...सचिन तेंदुलकर से पहले द्रविड़ और कुंबले को क्यों मिला ये सम्मान, जानिए

सचिन सेंदुलकर सिर्फ छठे भारतीय खिलाड़ी हैं जिन्हें हॉल ऑफ़ फेम में शामिल किया गया है

News18Hindi
Updated: July 20, 2019, 10:49 AM IST
...सचिन तेंदुलकर से पहले द्रविड़ और कुंबले को क्यों मिला ये सम्मान, जानिए
सचिन तेंदुलकर को बड़ा सम्मान (ap)
News18Hindi
Updated: July 20, 2019, 10:49 AM IST
क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर को एक और बहुत ही बड़े सम्मान से नवाज़ा गया है. आईसीसी ने गुरूवार को सचिन को क्रिकेट में उनके उनके अभिन्न योगदान के लिए आईसीसी हॉल ऑफ़ फेम में शामिल किया. इनके अलावा साउथ अफ्रीका के पूर्व तेज़ गेंदबाज़ एलन डोनल्ड और ऑस्ट्रेलिया की महिला क्रिकेट आइकॉन कैथरीन फ़िज़पैट्रिक को भी इस सम्मान से नवाज़ा गया है. तेंदुलकर सिर्फ छठे भारतीय खिलाड़ी बने जिन्हे हॉल ऑफ़ फेम में शामिल किया गया है. सचिन के साथी, अनिल कुंबले को 2015 और राहुल द्रविड़ को 2018 में उनसे पहले इस सम्मान से नवाज़ा जा चुका है. ऐसे में सभी क्रिकेट फैंस जानना चाहते हैं कि ऐसा क्यों है?

इस वजह से हुई देरी

दरअसल, तेंदुलकर के ये सम्मान पाने में हुई देरी की वजह काफी वाज़िब है. आईसीसी के नियमों के अनुसार, किसी खिलाड़ी को हॉल ऑफ़ फेम में तभी शामिल किया जा सकता है, जब उसे अपना रिटायरमेंट लिए हुए कम से कम 5 साल हो गए हों. तेंदुलकर, जिन्होंने अपना अंतरराष्ट्रीय डेब्यू 1989 में किया था, उन्होंने 2013 में क्रिकेट को अलविदा कहा और इसलिए उन्हें इस सम्मान का हकदार बनने के लिए 2018 के ख़त्म होने का इंतज़ार करना पड़ा. सचिन के लाजवाब करियर में ये सम्मान एक और सितारे के रूप में जुड़ गया है.

सचिन तेंदुलकर से पहले अनिल कुंबले को मिल चुका है यह सम्मान (ap)
सचिन तेंदुलकर से पहले अनिल कुंबले को मिल चुका है यह सम्मान (ap)


बेदी, गावस्कर, और कपिल हो चुके हैं शामिल

भारत की तरफ से 3 और क्रिकेटर जिन्हे ये सम्मान मिल चुका है, वे बिशन सिंह बेदी, सुनील गावस्कर, और कपिल देव हैं. भले ही तीनों ने बहुत पहले रिटायरमेंट ले लिया था, लेकिन तीनों को 2009 में हॉल ऑफ़ फेम में शामिल किया गया. बेदी ने 1979 में, गावस्कर ने 1987 में और कपिल ने 1994 में संन्यास ले लिया था. अब तक कुल 87 खिलाड़ी आईसीसी के हॉल ऑफ़ फेम में शामिल किए जा चुके हैं. इंग्लैंड के सबसे ज़्यादा, 28 तो वहीं ऑस्ट्रेलिया के 26 खिलाड़ी अब तक इस सम्मान से नवाज़े जा चुके हैं. इनके अलावा वेस्ट इंडीज के 18, पाकिस्तान के पांच, न्यूज़ीलैंड और साथ अफ्रीका के तीन और श्रीलंका का एक खिलाड़ी शामिल हैं. तेंदुलकर ने कुल 200 टेस्ट, 463 वनडे, और एक टी-20 मैच खेले हैं. उन्होंने अपने शानदार करियर में 34,000 से ज़्यादा अंतरराष्ट्रीय रन बनाए हैं जिनमे रिकॉर्ड 100 शतक शामिल हैं.

धोनी अभी नहीं लेंगे संन्‍यास, करीबी दोस्‍त ने दी जानकारी
Loading...

3 साल, 11 महीने और 6 दिन बाद आउट हुईं ये क्रिकेटर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 20, 2019, 10:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...