बड़ी खबर: गुगली के मास्‍टर बीएस चंद्रशेखर की बिगड़ी तबीयत, अस्‍पताल में भर्ती

75 साल के बीएस चंद्रशेखर अस्‍पताल में भर्ती हैं (फोटो क्रेडिट: आईसीसी ट्विटर हैंडल )

75 साल के बीएस चंद्रशेखर अस्‍पताल में भर्ती हैं (फोटो क्रेडिट: आईसीसी ट्विटर हैंडल )

बीएस चंद्रशेखर (bs chandrasekhar) इतिहास में उन दो टेस्‍ट क्रिकेटर्स में से एक हैं, जिन्‍होंने टेस्‍ट क्रिकेट में जितने रन नहीं बनाए उससे ज्‍यादा विकेट झटके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2021, 9:13 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. गुगली के मास्‍टर बीएस चंद्रशेखर (bs chandrasekhar) की तबीयत खराब हो गई है और वह बेंगलुरु के अस्‍पताल के भर्ती हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 75 साल के चंद्रशेखर को स्‍ट्रोक आया था. डॉक्‍टर्स का कहना है कि उनकी हालत अब स्थिर है और वह ठीक हो रहे हैं. 1945 में मैसूर में जन्‍मे चंद्रशेखर के करियर की बात करें तो उन्‍होंने 58 टेस्‍ट और 1 वनडे मैच में भारत का प्रतिनिधित्‍व किया है. 58 टेस्‍ट में उनके नाम 2.70 की इकोनॉमी से 242 विकेट हैं, जिसमें वह 12 बार 4 विकेट के क्‍लब में, 16 बार 5 विकेट के क्‍लब में और 2 बार 10 विकेट के क्‍लब में शामिल हुए.

चंद्रशेखर ने 1964 में इंग्‍लैंड के खिलाफ मुंबई में टेस्‍ट मैच से इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्‍यू किया था. उन्‍होंने आखिरी टेस्‍ट 1979 में इसी टीम के खिलाफ खेला. वहीं एकमात्र वनडे मैच उन्‍होंने 1976 में न्‍यूजीलैंड के खिलाफ खेला था. 75 साल के चंद्रशेखर के नाम वनडे में 3 विकेट हैं.

ऐसा कमाल करने वाले दुनिया के दूसरे टेस्‍ट क्रिकेटर

चंद्रशेखर इतिहास में उन दो टेस्‍ट क्रिकेटर्स में से एक हैं, जिनके कुल रन से अधिक विकेट हैं. उन्‍होंने 58 टेस्‍ट की 80 पारियों में 167 रन बनाए. जबकि विकेट 242 लिए. रन बनाने से ज्‍यादा विकेट लेने वाले क्रिकेटरों में दूसरा नाम न्यूजीलैंड के क्रिस मार्टिन का है. मार्टिन ने सन 2000 में द. अफ्रीका के खिलाफ पहला टेस्ट मैच खेला था. कुल 71 टेस्ट मैचों में उन्होंने 233 विकेट लिए, लेकिन महज 123 रन ही बना सके.
यह भी पढ़ें :

IND vs AUS: चौथे टेस्‍ट मैच में बीच मैदान पर बेईमानी! समय पूरा होने के बाद डेविड वॉर्नर को दिया गया रिव्‍यू

अगले महीने हो सकती है महिला क्रिकेट की वापसी, इन 2 टीमों के साथ सीरीज कराने की कोशिश में बीसीसीआई



1972 में चंद्रशेखर को विजडन क्रिकेटर ऑफ ईयर चुना गया था. 2002 में उन्हें भारत के लिए सदी का सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन से सम्मानित किया गया था. वह इंग्लैंड के खिलाफ भारत की पहली जीत के नायक रहे. उन्होंने 1971 में इंग्लैंड के खिलाफ ओवल टेस्ट मैच में 38 रन देकर छह विकेट लिए थे. चंद्रशेखर के बारे में एक दिलचस्‍प बात यह है के वे एक हाथ से पोलियो ग्रसित थे. 70 के दशक में चंद्रशेखर, बिशन सिंह बेदी, प्रसन्ना और वेंकटराघन की चौकड़ी भारत की गेंदबाजी रीढ़ मानी जाती थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज