होम /न्यूज /खेल /

Exclusive: आप किसी भी खिलाड़ी को संन्यास की सलाह नहीं दे सकते, 'साहा कंट्रोवर्सी' पर बोले पूर्व क्रिकेटर

Exclusive: आप किसी भी खिलाड़ी को संन्यास की सलाह नहीं दे सकते, 'साहा कंट्रोवर्सी' पर बोले पूर्व क्रिकेटर

ऋद्धिमान साहा को टेस्ट टीम से बाहर कर दिया गया है. (Wriddhiman Saha Instagram)

ऋद्धिमान साहा को टेस्ट टीम से बाहर कर दिया गया है. (Wriddhiman Saha Instagram)

ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) को श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए टीम इंडिया में जगह नहीं मिली है. वे रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) के भी मुकाबले नहीं खेल रहे हैं. पिछले दिनों कोच राहुल द्रविड़ (Rahu Dravid) ने उन्हें संन्यास लेने के बारे में कहा था.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) इन दिनों सबसे चर्चित भारतीय क्रिकेटर बने हुए हैं. चाहे इंटरव्यू के लिए पत्रकार की ओर से मिली धमकी की बात हो या कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) द्वारा संन्यास के लिए कहे जाने का मामला हो. इस बीच टीम इंडिया (Team India) को अगले महीने श्रीलंका से 2 मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है. श्रीलंका से सीरीज के लिए (India vs Sri Lanka) साहा को भारतीय टीम में जगह नहीं मिली है. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या फिर से वे टीम इंडिया में वापसी कर सकेंगे. वे रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) में भी नहीं उतर रहे हैं. विकेटकीपर बल्लेबाज साहा ने भारत की ओर से 40 टेस्ट खेले हैं.

News18 Hindi से एक्सक्लूसिव बात करते हुए टीम इंडिया के पूर्व कोच और जिम्बाब्वे के वर्तमान कोच लालचंद राजपूत (Lalchand Rajput) ने कहा कि संन्यास का फैसला खिलाड़ी को खुद करना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘आप किसी भी खिलाड़ी को यह नहीं बोल सकते हैं कि आप संन्यास लो. हर खिलाड़ी के ऊपर यह होता है कि वह कब तक खेले और कब संन्यास ले. यह उसका निर्णय होता है.’ पूर्व भारतीय कोच ने कहा कि भले ही आप खिलाड़ियों को टीम इंडिया में नहीं ले सकते हैं. लेकिन वह फर्स्ट क्लास क्रिकेट और आईपीएल में तो खेल ही सकता है.

लालचंद राजपूत ने कहा कि यदि आप किसी खिलाड़ी के संन्यास की बात करते हैं ताे उसके सारे रास्ते बंद हो जाते हैं. चाहे तो रणजी ट्रॉफी हो या आईपीएल. जब तक खिलाड़ी फिट है, उसे खेलते रहना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘एमएस धोनी (MS Dhoni) अभी तक फिट है और खेल रहा है. उसने टेस्ट और वनडे से खुद संन्यास लिया है. उससे किसी ने कहा नहीं. अगर आप किसी खिलाड़ी को टीम इंडिया में नहीं लेते हैं ताे उसे खुद ही इस बारे में जानकारी मिल जाती है और वह खुद संन्यास के बारे में सोचना लगता है.’

यह भी पढ़ें: मोहम्मद रिजवान का बल्ला 2022 में भी गरज रहा, 11 में से 7 पारियों में आया तूफान, बाबर से दोगुने रन बनाए

साहा के साथ कम्यूनिकेशन ठीक नहीं रहा

लालचंद राजपूत ने कहा कि 40 टेस्ट खेलने वाले ऋद्धिमान साहा के साथ कम्यूनिकेशन कहीं ना कहीं ठीक नहीं रहा. उन्होंने कहा कि मैं भी कोच हूं. मेरे पास भी कई खिलाड़ी आते हैं और कहते हैं कि मेरे लिए भविष्य में किस तरह के मौके हैं. मैं उनसे हमेशा कहता हूं कि आप अच्छा प्रदर्शन करो, उम्र कोई बंधन नहीं है. उन्होंने कहा कि अगर आप प्रदर्शन ठीक-ठाक कर रहे हैं और युवा खिलाड़ी भी अच्छा प्रदर्शन कर रहा है तो मैं युवा खिलाड़ी को मौका दूंगा. लेकिन खिलाड़ी को फिटनेस बनाए रखना होगा और लगातार अच्छा प्रदर्शन करते रहने होगा. ऐसा करने पर आपको कोई टीम से नहीं निकाल सकता.

Tags: BCCI, Lalchand Rajput, Ms dhoni, Rahul Dravid, Team india, Wriddhiman saha

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर