होम /न्यूज /खेल /इंग्‍लैंड के पूर्व कप्‍तान माइकल वॉन ज‍िसकी फ‍िरकी के हैं द‍ीवाने वह महेंद्र स‍िंह धोनी की राह पर...

इंग्‍लैंड के पूर्व कप्‍तान माइकल वॉन ज‍िसकी फ‍िरकी के हैं द‍ीवाने वह महेंद्र स‍िंह धोनी की राह पर...

दमनदीप को क्रिकेट की बदौलत रेलवे में नौकरी भी मिल गई. वह महेंद्र स‍िंह धोनी (माही) को अपना आदर्श मानते हैं.

दमनदीप को क्रिकेट की बदौलत रेलवे में नौकरी भी मिल गई. वह महेंद्र स‍िंह धोनी (माही) को अपना आदर्श मानते हैं.

माही को आदर्श मानते मानते वो इतना डूब गए कि आज वो ख़ुद भी रेलवे में सीसीटीसी यानि कॉर्मिशिलय कम टिकट कलेक्टर बन गए हैं ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

दमनदीप यूपी की टीम की तरफ से अंडर 16 और अंडर 19 खेल चुके हैं.
दमनदीप ने बताया कि उनके पिता कूकर रिपेयर करने का काम करते हैं.

मेरठ. क्या कोई किसी को इतना आदर्श मान सकता है कि अपने रोल मॉडल के संघर्ष के दिनों का प्रोफेशन भी अपना लें? कम से कम मेरठ (meerut) के एक युवा गेंदबाज ने तो यही किया. हम बात कर रहे हैं राइट आर्म लेग स्पिनर दमनदीप सिंह (damandeep) की. दमनदीप यूपी की टीम की तरफ से अंडर 16 और अंडर 19 खेल चुके हैं. युवा गेंदबाज दमनदीप अपनी फिरकी के लिए जाने जाते हैं. दमनदीप को क्रिकेट की बदौलत रेलवे में नौकरी भी मिल गई. वह महेंद्र स‍िंह धोनी (Mahendra singh dhoni) को अपना आदर्श मानते हैं.

दमनदीप ने माही को आदर्श मानते-मानते इतना डूब गए कि आज वो खुद भी रेलवे में सीसीटीसी यानी कॉर्मिशिलय कम टिकट कलेक्टर बन गए हैं. एक जमाने में संघर्ष के दिनों में महेंद्र सिंह धोनी भी रेलवे में टिकट कलेक्टर हुआ करते थे. इस युवा गेंदबाज ने माही को आदर्श मानते-मानते उनका पुराना प्रोफेशन भी अपना लिया. इस खिलाड़ी का कहना है कि वह भी माही की तरह एक न एक दिन इंडिया खेलेंगे और भारत का तिरंगा वैश्विक पटल पर लहराएंगे. इस खिलाड़ी का कहना है कि माही की तरह उनका संघर्ष भी मुकाम तय करेगा. दमनदीप के पिता एक कूकर बनाने वाली कंपनी में काम करते हैं. दमनदीप ने बताया कि उनके पिता कूकर रिपेयर करने का काम करते हैं.

आपके शहर से (मेरठ)

माइकल वॉन भी कर चुके हैं दमनदीप स‍िंह की तारीफ
बीते वर्षों में इंग्लैंड क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने मेरठ के इस युवा क्रिकेटर दमनदीप सिंह की तारीफ की थी. उत्तर प्रदेश क्रिकेटर एसोसिएशन की अंडर-16 टीम में खेल चुके लेग स्पिनर दमनदीप का एक वीडियो माइकल ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर पोस्ट किया था. वीडियो के साथ माइकल ने दमनदीप की लेग स्पिन गेंद को जाने-माने ऑस्ट्रेलियाई लेग स्पिनर शेन वॉर्न की ‘बॉल ऑफ द सेंचुरी’ से भी बेहतर बताया था. माइकल को दमन का नाम तो नहीं पता, लेकिन उन्होंने लिखा था कि यह गेंद वर्ष 1993 की एशेज सीरीज में शेन वॉर्न द्वारा माइक गेटिंग को बोल्ड करने वाली गेंद से भी बेहतर है.

माइकल ने दमन को ‘ग्रेटेस्ट लेग स्पिनर ऑफ ऑल टाइम’ भी बताया था. दमनदीप सिंह ने यूपीसीए टीम का हिस्सा बनकर बीते वर्षों में गुजरात में हुए बोर्ड ट्रॉफी का सेमीफाइनल मैच हरियाणा के खिलाफ खेला था. दमन ने एक शानदार गेंद पर बल्लेबाज को बोल्ड किया था. उन्होंने इस मैच का वीडियो अपलोड किया था. माइकल वॉन ने वीडियो देखा तो साझा कर कमेंट भी लिखा था. वीडियो को एक लाख से अधिक लोगों ने देखा था और सैकड़ों ने कमेंट करते हुए उन्हें बेहतरीन ट्रेनिंग दिए जाने की सिफारिश की थी.

माधवपुरम निवासी दमनदीप ने गुरु तेग बहादुर पब्लिक स्कूल से पढ़ाई की है. 10 साल से वह भामाशाह पार्क में कोच संजय रस्तोगी के मार्गदर्शन में ट्रेनिंग कर रहे हैं. मुजफ्फरनगर के खिलाफ उन्होंने सर्वाधिक आठ विकेट लिए थे. शेन वॉर्न को अपना आइकॉन मानने वाले दमनदीप की तारीफ से उत्साहित अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर द्वारा तारीफ किए जाने से उत्साहित रहते हैं. वो कहते हैं, अब और कड़ी मेहनत करेंगे, ताकि शेन वॉर्न की तरह गेंदबाजी में नाम रोशन करेंगे..

Tags: Mahendra Singh Dhoni, Meerut news, Michael vaughan

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें