लाइव टीवी

मोहम्‍मद कैफ ने अयोध्या फैसले पर दिया दिल जीतने वाला बयान, क्‍या आपने पढ़ा

News18Hindi
Updated: November 9, 2019, 11:24 PM IST
मोहम्‍मद कैफ ने अयोध्या फैसले पर दिया दिल जीतने वाला बयान, क्‍या आपने पढ़ा
मोहम्‍मद कैफ.

मोहम्‍मद कैफ (Mohammad Kaif) ने अपने ट्वीट के जरिए भारत में विविधता और विचारों की विभिन्‍नताओं के बावजूद एकता की तारीफ की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2019, 11:24 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली: पूर्व क्रिकेटर मोहम्‍मद कैफ (Mohammad Kaif) ने अयोध्‍या फैसले (Ayodhya Verdict) पर बयान दिया है. उन्‍होंने अपने ट्वीट के जरिए भारत में विविधता और विचारों की विभिन्‍नताओं के बावजूद एकता की तारीफ की. कैफ के ट्वीट की सोशल मीडिया पर काफी तारीफ हो रही है. खबर लिखे जाने तक उनके ट्वीट को साढ़े 5 हजार से ज्‍यादा लोग रीट्वीट कर चुके हैं. साथ ही इसे 27 हजार के करीब यूजर्स ने लाइक किया था. कैफ से पहले खेल जगत की कई हस्तियों ने भी सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के अयोध्‍या विवाद को लेकर दिए गए ट्वीट की तारीफ की थी.

कैफ ने यह लिखा
मोहम्‍मद कैफ (Mohammad Kaif) ने लिखा, 'ऐसा केवल भारत में ही हो सकता है. जहां एक जस्टिस अब्‍दुल नजीर सर्वसम्‍मति से लिए फैसले में शामिल थे. और एक केके मोहम्‍मद ने ऐतिहासिक दस्‍तावेज दिए. भारत की संकल्‍पना सबको शामिल करने वाली विचारधारा से बड़ी है. सभी खुश रहें, मैं शांति, प्रेम और सद्भाव की दुआ करता हूं.'

mohammad kaif ayodhya verdict, mohammad kaif tweet, mohammad kaif ayodhya case, ayodhya verdict supreme court, ram janmabhoomi babri demotion, मोहम्‍मद कैफ अयोध्‍या फैसला, मोहम्‍मद कैफ ट्वीट
मोहम्‍मद कैफ का ट्वीट.


सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया राम मंदिर का रास्‍ता
बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को ऐतिहासिक फैसले में एक सदी से अधिक पुराने मामले को समाप्‍त करते हुए अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त कर दिया. साथ में व्यवस्था दी कि अयोध्‍या में मस्जिद के लिए पांच एकड़ वैकल्पिक जमीन दी जाए. न्यायालय ने कहा कि विवादित 2.77 एकड़ जमीन अब केंद्र सरकार के रिसीवर के पास रहेगी, जो इसे सरकार द्वारा बनाए जाने वाले ट्रस्ट को सौंपेंगे. पीठ ने केंद्र सरकार से कहा कि मंदिर निर्माण के लिए तीन महीने के भीतर एक ट्रस्ट बनाया जाना चाहिए.

ayodhya verdict why supreme court rejected muslim claim on rammandir babri masjid disputed land
सुप्रीम कोर्ट ने विवादित परिसर से मुस्लिम पक्ष का दावा खारिज कर दिया.

Loading...

'विवादित ढांचे को ढहाना गलत'
प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने सर्वसम्मत फैसला दिया और कहा कि हिन्दुओं का यह विश्वास निर्विवाद है कि संबंधित स्थल पर ही भगवान राम का जन्म हुआ था तथा वह प्रतीकात्मक रूप से भूमि के मालिक हैं. फैसले में कहा गया कि फिर भी यह स्पष्ट है कि राम मंदिर बनाने गए कारसेवकों द्वारा 16वीं सदी के तीन गुंबद वाले ढांचे को ढहाना गलत था और उसका ‘निवारण’ होना चाहिए.

क्‍या है अयोध्‍या मामला
यह मामला 1885 में तब कानूनी विवाद में तब्दील हो गया था जब एक महंत ने अदालत पहुंचकर मस्जिद के बाहर छत डालने की अनुमति मांगी. यह याचिका खारिज कर दी गई थी. दिसंबर 1949 में अज्ञात लोगों ने मस्जिद में भगवान राम की मूर्ति रख दी. कारसेवकों की बड़ी भीड़ ने छह दिसंबर 1992 को ढांचे का ध्वस्त कर दिया था. ढांचे को ध्वस्त किए जाने से देश में हिन्दुओं-मुसलमानों के बीच दंगे भड़क उठे थे और उत्तर भारत तथा मुंबई में अधिक संख्या में दंगे हुए जिनमें सैकड़ों लोग मारे गए. ढांचा ढहाए जाने और दंगों से गुस्साए मुस्लिम चरमपंथियों ने मुंबई में 12 मार्च 1993 को सिलसिलेवार बम विस्फोट किए जिनमें सैकड़ों लोगों की जान चली गई.

8 महीने की सजा झेलने के बाद पृथ्‍वी शॉ ने सीखा सबक, फैंस से किया ये वादा

बलिदान बैज की टीशर्ट पहनकर टेनिस टूर्नामेंट में उतरे धोनी,दर्ज की धमाकेदार जीत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 11:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...