लाइव टीवी

टी-20 वर्ल्ड कप टीम में चुने जाने के दावेदार हैं एमएस धोनी, ये 15 खिलाड़ी जा सकते हैं ऑस्ट्रेलिया!

News18Hindi
Updated: December 7, 2019, 9:09 PM IST
टी-20 वर्ल्ड कप टीम में चुने जाने के दावेदार हैं एमएस धोनी, ये 15 खिलाड़ी जा सकते हैं ऑस्ट्रेलिया!
महेंद्र सिंह धोनी ने अपने संन्यास की खबरों को लेकर अभी तक कुछ भी नहीं कहा है. (फाइल फोटो)

टी-20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup) अगले साल ऑस्ट्रेलिया (Australia) में आयोजित होगा. टीम इंडिया (Team India) ने 2007 में दक्षिण अफ्रीका में हुआ पहला टी-20 वर्ल्ड कप एमएस धोनी (MS Dhoni) की अगुआई में ही अपने नाम किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 7, 2019, 9:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. साल 2007 में क्रिकेट की दुनिया में इतिहास रचा गया. ये शुरुआत थी इस खेल के पहले टी-20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup) की. साउथ अफ्रीका में आयोजित हुए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के इस सबसे छोटे प्रारूप का पहला वर्ल्ड चैंपियन महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) की अगुआई में भारत बना. तब से लेकर 13 बरस बीत चुके हैं. मौके कई आए, लेकिन भारतीय टीम (Indian Team) फिर कभी इस चमचमाती ट्रॉफी को अपने हाथों में नहीं उठा सकी. मौका एक बार फिर सामने है. इस बार ऑस्ट्रेलिया में. 8 अक्टूबर से 15 नवंबर तक. विराट कोहली (Virat Kohli) की अगुआई में एक बार फिर फटाफट क्रिकेट का बादशाह बनने के लिए टीम इंडिया के 15 धुरंधर जोर लगाएंगे.

सवाल कई, जवाब का इंतजार
अब जबकि टी-20 वर्ल्ड कप आठ महीने ही दूर है, सभी टीमें इस अहम टूर्नामेंट के लिए अपने 15 खिलाड़ियों और उनकी भूमिका को तय करने में जुट गई है. यही वजह है कि टीम इंडिया (Team India) के 15  चेहरों के लिए भी अनुमान का दौर तेज हो गया है. टी-20 वर्ल्ड कप के लिए कौन होंगे टीम इंडिया के 15 खिलाड़ी? क्या इसमें एमएस धोनी (MS Dhoni) शामिल होंगे? ओपनिंग के लिए शिखर धवन (Shikhar Dhawan) को जगह मिल पाएगी या फिर टीम मैनेजमेंट केएल राहुल (KL Rahul) पर भरोसा जताएगा. ऐसे ही कई सवालों के जवाब हैं, जिनका इंतजार भारतीय प्रशंसक कर रहे हैं. हम आपको बता रहे हैं कि टी-20 वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम में चुने जाने के दावेदार 15 खिलाड़ी कौन से हो सकते हैं.

बल्लेबाज (5) : ये होंगे टीम इंडिया के बल्ले के बादशाह

1. रोहित शर्मा : सीमित ओवर में भारतीय क्रिकेट टीम के उपकप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ओपनर के तौर पर अपनी जगह मजबूती से जमाए हुए हैं. टी-20 क्रिकेट के शीर्ष बल्लेबाजों में शुमार रोहित शर्मा ने 101 टी-20 मैचों में 32.13 के औसत से 2539 रन बनाए हैं. इसमें 4 शतक और 18 अर्धशतक भी शामिल हैं. ऑस्ट्रेलिया की पिचों पर उनकी नैसर्गिक बल्लेबाजी शैली बेहद कारगर साबित होगी. उनकी सबसे बड़ी खासियत है कि वो कुछ ही वक्त में मैच का रुख मोड़ने की काबिलियत रखते हैं. हालांकि कई मौकों पर उन्हें लापरवाही भरे अंदाज में विकेट फेंकते भी देखा गया है, लेकिन इस कमी को पार कर लें तो फिर वे टीम इंडिया (Team India) के सबसे बड़े मैन विनर साबित होंगे.

एक बार फिर क्रिकेट के फैंस को ताबड़तोड़ क्रिकेट का मजा मिलने वाला है क्योंकि 6 दिसंबर से भारत और वेस्टइंडीज के बीच टी20 सीरीज का आगाज हो रहा है. हैदराबाद के राजीव गांधी स्टेडियम में तीन टी20 मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला होगा. वेस्टइंडीज की टीम भारत के मुकाबले कमजोर जरूर है लेकिन ये बात याद रखना जरूरी है कि इस टीम ने दो बार टी20 वर्ल्ड कप जीता है. वेस्टइंडीज के खिलाड़ी टी20 क्रिकेट के लिए जाने जाते हैं और ऐसे में वो अपने दिन में मजबूत भारतीय टीम को भी पटखनी दे सकते हैं. सीरीज से पहले आइए आपको बताते हैं वेस्टइंडीज के वो पांच खिलाड़ी जो विराट एंड कंपनी के लिए सबसे बड़ा खतरा होंगे.
टी-20 क्रिकेट के शीर्ष बल्लेबाजों में शुमार रोहित शर्मा ने 101 टी-20 मैचों में 32.13 के औसत से 2539 रन बनाए हैं.


2. केएल राहुल : रोहित शर्मा (Rohit Sharma) का साथ देने के लिए केएल राहुल (KL Rahul) से बढ़िया विकल्प फिलहाल कोई नहीं है. राहुल ने 31 मैचों के अपने टी-20 करियर में 42.34 के औसत से 974 रन बनाए हैं. टी-20 क्रिकेट में करीब 43 का औसत ये बताने के लिए काफी है कि राहुल किस स्तर के बल्लेबाज हैं. हाल ही में सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी (Syed Mushtaq Ali Trophy) में भी उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए 8 मैचों में 52.16 के औसत और 155.72 के स्ट्राइक रेट से 313 रन बनाए. इनमें तीन अर्धशतक हैं. राहुल के खेल की खास बात है कि वे पावरप्ले का फायदा उठाने में माहिर हैं और इसकी बानगी इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) में किंग्स इलेवन पंजाब में उनके प्रदर्शन से देखने को मिलती रही है.3. विराट कोहली : भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) दुनिया के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं जिनका तीनों प्रारूपों में 50 से ज्यादा का औसत है. इतना ही काफी है ये बताने के लिए कि टीम इंडिया (Team India) के अभियान के लिए विराट कितने अहम हैं. विराट कोहली ने 72 टी-20 मैचों में 50 की औसत से 2450 रन बनाए हैं. इसमें 22 अर्धशक शामिल हैं. विराट कोहली जितनी तजी से पारी को संभालते हैं, उतनी ही तेजी से गियर बदलकर चौकों-छक्कों की बारिश करते हैं. इस बात में कोई संदेह नहीं है कि बिना विराट कोहली के कप जीतना भारत के लिए आसान नहीं रहेगा.

विराट कोहली ने हैदराबाद में अपना 23वां अर्धशतक पूरा किया. वो टी20 क्रिकेट में सबसे ज्यादा अर्धशतक लगाने वाले खिलाड़ी बन गए. उन्होंने रोहित शर्मा को पीछे छोड़ा. साथ ही उनके टी20 इंटरनेशनल में 2500 रन भी पूरे हो गए.
भारतीय कप्तान विराट कोहली दुनिया के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं जिनका तीनों प्रारूपों में 50 से ज्यादा का औसत है.


4. श्रेयस अय्यर : चौथे नंबर का बल्लेबाजी क्रम टीम इंडिया (Team India) के लिए लंबे समय से बड़ी समस्या रहा है. इस स्‍थान के लिए अंबाती रायडू से लेकर विजय शंकर और ऋषभ पंत तक को आजमाया गया, लेकिन कोई भी उम्मीदों पर खरा नहीं उतर सका. इस स्‍थान के लिए टीम मैनेजमेंट की तलाश श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) ने खत्म की. श्रेयस ने थोड़े ही समय में खुद को टीम इंडिया में स्‍थापित कर लिया. उन्होंने 11 टी-20 मैचों में 26.50 की औसत से 212 रन बनाए हैं.

5. मनीष पांडे : घरेलू क्रिकेट में रनों का ढेर लगाने वाले इस बल्लेबाज का वर्ल्ड कप खेलने के लिए ऑस्ट्रेलिया जाना तय है. मनीष पांडे (Manish Pandey) टी-20 क्रिकेट (T20 Cricket) में भारत के लिए सबसे पहला शतक लगाने वाले खिलाड़ी हैं. उन्होंने आईपीएल 2009 में शतकीय पारी खेलकर इतिहास रचा था. पांडे ने 32 टी-20 मैचों में 39.13 की औसत से 587 रन बनाए हैं. इतना ही नहीं, उन्होंने सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी (Syed Mushtaq Ali Trophy) में 9 मैचों में 78.50 के असाधारण औसत से 314 रन बनाए. इसमें 1 शतक और दो अर्धशतक शामिल हैं. मनीष पांडे की कप्तानी में कर्नाटक ने लगातार दूसरी बार सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी अपने नाम की.

सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में कर्नाटक के कप्तान मनीष पांडे (Manish Pandey) ने सर्विसेस के खिलाफ 54 गेंदों में नाबाद 129 रन ठोक दिए
मनीष पांडे  टी-20 क्रिकेट में भारत के लिए सबसे पहला शतक लगाने वाले खिलाड़ी हैं.


6. ‌शिखर धवनः टी20 वर्ल्ड कप के लिए अगर केएल राहुल चयनकर्ताओं की पहली पसंद होते हैं तो भी शिखर धवन को बैकअप के तौर में चुना जाएगा, क्योंकि इसके पीछे आईसीसी टूर्नामेंट में शिखर धवन का रिकॉर्ड है. आईसीसी टूर्नामेंट में ज्यादातर धवन शानदार फॉर्म में रहते हैं. इस वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शतक लगाने के बाद चोट के कारण धवन को टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा. अगर आईसीसी इवेंट में धवन के रिकॉर्ड्स देखें तो 2013 और 2017 चैंपियंस ट्रॉफी में वह सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज थे. 2013 में उन्होंने 363 रन तो 2017 में 338 रन बनाए थे.  2015 वर्ल्ड कप में वह सर्वाधिक रन बनाने वाले भारतीय ‌थे. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में दो शतक सहित कुल 412 रन बनाए थे. 20 आईसीसी टूर्नामेंट के मैच में धवन ने 65.15 की औसत से 1238 रन बनाए.

विकेटकीपर : धोनी पर रहेगा दारोमदार
1. महेंद्र सिंह धोनी/पंत : टीम इंडिया (Team India) के पूर्व कप्तान और दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के अनुभव की जरूरत टीम इंडिया को वर्ल्ड कप (World Cup) में जरूर पड़ेगी. भले ही धोनी आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के बाद से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर हैं, लेकिन टीम इंडिया उनके बिना वर्ल्ड कप खेलने का जोखिम दो वजहों से नहीं ले सकती. एक तो ये कि भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया में उनके अनुभव की जरूरत पड़ेगी. और दूसरा ऋषभ पंत (Rishabh Pant) की बतौर बल्लेबाज और बतौर विकेटकीपर असफलता ने भी इस बात को पक्का कर दिया है कि टीम को धोनी जैसा बल्लेबाज और विकेटकीपर हर हाल में चाहिए. धोनी ने 98 टी-20 मैचों में 37.60 की औसत से 1617 रन बनाए हैं. वैसे टीम में लोकेश राहुल (Lokesh Rahul) भी जरूरत पड़ने पर विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी संभाल सकते हैं. वह घरेलू क्रिकेट में ऐसा कर चुके हैं. वहीं ऋषभ पंत पिछले काफी समय से अपने खराब बल्लेबाजी, खराब विकेटकीपिंग के कारण आलोचकों के निशाने पर है. पिछले आठ टी20 मैचाें में उनका सर्वाधिक स्कोर 27 रन है. हाल ही में वेस्टइंडीज के खिलाफ हैदराबाद टी20 में वह सिर्फ 18 रन ही बना पाए. पंत ने 24 टी20 मैचों की 22 पारियों 120.51 की स्ट्राइक रेट से  376 रन बनाए.

ऋषभ पंत (Rishabh Pant) ने बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टी20 में बेहद खराब विकेटकीपिंग की जिसके बाद फैंस ने उन्हें काफी ट्रोल किया
टीम इंडिया को महेंद्र सिंह धोनी के अनुभव की जरूरत टीम इंडिया को वर्ल्ड कप में जरूर पड़ेगी.


ऑलराउंडर (2) : इन पर होगा वर्ल्ड कप का दारोमदार
1. हार्दिक पंड्या : ऑस्ट्रेलियाई पिचों के लिहाज से वर्ल्ड कप जीतने के लिए टीम इंडिया को जिस खिलाड़ी की सबसे ज्यादा जरूरत पड़ने वाली है, वो ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya) हैं. पंड्या न केवल बल्ले से बल्कि गेंद से भी ऑस्ट्रेलिया में बेहद उपयोगी साबित होंगे. उन्होंने 40 टी-20 मैचों के अपने करियर में 16.31 की औसत से 310 रन बनाए हैं, जबकि 38 विकेट भी अपने नाम किए हैं. हार्दिक तेजी से रन बनाने में माहिर हैं और अपनी गेंदबाजी से विपक्षी टीमों को बड़ा नुकसान पहुंचा सकते हैं.

2. वाशिंगटन सुंदर : टीम इंडिया को वाशिंगटन सुंदर (Washington Sunder) के रूप में ऐसा गेंदबाज मिला है जो डेथ ओवरों में अपनी बॉलिंग से टीम को फायदा पहुंचा सकता है. सुंदर ने 15 टी-20 मैचों में 26 की औसत से 26 रन बनाए हैं, जबकि इस दौरान उन्होंने 13 विकेट लिए हैं. सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में सुंदर ने गेंद और बल्ले दोनों से बेहतरीन खेल दिखाया. उन्होंने 10 मैचों में 54.20 की औसत से 271 रन बनाए.

स्पिनर (3) : ऑस्ट्रेलिया में चहल देंगे चकमा या जडेजा बिखेरेंगे जलवा
1. युजवेंद्र चहल : वर्ल्ड कप टीम में युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chehal) की जगह एकदम पक्की है. वे सीमित ओवर प्रारूप में भारत के अहम गेंदबाज हैं. चहल ने टीम इंडिया के लिए 34 टी-20 मुकाबले खेले हैं. इनमें उन्होंने 50 विकेट हासिल किए हैं. टी-20 क्रिकेट में चहल ने दो बार 4-4 और एक बार पांच विकेट चटकाए हैं.

nagpur t20, india vs bangladesh, ind vs ban, sanju samson, sanju samson throw cake, yuzvendra chahal, yuzvendra chahal face, yuzvendra chahal cake attack, sanju samson birthday celebrations, happy birthday sanju samson, संजू सैमसन, युजवेंद्र चहल, संजू सैमसन जन्मदिन, युजवेंद्र चहल केक, इंडिया वस बांग्लादेश, नागपुर टी20, जसप्रीत बुमराह
युजवेंद्र चहल ने टीम इंडिया के लिए 34 टी-20 मुकाबले खेले हैं.


2. कुलदीप यादव : विराट कोहली पहले ही कह चुके हैं कि ऑस्ट्रेलिया में वर्ल्ड कप के दौरान रिस्ट स्पिनर की भूमिका अहम होगी और ऐसे में उनके संकेत समझे जाएं तो कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) भी ऑस्ट्रेलिया जाने वाले विमान में सवार नजर आ सकते हैं. कुलदीप यादव ने 18 टी-20 मैचों में 35 विकेट लिए हैं. उन्होंने 1 बार 4 और एक बार ही पांच विकेट लिए हैं.

