होम /न्यूज /खेल /जसप्रीत बुमराह की जगह कौन लेगा? जानिए दीपक और शमी में से किसका दावा मजबूत और क्यों?

जसप्रीत बुमराह की जगह कौन लेगा? जानिए दीपक और शमी में से किसका दावा मजबूत और क्यों?

दीपक चाहर या मोहम्मद शमी? जसप्रीत बुमराह की जगह लेना का किसका दावा मजबूत. (Instagram)

दीपक चाहर या मोहम्मद शमी? जसप्रीत बुमराह की जगह लेना का किसका दावा मजबूत. (Instagram)

T20 World cup 2022 में अब गितनी के ही दिन बचे हैं. चोटिल जसप्रीत बुमराह के स्थान पर किसे टीम इंडिया के मुख्य स्क्वॉड मे ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

चोटिल जसप्रीत बुमराह की जगह टीम इंडिया में कौन लेगा?
मोहम्मद शमी और दीपक चाहर में किसका दावा मजबूत?

नई दिल्ली. भारत ने ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका को घर में टी20 सीरीज में हराकर एशिया कप में मिली नाकामी के दाग को कुछ हद तक तो धो लिया है. लेकिन, टीम इंडिया अब तक अपनी सबसे बड़ी परेशानी. यानी डेथ ओवर में गेंदबाजी का हल नहीं ढूंढ पाई है. चोट के कारण जसप्रीत बुमराह के टी20 विश्व कप से बाहर होने के बाद भारत की परेशानी और बढ़ गई है. सबसे बड़ा सवाल यही है कि बुमराह की जगह कौन लेगा? टीम इंडिया भी इसे लेकर परेशान है. इसलिए जल्दबाजी में कोई फैसला नहीं लेना चाहती है.

कप्तान रोहित शर्मा ने इंदौर टी20 के बाद यही बात कही. उन्होंने कहा कि बुमराह के रिप्लेसमेंट का फैसला हम ऑस्ट्रेलिया पहुंचने के बाद लेंगे. हालांकि, उन्होंने और कोच राहुल द्रविड़ ने यह इशारा जरूर किया कि बुमराह की जगह उस गेंदबाज को टीम में लिया जा सकता है. जिसके पास अनुभव हो और जो ऑस्ट्रेलिया में खेल भी चुका हो. यानी कोच और कप्तान का इरादा साफ है कि वो ऐसे गेंदबाज को बुमराह की जगह मुख्य स्क्वॉड से जोड़ना चाहते हैं, जिसके पास ऑस्ट्रेलिया में खेलने का अनुभव हो. इस पैमाने पर देखें, तो बुमराह के रिप्लेसमेंट की रेस में शामिल मोहम्मद शमी और दीपक चाहर में से शमी का पलड़ा थोड़ा भारी है. यह कैसे है, यह आपको बताते हैं.
" isDesktop="true" id="4696371" >

शमी की मौजूदगी में भारत ने ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीती
शमी टीम इंडिया के साथ ऑस्ट्रेलिया के कई दौरे कर चुके हैं. 2020-21 में जब टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया गई थी तो शमी भी उस दौरे पर टीम के साथ गए थे. तब वनडे सीरीज में शमी भारत की तरफ से सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज थे. उन्होंने 2 मैच में 4 विकेट लिए थे. वैसे, भारत यह सीरीज हार गया था. 2018-19 में भारत ने ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया था. तब टीम इंडिया ने 4 टेस्ट की सीरीज जीती थी. टेस्ट सीरीज में जसप्रीत बुमराह (21 विकेट) के बाद शमी ने ही सबसे अधिक 4 मैच में 16 विकेट लिए थे.

शमी को ऑस्ट्रेलिया में खेलने का अधिक अनुभव
इतना ही नहीं, शमी ऑस्ट्रेलिया में हुआ 2015 का वर्ल्ड कप भी खेले हैं और उमेश यादव ( 8 मैच में 18 विकेट) के बाद सबसे अधिक विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज थे. तब शमी ने 7 मैच में 4.81 की इकोनॉमी और 17 के औसत से 17 विकेट लिए थे. हालांकि, शमी ने ऑस्ट्रेलिया में सिर्फ एक ही टी20 खेला है. वहीं, चाहर ने ऑस्ट्रेलिया में सिर्फ तीन टी20 मुकाबले खेले हैं और एक ही विकेट हासिल किया है. ऐसे में अगर आंकड़ों और अनुभव के आधार पर बुमराह के रिप्लेसमेंट को चुना जाता है तो फिर शमी का पलड़ा चाहर पर भारी है.

शमी के पास चाहर के मुकाबले अतिरिक्त गति
बुमराह की जगह लेने के लिए शमी का दावा इसलिए भी मजबूत है. क्योंकि बुमराह की गैरहाजिरी में भारत के पास 140 किमी प्रति घंटा से अधिक की रफ्तार से गेंदबाजी करने वाला गेंदबाज नहीं है. भुवनेश्वर कुमार, हर्षल पटेल, अर्शदीप सिंह की अलग-अलग खूबियां हैं. यह तीनों मध्यम तेज गति के गेंदबाज हैं. भुवनेश्वर कुमार की ताकत उनकी स्विंग गेंदबाजी है जबकि हर्षल स्लोअर गेंदों का ज्यादा बेहतर इस्तेमाल करते हैं. चाहर भी काफी हद तक भुवनेश्वर जैसे ही गेंदबाज हैं. वो ऐसे स्विंग गेंदबाज हैं, जो पावरप्ले में विरोधी टीम को परेशान करने की काबिलियत रखते हैं.

शमी ने आईपीएल में पावरप्ले में अच्छी गेंदबाजी की है
शमी ने भी बीते कुछ सालों में भले ही इंटरनेशनल लेवल पर टी20 क्रिकेट ज्यादा न खेल हो. लेकिन आईपीएल में वो असरदार गेंदबाजी कर रहे हैं. खासतौर पर बीते दो सीजन में शमी ने पावरप्ले में अच्छी गेंदबाजी की है. इस साल हुए आईपीएल में शमी पावरप्ले में संयुक्त रूप से सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज थे. उन्होंने 24 की औसत से 11 विकेट हासिल किए थे. उनका इकोनॉमी रेट भी 6.50 से कुछ अधिक ही था. शमी के पास चाहर के मुकाबले अतिरिक्त पेस है. वो स्विंग कराने के बजाए गेंद को विकेट पर तेजी से पटकते हैं. इससे अतिरिक्त उछाल मिलता है और ऑस्ट्रेलिया की विकेटों पर इस तरह के गेंदबाजों को ज्यादा मदद मिलती है.

राहुल का स्ट्राइक रेट सबसे कम, अश्विन फॉर्म में नहीं, टी20 वर्ल्ड कप में कौन संभालेगा टीम को?

चाहर सिर्फ बल्लेबाजी के मामले में शमी से आगे
चाहर गेंदबाजी और अनुभव के मोर्चे पर शमी से पीछे हैं. लेकिन, बल्लेबाजी उनके खेल का मजबूत पक्ष है. उन्होंने इंदौर टी20 में भी 17 गेंद में 31 रन की पारी खेलकर इसका सबूत भी दिया है. चाहर को एक फायदा यह भी है कि उन्होंने शमी के मुकाबले हाल के दिनों में ज्यादा टी20 मुकाबले खेले हैं. ऐसे में जबकि भारत के पास लाइक ऑफ लाइक रिप्लेसमेंट यानी बुमराह की जगह लेने के लिए तेज गति का गेंदबाज मौजूद नहीं है.

रोहित को रोकने का तरीका मिल गया विरोधी टीमों को, एक काम और भारत का काम-तमाम

ऐसे में भारतीय टीम ऐसे गेंदबाज को चुन सकती है, जो टीम इंडिया की बल्लेबाजी को और मजबूत कर सके. यानी जो कमी बुमराह के कारण गेंदबाजी में पैदा होती दिख रही है. उसे बल्लेबाजी के जरिए पूरा किया जाए. भारतीय टीम पिछले एक साल में इसी सोच के साथ टी20 क्रिकेट खेल रही है और यही वजह है कि एक कैलेंडर ईयर में सबसे ज्यादा टी20 जीतने का रिकॉर्ड भी बनाया है.

Tags: Deepak chahar, Jasprit Bumrah, Mohammad Shami, Rohit sharma, T20 World Cup, T20 World Cup 2022

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें