17 साल की उम्र में की थी स्पॉट फिक्सिंग, 5 साल का बैन झेला, 27 साल में ले लिया संन्यास

मोहम्मद आमिर का नाम दुनिया के प्रतिभाशाली गेंदबाजों में लिया जाता है. हालांकि ये गेंदबाज बहुत छोटी उम्र में गलत रास्ते पर चल पड़ा था. वो रास्ता जो स्पॉट फिक्सिंग की राह से शुरू होकर जेल की चारदीवारी में जाकर खत्म हुआ.

News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 5:54 PM IST
17 साल की उम्र में की थी स्पॉट फिक्सिंग, 5 साल का बैन झेला, 27 साल में ले लिया संन्यास
पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर ने महज 17 साल की उम्र में टेस्ट डेब्यू किया था. श्रीलंका के खिलाफ उस मैच में उन्होंने 6 विकेट लिए थे.
News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 5:54 PM IST
पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर ने 27 साल की उम्र में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया है. हालांकि वह अभी वनडे और टी-20 क्रिकेट खेलते रहेंगे. आमिर का नाम दुनिया के उन बेहतरीन गेंदबाजों में लिया जाता है जिनमें प्रतिभा कूट-कूटकर भरी है. ये अलग बात है कि ये युवा गेंदबाज बहुत छोटी उम्र में गलत रास्ते पर चल पड़ा था. वो रास्ता जो स्पॉट फिक्सिंग की राह से शुरू हुआ और जेल की चारदीवारी में जाकर खत्म हुआ.

पहले मैच में छोड़ी थी प्रतिभा की छाप
4 जुलाई 2009 को श्रीलंका के खिलाफ गॉल में टेस्ट क्रिकेट का आगाज करने वाले मोहम्मद आमिर को अपनी प्रतिभा और योग्यता की छाप छोड़ने में महज एक ही मैच का वक्त लगा. अपने पहले ही टेस्ट में उन्होंने कुल छह विकेट लिए. पहली पारी में तीन और दूसरी पारी में भी तीन विकेट उनके नाम रहे. जहां पहली पारी में उन्होंने वर्णपुरा, कुमार संगकारा और तिलकरत्ने दिलशान को आउट किया, वहीं दूसरी पारी में परानाविताना, कुमार संगकारा और महेला जयवर्धने को पवेलियन भेजा.

महज 17 साल के इस खिलाड़ी ने इस प्रदर्शन से बता दिया था कि वो पाकिस्तान की तेज गेंदबाजी के आसमान का सबसे चमकता सितारा बनने की कूव्वत रखता है. बायें हाथ के इस खतरनाक तेज गेंदबाज को वसीम अकरम की श्रेणी का माना जा रहा था. आमिर में गेंद को स्विंग कराने की गजब की क्षमता है. हालांकि 36 टेस्ट के करियर में उन्होंने भारतीय टीम के खिलाफ एक भी मैच नहीं खेला.

pcb, pakistan cricket team, mohammad amir, mohammad amir retirement, पीसीबी, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड, मोहम्मद आमिर, मोहम्मद आमिर रिटायरमेंट
मोहम्मद आमिर ने भारत के खिलाफ एक भी टेस्ट मैच नहीं खेला.


स्पॉट फिक्सिंग में हुए पांच साल के लिए बैन
मगर शायद जिस छोटी उम्र में उन्हें क्रिकेट जगत में अपनी चमक बिखेरनी थी, उसी छोटी सी उम्र में उनके पांव डगमगा गए. 2010 में इंग्लैंड के खिलाफ लार्ड्स में खेले गए टेस्ट मैच के दौरान स्पॉट फिक्सिंग में भूमिका होने के कारण आईसीसी ने मोहम्मद आमिर को पांच साल के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से सस्पेंड कर दिया था.
Loading...

नवंबर 2011 में तीन पाकिस्तानी क्रिकेटर मोहम्मद आमिर, सलमान बट और मोहम्मद आसिफ को लंदन की एक अदालत ने मैच फिक्सिंग में दोषी करार दिया था और उन्हें छह महीने के लिए जेल की सजा सुनाई गई थी. इसके बाद आईसीसी ने भी उन पर पांच साल का बैन लगा दिया. एक अखबार के स्टिंग ऑपरेशन में खुलासा हुआ था कि इन तीनों ने लॉर्ड्स टेस्ट में तीन नो बॉल फेंकने की साजिश रची थी.

आफरीदी के थप्पड़ के बाद माना-फिक्सिंग की थी
पाकिस्तान के पूर्व ऑलराउंडर अब्दुल रज्जाक ने हाल ही में खुलासा किया था कि वनडे टीम के तत्कालीन कप्तान शाहिद आफरीदी से थप्पड़ खाने के बाद तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर ने स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने की बात कबूल की थी. रज्जाक ने कहा, 'आफरीदी ने मुझे कमरे से बाहर जाने के लिए कहा लेकिन थोड़ी देर बाद मैंने थप्पड़ की गूंज सुनी और फिर आमिर ने सच बयां कर दिया.'

2016 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में हुई वापसी
मोहम्मद आमिर की पांच साल के बैन के बाद 2016 में क्रिकेट के मैदान पर वापसी हुई. उन्हें तब न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज के लिए राष्ट्रीय टीम में शामिल किया गया था. बैन समाप्ति के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी के मैच में उन्होंने पहली बॉल वाइड फेंकी. ओवर खत्म होने के बाद जब वो बाउंड्री पर फील्डिंग के लिए गए तो दर्शकों ने उनकी हूटिंग की और नोट लहराए. हालांकि इस मैच में उन्होंने 3 विकेट लिए थे.

कोहली ने जताई थी खुशी
मोहम्मद आमिर की पांच साल बाद मैदान पर वापसी के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि मैं आमिर की वापसी से खुश हूं, यह देखकर अच्छा लगता है कि उन्हें अपनी गलती का अहसास हुआ और उन्होंने इससे सीख लेकर खुद को ठीक किया.

यह भी पढ़ें- मोहम्‍मद आमिर ने 27 साल की उम्र में छोड़ा टेस्‍ट क्रिकेट

 

 
First published: July 26, 2019, 5:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...