3. रवींद्र जडेजा : स्टार खिलाड़ी रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) के बिना भारत की कोई भी टीम पूरी होती मुमकिन नहीं दिखती है. बात चाहे बल्लेबाजी की हो, गेंदबाजी की या फिर फील्डिंग की, वो ऐसे खिलाड़ी हैं जो किसी भी टीम के सबसे अहम हथियार होते हैं. जडेजा निश्चित रूप से ऑस्ट्रेलिया जा रहे हैं. उन्होंने अभी तक 44 टी-20 मैच खेले हैं और इनमें 154 रन बनाए हैं. इन मुकाबलों में गेंदबाजी करते हुए जडेजा ने 33 शिकार किए. इतना ही नहीं उन्होंने इस प्रारूप में 20 कैच भी लिए हैं.

पेसर (4) : कोई यॉर्कर किंग तो कोई स्विंग का शहंशाह
1. जसप्रीत बुमराह : मौजूदा समय में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाजों में शुमार जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) भी एक वजह हैं, जिनके चलते टीम इंडिया को वर्ल्ड कप जीतने का दावेदार माना जा रहा है. इस अद्भुत खिलाड़ी ने बेहद कम समय में क्रिकेट की दुनिया में अलग पहचान बनाई है. बुमराह ने 42 टी-20 मैच खेले हैं, जिनमें उन्होंने 51 विकेट चटकाए हैं. खास बात है कि उनका इकॉनोमी रेट 6.71 का है. बुमराह का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 11 रन देकर तीन विकेट रहा है.

jasprit bumrah, cricket, bcci, team india, diwali, sports news, जसप्रीत बुमराह, दिवाली, क्रिकेट, स्पोर्ट्स न्यूज, टीम इंडिया
भारत के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह का इकॉनोमी रेट 6.71 का है.


2. मोहम्मद शमी : हालिया समय में मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) ने अपनी गेंदबाजी को अलग ही मुकाम तक पहुंचा दिया है. उनकी गेंदों में ऐसी धार पहले कभी देखने को नहीं मिली. हालांकि शमी ने टीम इंडिया के ल‌िए ज्यादा टी-20 मैच नहीं खेले हैं, लेकिन उनकी मौजूदा फॉर्म को नजरअंदाज करना किसी भी कप्तान के लिए आसान काम नहीं होगा. शमी ने 7 टी-20 मैचों में 8 विकेट लिए हैं.

3. दीपक चाहर : भारतीय टीम के इस उभरते तेज गेंदबाज ने बेहद कम समय में अपनी पहचान बना ली है. खासकर बांग्लादेश के खिलाफ नागपुर टी-20 में हैट्रिक लेने के बाद तो दीपक चाहर (Deepak Chahar) रातोंरात लोकप्रिय हो गए. उन्होंने 7 टी-20 मैचों में 14 विकेट लिए हैं. इनमें सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 7 रन देकर 6 विकेेट लेने का है. दीपक चाहर के साथ अच्छी बात ये है कि वो बल्ले से भी उपयोगी योगदान देने में सक्षम हैं.

deepak chahar, cricket, sports,Syed Mushtaq Ali Trophy, rahul chahar, दीपक चाहर, क्रिकेट, स्पोर्ट्स न्यूज
दीपक चाहर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 7 रन देकर 6 विकेेट लेने का है


4.  भुवनेश्वर कुमार : अपने हाल के करियर में भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) को भले ही चोटों ने अधिक परेशान किया है, लेकिन उनका अनुभव ऑस्ट्रेलिया में अहम साबित होगा. उन्होंने 40 टी-20 मैच खेले हैं, जिनमें 39 विकेट चटकाए हैं. भुवनेश्वर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 24 रन देकर पांच विकेट रहा है. उनकी गेंद को दोनों ओर स्विंग कराने की क्षमता और गुड लेंग्‍थ पर गेंद फेंकने की काबिलियत टी-20 वर्ल्ड कप में बेहद अहम साबित होगी.

इन 15 में से हो सकता है इक्का-दुक्का बदलाव
कुलदीप यादव, संजू सैमसन, क्रुणाल पंड्या, वाशिंगटन सुंदर, कुलदीप यादव, राहुल चाहर, नवदीप सैनी, सूर्यकुमार यादव, दिनेश कार्तिक, विजय शंकर, रविचंद्रन अश्विन, श्रेयस गोपाल, उमेश यादव, खलील अहमद, शर्दुल ठाकुर.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 7, 2019, 9:00 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर