जयवर्धने का अजीबोगरीब बयान- कहा आज के बल्लेबाज ज्यादा खतरनाक, इसलिए गेंदबाजों को दिक्कत

जयवर्धने का अजीबोगरीब बयान- कहा आज के बल्लेबाज ज्यादा खतरनाक, इसलिए गेंदबाजों को दिक्कत
महेला जयवर्धने ने कहा- मौजूदा बल्लेबाज खतरनाक

महेला जयवर्धने (Mahela Jayawardene) ने कहा कि मौजूदा गेंदबाजों को अच्छे बल्लेबाजों का सामना करना पड़ रहा है

  • Share this:
नई दिल्ली. श्रीलंका के दिग्गज बल्लेबाज और पूर्व कप्तान महेला जयवर्धने (Mahela Jayawardene) ने जिन भी महान गेंदबाजों का सामना किया वह उनका पूरा सम्मान करते हैं लेकिन उनका मानना है कि मौजूदा तेज गेंदबाजों और स्पिनरों को बेहतर बल्लेबाजी इकाइयों का सामना करना पड़ रहा है. पूर्व कप्तान जयवर्धने ने लगभग दो दशक के अपने अंतरराष्ट्रीय करियर के दौरान सभी फॉर्मेट में 652 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले. जयवर्धने का मानना है कि जब वह अपने करियर के शीर्ष पर थे तो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कई विश्व स्तरीय गेंदबाज थे और उनका मानना है कि अब ऐसा नहीं है.

आज के बल्लेबाज बेहतर
जयवर्धने (Mahela Jayawardene) ने संजय मांजरेकर के साथ ईएसपीएनक्रिकइंफो के वीडियोकास्ट के दौरान कहा, 'हमें देखना होगा कि मौजूदा पीढ़ी के गेंदबाज क्या वे संख्या हासिल कर पाएंगे जो उनसे पहले खेलने वाले गेंदबाजों ने हासिल की है. मौजूदा गेंदबाजों को शायद बेहतर बल्लेबाजी इकाई का सामना करना पड़ रहा है.' दो दशक के अपने करियर के दौरान गेंदबाजी आक्रमण के बारे में जयवर्धने ने कहा, 'अगर आप आधुनिक क्रिकेट में सर्वाधिक विकेट हासिल करने वाले शीर्ष 10 गेंदबाजों को देखें तो वे सभी उस युग (करियर के पहले हाफ में) में खेले. ' जयवर्धने ने कहा, ' मैं वॉल्श और कपिल का सामना नहीं कर पाया क्योंकि मैंने उनके संन्यास के तुरंत बाद खेलना शुरू किया.'

जयवर्धने ने कहा, '(मुथैया) मुरलीधरन, (शेन) वार्न, (ग्लेन) मैकग्रा, अनिल (कुंबले), भज्जी (हरभजन सिंह), सकलेन (मुश्ताक), वसीम (अकरम), वकार (यूनिस) मौजूद थे, उनके आंकड़े सब कुछ खुद बयां करते हैं.' उन्होंने कहा, 'मैंने अपने करियर के दौरान जिन गेंदबाजों का सामना किया उनके प्रदर्शन में काफी सुधार हुआ.'



विराट कोहली ने कहा- 6 साल पहले मिली हार ने टेस्ट में बनाया चैंपियन!



इंग्लैंड से आई बड़ी खबर, पाकिस्तानी खिलाड़ियों के कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट आई

'हांगकांग में खेलने के लिए परीक्षा नहीं दी'
जयवर्धने (Mahela Jayawardene) ने खुलासा किया कि उन्होंने क्रिकेट में तेज गेंदबाजी ऑलराउंडर के रूप में शुरुआत की थी और उन्होंने उस समय को भी याद किया जब उनके माता-पिता ने हांगकांग सिक्सेज टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के लिए उन्हें परीक्षा में नहीं बैठने की इजाजत दे दी थी. हांगकांग सिक्सेस टूर्नामेंट में हर टीम में छह खिलाड़ी खेलते थे. टीम के पूर्व साथी मुथैया मुरलीधरन के बारे में पूछने पर जयवर्धने ने कहा कि इस महान स्पिनर को कुछ भी ऐसा करने के लिए मनाना मुश्किल होता था जिसे लेकर वह स्पष्ट नहीं होते थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading