लाइव टीवी

मोहम्मद शमी को है गुलाबी गेंद से गेंदबाजी का अनुभव, ऋद्धिमान साहा ने कहा- वो किसी को नहीं छोड़ेंगे!

News18Hindi
Updated: November 21, 2019, 8:36 AM IST
मोहम्मद शमी को है गुलाबी गेंद से गेंदबाजी का अनुभव, ऋद्धिमान साहा ने कहा- वो किसी को नहीं छोड़ेंगे!
मोहम्‍मद शमी बांग्लादेश के लिए सबसे बड़ा खतरा(AP Photo)

कोलकाता में शुक्रवार से शुरू होगा डे-नाइट टेस्ट, पहली बार गुलाबी गेंद से खेलेगी टीम इंडिया और बांग्लादेश (India vs Bangladesh Day-Night Test)

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 21, 2019, 8:36 AM IST
  • Share this:
कोलकाता. भारतीय विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) ने गुलाबी गेंद के गेंदबाजों के लिए चुनौती होने की चिंताओं को खारिज करते हुए कहा कि मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) जैसे गेंदबाजों पर भरोसा किया जा सकता है कि गेंद की रंग या विकेट की प्रकृति कैसी भी हो वह अच्छा प्रदर्शन करेंगे. भारत अपना पहला डे-नाइट टेस्ट शुक्रवार से कोलकाता में बांग्लादेश के खिलाफ खेलेगा. इंदौर में पहले टेस्ट में बांग्लादेश पर भारत की पारी और 130 रन की जीत के दौरान शमी ने सात विकेट चटकाए थे.

शमी के लिए गुलाबी गेंद मायने नहीं रखती!
साहा से जब यह पूछा गया कि क्या गेंद का रंग अधिक अंतर पैदा करेगा तो उन्होंने कहा, 'वे (शमी, इशांत शर्मा और उमेश यादव) जिस तरह की फार्म में हैं उसे देखते हुए गुलाबी गेंद मायने नहीं रखेगी. खासकर शमी (Mohammed Shami), वह किसी भी विकेट पर खतरनाक हो सकता है. उसके पास गति है और वह रिवर्स स्विंग हासिल कर सकता है.'

शमी ने इंदौर टेस्ट में 7 विकेट लिए थे


साहा ने कहा कि उन्होंने अब तक नहीं देखा है कि गुलाबी गेंद से कितनी मूवमेंट मिल रही है. उन्होंने कहा, 'हमने अब तक गुलाबी गेंद की मूवमेंट नहीं देखी है. लेकिन हमारे तेज गेंदबाजों की मौजूदा फॉर्म को देखते हुए गेंद का रंग मायने नहीं रखता.'

wriddhiman saha, cricket news, ind vs ban, bangladesh
भारतीय विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा प्रैक्टिस करने उतरे


कूकाबूरा की गुलाबी गेंद से खेले हैं शमी और साहा
Loading...

बंगाल के शमी (Mohammed Shami) और साहा सहित भारत के कुछ खिलाड़ियों को घरेलू क्रिकेट में गुलाबी गेंद से खेलने का अनुभव है लेकिन इस विकेटकीपर ने कहा कि वह कूकाबूरा गेंद थी. साहा ने कहा, 'सिर्फ गेंद का रंग ही बदलाव नहीं है. इसे अलग तरह से तैयार किया जाता है. समय में भी बदलाव है और अंधेरा घिरने के समय गेंद को देखने में दिक्कत हो सकती है. इससे तेज गेंदबाजों को मदद मिल सकती है लेकिन बल्लेबाजों के लिए चुनौतीपूर्ण होगा.'

टेस्ट के बाद क्या वनडे-टी20 में धमाल मचाएंगे मयंक अग्रवाल, टीम में मिलेगा मौका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 8:33 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...