केविन पीटरसन बोले-इंग्लैंड को अपना रवींद्र जडेजा खोजना होगा, युवा खिलाड़ी जड्डू की नकल करें

केविन पीटरसन ने रवींद्र जडेजा को बताया सुपरस्टार, कहा-इंग्लैंड को चाहिए ऐसा खिलाड़ी (फोटो-एएफपी)

इंग्लैंड को न्यूजीलैंड के खिलाफ 2 टेस्ट मैचों की सीरीज के बाद भारत के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की बड़ी सीरीज भी खेलनी है, केविन पीटरसन (Kevin Pietersen) ने नए सीजन से पहले इंग्लैंड की बड़ी कमजोरी बताई है. साथ ही उन्होंने कहा है कि इंग्लैंड को रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) जैसे खिलाड़ी की जरूरत है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. इंग्लैंड की टीम बुधवार से अपने नए क्रिकेट सीजन का आगाज करने वाली है. सबसे पहले उसे न्यूजीलैंड के खिलाफ 2 मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है और उसके बाद अपनी धरती पर वो टीम इंडिया से भिड़ेगी. इंग्लैंड के नए सीजन से पहले उसके पूर्व कप्तान केविन पीटरसन (Kevin Pietersen) ने टीम की बड़ी कमी को उजागर किया है. पीटरसन ने साथ ही इंग्लिश टीम को सलाह दी कि उसे हर हाल में रवींद्र जडेजा जैसा खिलाड़ी ढूंढना ही होगा. साथ ही पीटरसन ने इंग्लैंड के हर उभरते क्रिकेटर को सलाह दी कि वो रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) जैसा बनने की कोशिश करें.

    केविन पीटरसन ने बेटवे डॉट कॉम में अपने कॉलम में लिखा कि अबतक इंग्लैंड की टीम बाएं हाथ का ऐसा स्पिन गेंदबाज नहीं ढूंढ पाई है जो कि बल्लेबाजी भी कर पाए. पीटरसन ने लिखा, 'इंग्लैंड को हर हाल में अपना रवींद्र जडेजा खोजना होगा. रवींद्र जडेजा को देकिए उन्होंने टीम इंडिया के लिए टेस्ट, वनडे और टी20 में कैसा प्रदर्शन किया है. ये एक ऐसी समस्या है जिसका हल इंग्लैंड को ढूंढना ही होगा. उन्हें किसी खिलाड़ी पर दांव लगाना होगा क्योंकि अगर जडेजा जैसा खिलाड़ी इंग्लैंड को मिल गया तो उससे अनमोल कुछ नहीं है.'

    युवा खिलाड़ी जडेजा को देखकर सीखें-पीटरसन
    केविन पीटरसन ने इंग्लैंड के उभरते खिलाड़ियों को सलाह दी कि वो रवींद्र जडेजा को देखकर सीखें. उन्होंने लिखा, 'जडेजा की नकर करें क्योंकि वो एक सुपरस्टार हैं. अगर आप ऐसा करते हैं तो इंग्लैंड के लिए बतौर टेस्ट क्रिकेटर आपका करियर बहुत लंबा होगा.' केविन पीटरसन ने इंग्लैंड के दो स्पिनर जैक लीच और डोम बेस पर सवाल खड़े किये. पीटरसन ने लिखा कि लीच और बेस दोनों टेस्ट स्पिनर नहीं हैं. पीटरसन ने लिखा- मैंने दो साल पहले कहा था कि लीच को टेस्ट मैच जिताने के लिए नहीं जाना जाएगा, दुर्भाग्य से मैं सही साबित हुआ. वो टेस्ट मैच नहीं जिता सकते. वो मॉन्टी पनेसर और ग्रीम स्वान की तरह नहीं हैं. इंग्लैंड अगर सिर्फ तेज गेंदबाजों से उतरता है तो आप समझ सकते हैं कि मैं क्या कहना चाह रहा हूं. इंग्लैंड को हर हाल में एक बाएं हाथ के स्पिनर की खोज करनी होगी नहीं तो ये कमजोरी हमेशा बनी रहेगी.