध्‍यम गति के गेंदबाज जेम्‍स उस समय ही 35 साल के हो गए थे और उम्र की वजह से वह कभी इंटरनेशनल मैच नहीं खेल पाए. 18 मार्च 1961 को लंदन में जन्‍में जेम्‍स ने 225 फर्स्‍ट क्‍लास मैच में खेले, जिसमें उन्‍होंने 8 हजार 526 रन बनाए, जबकि 395 विकेट लिए. जेम्‍स के नाम फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में 10 शतक और 42 अर्धशतक है.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading