टीम इंडिया के फ्लॉप क्रिकेटर्स में नाम किया शामिल, तो पत्‍नी ने दी 'गाली', कहा- तुम्हारी...

टीम इंडिया के फ्लॉप क्रिकेटर्स में नाम किया शामिल, तो पत्‍नी ने दी 'गाली', कहा- तुम्हारी...
भारतीय बल्‍लेबाज की पत्‍नी ने फ्लॉप क्रिकेटर्स की प्रोफाइल बनाने वालों को कहा कि लोगों के बारे में बकवास पोस्‍ट करने की बजाय अपनी बेकार जिंदगी में कुछ करें.

भारतीय बल्‍लेबाज की पत्‍नी ने फ्लॉप क्रिकेटर्स की प्रोफाइल बनाने वालों को कहा कि लोगों के बारे में बकवास पोस्‍ट करने की बजाय अपनी बेकार जिंदगी में कुछ करें.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्‍ली. भारत की तरफ से 12 वनडे और 3 टी20 मैच खेलने वाले 34 साल के मनोज तिवारी (Manoj Tiwary) 2015 के बाद से ही टीम इंडिया (Team India) से बाहर हैं और वह लगातार वापसी की कोशिश कर रहे हैं. मगर उन्‍हें मौका नहीं मिल पा रहा है. हाल ही में मनोज तिवारी की पत्‍नी सुष्मिता उन लोगों पर भड़क गईं, जिन्‍होंने उनके पति का नाम टीम इंडिया के फ्लॉप क्रिकेटर्स में शामिल किया. सुष्मिता ने इंस्‍टाग्राम पर अपनी भड़ास निकाली. भारतीय बल्‍लेबाज की पत्‍नी ने टीम इंडिया के फ्लॉप क्रिकेटर्स की प्रोफाइल बनाने वालों को जमकर सुनाया. उन्‍होंने कहा कि तुम्‍हारी हिम्‍मत कैसे हुई. उन्‍होंने प्रोफाइल का स्‍क्रीन शॉट शेयर करते हुए कहा कि जिसने भी कभी इस प्रोफाइल को बनाया, उसकी हिम्‍मत कैसे हुई इसमें मेरे पति का नाम घसीटने की. आप अपने भद्दे तथ्‍यों की जांच करें. लोगों के बारे में बकवास पोस्‍ट करने की बजाय अपनी बेकार जिंदगी में कुछ करें.

हालांकि इसके बाद फैंस ने उन्‍हें ऐसा पोस्‍ट न करने की सलाह दी. एक फैन ने कहा कि अगर आप बड़े स्‍टार की बीवी हैं तो इन सब बातों का आपके दिमाग पर असर नहीं पड़ना चाहिए. कुछ तो लोग कहेंगे, लोगों का काम है कहना. छोड़ो बेकार की बात.





मेडन वनडे शतक के बाद टीम से बाहर



2008 में ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ वनडे मैच से इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्‍यू करने वाले मनोज तिवारी के मन में आज भी एक सवाल है कि आखिर क्‍यों मेडन वनडे शतक लगाने के बाद उन्‍हें टीम से बाहर कर दिया गया. कुछ दिन पहले एक इंटरव्‍यू में उन्‍होंने कहा था कि अभी तक उन्‍होंने पूर्व भारतीय कप्‍तान एमएस धोनी से नहीं पूछा कि टीम इंडिया की तरफ से मेडन वनडे शतक लगाने के बावजूद आखिर क्‍यों उन्‍हें अगले मैच में प्‍लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया गया. तिवारी उन चुनिंदा बल्‍लेबाजों में से एक हैं, जो पिछले मुकाबले में शतक जड़ने के बावजूद अगले मुकाबले में मैदान पर नहीं उतर पाए.
तिवारी ने 2011 में चेन्‍नई में वेस्‍टइंडीज के खिलाफ नाबाद 104 रन की विजयी पारी खेली थी. इसके अगले ही मैच में उन्‍हें टीम से बाहर कर दिया गया और वह अगले 14 मैच नहीं खेल पाए. मनोज तिवारी ने कहा कि मैंने कभी सोचा नहीं था कि अपने देश के लिए शतक बनाने के बाद और मैन ऑफ द मैच जीतने के बाद मैं अगले 14 मैचों के लिए बाहर हो जाऊंगा. तिवारी को टीम इंडिया (Team India) की तरफ से वापस खेलने का मौका आठ महीने बाद मिला था. जब टीम इंडिया 2012 में श्रीलंका दौरे पर गई थी. उन्‍होंने उस मैच में 21 रन बनाए थे और फिर इसके बाद अर्धशतक जड़ा था. हालांकि इसके बाद उन्‍हें फिर से दो साल के लिए टीम से बाहर कर दिया गया. 2015 में जिम्‍बाब्‍वें के खिलाफ वनडे सीरीज में उनकी वापसी हुई. इसके बाद से वह टीम से बाहर ही हैं.

इशांत का खुलासा, बालकनी से कूद जाते विंडीज के खिलाफ 13 रन बनाने वाले राहुल!

17 साल के पाकिस्तानी गेंदबाज की कोहली को चुनौती, कहा- नहीं लगता डर
First published: June 1, 2020, 1:49 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading