'धोनी भाई मेरे लिए भगवान की तरह, उनसे तुलना बंद करो'; जब पंत ने परेशान होकर खेल छोड़ने की कही थी बात

आईपीएल 2021 में ऋषभ पंत ने दिल्ली कैपिटल्स की कप्तानी की थी और टीम 8 में से 6 मैच जीतकर अंक तालिका में पहले स्थान पर थी. (Twitter)

केकेआर के बल्लेबाज और दिल्ली रणजी टीम से खेलने वाले नीतीश राणा(Nitish Rana) ने ऋषभ पंत(Rishabh Pant) को लेकर बड़ा खुलासा किया है. उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा कि पंत पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी(MS Dhoni) को भगवान की तरह मानते हैं और उनसे अपनी तुलना को बिल्कुल पसंद नहीं करते हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी खेल के दिग्गजों में से एक हैं. वो कप्तान, बल्लेबाज और विकेटकीपर तीनों रोल में फिट और हिट साबित हुए. उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में जिस मुकाम को हासिल किया, उस तक पहुंचना आसान नहीं है. धोनी ने अपने खेल के जरिए सिर्फ भारत में ही नहीं, बल्कि दुनियाभर में खिलाड़ियों को प्रेरित किया. ऐसे ही एक खिलाड़ी हैं ऋषभ पंत. करियर के शुरुआती दिनों से ही पंत की तुलना धोनी से होती रही है, जिसे वो खुद पसंद नहीं करते हैं. ये खुलासा दिल्ली रणजी टीम में उनके साथी रहे नीतीश राणा ने किया है. नीतीश को जुलाई में श्रीलंका दौरे पर जाने वाली टीम इंडिया में चुना गया है.

    नीतीश ने इंडिया टीवी से खास बातचीत में पंत को लेकर ये बड़ा खुलासा किया. उन्होंने कहा कि ऋषभ पंत धोनी को काफी पसंद करते हैं. इस हद तक कि वह कभी-कभी कहता है कि अगर कोई है जिसे मैं जागते और सोते समय देखना चाहता हूं, तो वह माही भाई हैं. उन्होंने(पंत) ने मुझसे यहां तक कहा था कि कि लोग मेरी तुलना माही भाई से क्यों कर रहे हैं, मैं तुलना के लायक नहीं हूं. एक बार पंत ने मुझसे हाथ जोड़ते हुए कहा था कि मेरा बल्ला या सबकुछ ले लो. मैं खेलना भी छोड़ दूंगा, लेकिन मेरी तुलना धोनी भाई से मत किया करो. वो मेरे लिए भगवान की तरह हैं.

    पंत का आत्मविश्वास उनकी सबसे बड़ी ताकत: राणा
    23 साल के इस विकेटकीपर को भारतीय क्रिकेट का अगला सितारा माना जा रहा है. राणा के मुताबिक, पंत का आत्मविश्वास ही उन्हें इस मुकाम तक लाया है. राणा ने कहा कि पंत की सबसे बड़ी ताकत उनका खुद पर यकीन है. वो जिस भी फॉर्मेट में खेले, अपनी काबिलियत पर हमेशा यकीन करते हैं. मुझे आज भी य़ाद है जब लोग उनकी आलोचना कर रहे थे, तब उन्होंने मुझसे कहा था कि मैं सिर्फ एक बड़ी पारी से दूर हैं, जिस दिन मैंने बड़ी पारी खेल दी, उस दिन सब लोग चुप हो जाएंगे और मुझे यकीन है कि ऐसा जल्दी ही होगा.

    शायद अगले ही मैच में उन्होंने शतक ठोक दिया. ये शायद 2018-19 के ऑस्ट्रेलिया दौरे की बात है. तब उन्होंने मुझे फोन किया था और अपने पर बने मीम्स शेयर करते हुए कहा था- देखो, लोग कैसे बदल जाते हैं, पहले मेरे लिए कैसी बात कर रहे थे और अब उनका नजरिया बदल गया है. उनकी सबसे ताकत खुद पर यकीन है.

    5 खिलाड़ियों ने विरोधी टीम की ओर से फील्डिंग की, अपने ही साथी का कैच पकड़ मैच ड्रॉ कराया, जानें किसने निभाई ऐसी दोस्ती

    पिछले ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद पंत का वक्त बदला
    पंत का पिछले एक साल में प्रदर्शन शानदार रहा है. उन्होंने पिछले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टीम इंडिया की सीरीज जीत में अहम भूमिका निभाई थी. खासतौर पर ब्रिसबेन टेस्ट में उन्होंने नाबाद 89 रन की पारी खेलकर टीम को टेस्ट जिताया था. वो सिडनी टेस्ट में शतक से तो 3 रन से चूक गए थे. लेकिन मैच ड्रॉ कराने में उनकी पारी काफी काम आई. इसके बाद उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज में अच्छी बल्लेबाजी की. पंत ने 4 टेस्ट की सीरीज में दो अर्धशतक और एक शतक जमाया था.

    यह भी पढ़ें: HBD Shane Watson: चोट से जूझते हुए देश के लिए जीते दो विश्व कप, वनडे में भी खेली सबसे बड़ी पारी

    इसी प्रदर्शन के कारण उन्हें दिल्ली कैपिटल्स ने श्रेयस अय्यर के चोटिल होने के बाद टीम का कप्तान बनाया था. उनकी कप्तानी में दिल्ली ने आईपीएल 2021 स्थगित होने से पहले 8 में से 6 मैच जीते थे और अंक तालिका में टीम पहले स्थान पर थी. अब पंत विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप और इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट की सीरीज में टीम इंडिया का हिस्सा हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.