लाइव टीवी

पिता दिहाड़ी मजदूर, बाढ़ में टूट गया घर तो चंदा लेकर ठीक किया अब टीम इंडिया में बनाई जगह

News18Hindi
Updated: October 6, 2019, 7:43 PM IST
पिता दिहाड़ी मजदूर, बाढ़ में टूट गया घर तो चंदा लेकर ठीक किया अब टीम इंडिया में बनाई जगह
मिन्नु मणी केरल के वायनाड की रहने वाली हैं

मिन्नु मनी (Minnu Mani) को इंडिया ए (India A) के बांग्लादेश दौरे और एसीसी एमर्जिंग कप (ACC Emerging Cup) के लिए टीम में चुना गया है

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2019, 7:43 PM IST
  • Share this:
बीसीसीआई (BCCI) ने कुछ दिन पहले बांग्लादेश (Bangladesh) के दौरे और एसीसी एमर्जिंग कप (ACC Emerging Cup) के लिए इंडिया ए (India A) महिला टीम का ऐलान किया था. इस टीम में केरल की 20 साल की बल्लेबाज मिन्नु मणि (Minnu Mani) को पहली बार मौका दिया गया है. केरल के वायनाड की रहने वाली मिन्नु (Minnu Mani) टीम इंडिया के लिए खेलने के अपने सपने के करीब आ गई. मिन्नु (Minnu Mani) बाएं हाथ की बल्लेबाज हैं वहीं वह ऑफ स्पिनर गेंदबाज है. इसके अलावा वह शानदार फील्डर भी हैं.

मिन्नु इस साल अंडर 23 वनडे चैलेंजर ट्रॉफी में इंडिया ब्लू की ओऱ खेल चुकी हैं. उन्होंने इस टूर्नामेंट में 188 रन बनाए थे और 11 विकेट हासिल किए थे. उन्हें केरल एसोसिएशन ने इस साल का जूनियर क्रिकेटर ऑफ द इयर  चुना गया था. उनके इस प्रदर्शन के कारण ही उन्हें मौका दिया गया है.

बाढ़ में डूब गया था घर, फिर भी नहीं छोड़ा क्रिकेट
मिन्नु  वायनाड के कुरिचिया आदिवासी समुदाय से आती हैं. मिन्नु के पिता दिहाड़ी मजदूर हैं जो मुश्किल से घर का खर्चा चलाते हैं. 20 साल की मिन्नु ने खेतों में लड़कों के साथ क्रिकेट खेलना शुरू किया. हालांकि मिन्नु और उनके परिवार के लिए बुरा समय तब आया जब पिछले साल केरल में आई बाढ़ में उनका घर डूब गया. क्रिकेट वेबसाइट ने मिन्नु के लिए चंदा इकट्ठा किया ताकी उनका घर से ठीक किया जा सके.  हालांकि इन सब के बीच भी मिन्नु ने हार नहीं मानी और क्रिकेट खेलना जारी रखा जिसका फल उन्हें अब मिला है.

ओपन ट्रॉयल के बाद हुआ सेलेक्शन
मिन्नु क्रिकेट को लेकर तब गंभीर हुई जब उन्होंने मनथवाड़ी गर्वमेंट वोकेशनल हाई सेकंड्री स्कूल में दाखिला लिया. यहां की फिजिकल एजुकेशन पढ़ाने वाली एलसमा अनमोल बेबी ने उनकी क्रिकेट प्रतिभा को पहचाना. बेबी नेशनल लेवल पर केरल की कप्तानी कर चुकी हैं. वह मिन्नु को छुट्टियों में ट्रेन किया करती थीं. इसके बाद वह उन्हें तिरुवनंतपुरम में केरल क्रिकेट एसोसिएशन के ओपन ट्रायल में ले कर गईं जहां उनका सेलेक्शन ट्रेनिंग प्रोग्राम के लिए हुआ. इसके बाद उन्होंने मुड़कर नहीं देखा.

वर्ल्ड चैंपियनशिप में भारत को नहीं मिला मेडल, लेकिन प्रदर्शन में हुआ सुधारभारत में एनबीए का आना, अमेरिका से संबंधों में ऐतिहासिक दिन: नरेंद्र मोदी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 6, 2019, 6:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर