लाइव टीवी

लुंगी एनगिडी: गरीबी से निकलकर बने इंटरनेशनल क्रिकेटर, बोले- मैदान पर सब बराबर

भाषा
Updated: October 17, 2019, 7:43 AM IST
लुंगी एनगिडी: गरीबी से निकलकर बने इंटरनेशनल क्रिकेटर, बोले- मैदान पर सब बराबर
दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज लुंगी एनगिडी.

दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के 23 साल के तेज गेंदबाज लुंगी एनगिडी (Lungi Ngidi) ने गरीबी को करीब से देखा है.

  • Share this:
नई दिल्ली: लुंगी एनगिडी (Lungi Ngidi) जानते हैं कि उनका बचपन बेहद गरीबी में बीता लेकिन उन्हें खुशी है कि क्रिकेट मैदान पर प्रतिभा और कौशल के सामने सामाजिक या वित्तीय असमानता कोई मायने नहीं रखती. दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के इस 23 वर्षीय तेज गेंदबाज ने गरीबी को करीब से देखा है लेकिन यह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में जगह बनाने के लिये कभी आड़े नहीं आई.

माता-पिता पर दबाव नहीं बनाते थे एनगिडी
एनगिडी ने पीटीआई से कहा, ‘मुझे बचपन से ही पता था कि मेरे माता पिता अन्य परिवारों की तरह अमीर नहीं है. मैंने उन पर कभी उन चीजों के लिए दबाव नहीं बनाया जो उनके सामर्थ्य से बाहर थी. शुरू में मुझे संघर्ष करना पड़ा लेकिन कई लोग थे जिन्होंने मेरी मदद की क्योंकि मेरे माता-पिता किट्स और अन्य चीजें नहीं खरीद सकते थे.’

रंगभेद नीति की समाप्त के बाद जन्‍मे हैं एनगिडी और रबाडा

एनगिडी और कगिसो रबाडा (Kagiso Rabada) अश्वेत अफ्रीकी हैं जिनका जन्म रंगभेद की नीति समाप्त होने के बाद हुआ. हालांकि एनगिडी से उलट रबाडा का परिवार वित्तीय तौर पर मजबूत था. ये दोनों ही आयु वर्ग की क्रिकेट से एक दूसरे के साथी रहे हैं और अब राष्ट्रीय टीम में हैं. रबाडा खुद को स्टार खिलाड़ी के रूप में स्थापित कर चुके हैं.

lungi ngidi, lungi ngidi cricket, lungi ngidi south africa, kagiso rabada lungi ngidi, india south africa series, लुंगी एनगिडी, लुंगी एनगिडी क्रिकेट, साउथ अफ्रीका, इंडिया साउथ अफ्रीका सीरीज,
लुंगी एनगिडी और कगिसो रबाडा की जोड़ी को साउथ अफ्रीका की तेज गेंदबाजी का भविष्‍य कहा जा रहा है.


एनगिडी और रबाडा स्‍कूली क्रिकेट में थे साथ
Loading...

एनगिडी ने कहा, ‘मैं और केजी (रबाडा) स्कूली क्रिकेट में साथ में खेले हैं. वहां से निकलकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर साथ में खेलना शानदार है. हम एक दूसरे को अच्छी तरह से समझते हैं और इस रिश्ते से मैदान पर चीजें आसान हो जाती हैं.’

'मैदान पर उतरने के बाद सब समान'
वित्तीय स्थिति कभी उनकी दोस्ती में आड़े नहीं आई. एनगिडी ने कहा, ‘एक बार आप जब क्रिकेट मैदान पर उतर जाते हो तो सभी समान होते हैं. तब केवल आपकी प्रतिभा मायने रखती है. आपको बल्ला या गेंद कैसे पकड़ना है इसमें आपकी वित्तीय स्थिति की कोई भूमिका नहीं होती है. मेरे लिए क्रिकेट को चाहने की यह एक वजह रही.’

धोनी के करियर के बारे में सौरव गांगुली चयनकर्ताओं से 24 अक्‍टूबर को करेंगे बात

शोएब अख्‍तर बोले-मैंने गांगुली की पसलियां तोड़ी, लेकिन वो मुझसे डरते नहीं थे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 16, 2019, 10:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...