खराब फॉर्म से जूझ रहा है ये खिलाड़ी लेकिन कोहली ने बताया 'मैच जिताऊ'

भाषा
Updated: September 17, 2017, 9:36 AM IST
खराब फॉर्म से जूझ रहा है ये खिलाड़ी लेकिन कोहली ने बताया 'मैच जिताऊ'
भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली
भाषा
Updated: September 17, 2017, 9:36 AM IST
केएल राहुल भले ही पिछले कुछ अर्से से वनडे क्रिकेट में खराब फॉर्म में जूझ रहे हैं लेकिन कप्तान विराट कोहली को पूरा विश्वास है कि वह चौथे नंबर पर उम्दा बल्लेबाज़ी करेंगे.

राहुल के फॉर्म के बारे में कोहली ने कहा, "केएल राहुल बेहतरीन प्रतिभा के धनी है. उसने सभी प्रारूपों में खुद को साबित किया है. उसका साथ देने की ज़रूरत है क्योंकि हमारा मानना है कि उसमें क्षमता है. एक बार इस क्रम पर जमने के बाद वह हमारे लिए मैच ज़रूर जीतेगा. हमें इसका यकीन है." कोहली का मानना है कि राहुल ही नहीं बल्कि टीम के हर खिलाड़ी को लचीला होना होगा.

उन्होंने कहा, "यदि आप ऐसा सोचे कि एक प्रारूप में आप जिस क्रम पर बल्लेबाज़ी करते हैं, सभी प्रारूपों में उसी क्रम पर करेंगे तो टीम के लिए सही संतुलन बनाना मुश्किल हो जाता है. खिलाड़ियों को टीम की ज़रूरतों के मुताबिक खुद को ढालना होगा."

कोहली ने कहा, "मैंने टी20 क्रिकेट में पारी की शुरुआत की है. मुझे इतना लचीला होना होगा. यह खिलाड़ी पर निर्भर करता है कि वह टीम की ज़रूरत के अनुसार उतर सके." उन्होंने कहा कि किसी भी बल्लेबाज़ को नए क्रम पर जमने में समय लगता है.

उन्होंने कहा, "इसमें समय लगता है. यह आसान नहीं है. अजिंक्य रहाणे ने वनडे में मध्यक्रम पर खेला और टेस्ट में भी वह खेलता है. उसने वनडे में पारी का आगाज़ भी किया. उसे भी दिक्कत हुई लेकिन हमने उसका साथ दिया. उसे पता है कि रणनीति साफ है."

यह पूछने पर कि ऑस्ट्रेलिया कठिन प्रतिद्वंद्वी होने के कारण क्या उनकी रणनीति अलग होगी. उन्होंने कहा, "मुझे नहीं लगता कि हमें अलग नज़रिए की ज़रूरत है. मैने श्रीलंका के खिलाफ सीरीज़ से पहले भी कहा था कि आपका विरोधी नहीं बल्कि आपकी तैयारी अहम है. आप सभी टीमों की ताकतों और कमज़ोरियों का आकलन करते हैं."

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पिछली टेस्ट सीरीज़ काफी तनावपूर्ण थी और कोहली ने कहा कि हर सीरीज़ में प्रतिस्पर्धी होना ज़रूरी है.

यह पूछने पर कि क्या अधिक प्रतिस्पर्धी होने से खिलाड़ी आपा खो देते हैं, उन्होंने कहा, "मुझे ऐसा नहीं लगता. आप कुछ भी कहने के लिए स्वतंत्र हैं. आप सारा समय बोलते रहिये लेकिन मैदान पर नतीजा नहीं निकलता तो सब बेकार है. मानसिक द्वंद्व की बातें दर्शकों के लिए भी रोमांच पैदा करती है."

टीम से बाहर हुए अक्षर पटेल, 'गेम चेंजर' गेंदबाज़ की हुई वापसी

IND vs AUS: पहला वनडे आज, 2013 का बदला लेना चाहेगी कंगारू टीम
First published: September 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर