• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • मॉन्टी पनेसर ने खोली ब्रिटेन की पोल, कहा- खौफ के साये में जीते हैं अश्वेत लोग

मॉन्टी पनेसर ने खोली ब्रिटेन की पोल, कहा- खौफ के साये में जीते हैं अश्वेत लोग

मॉन्टी पनेसर ने कहा- ब्रिटेन में अश्वेतों के साथ दुर्व्यवहार होता है

मॉन्टी पनेसर ने कहा- ब्रिटेन में अश्वेतों के साथ दुर्व्यवहार होता है

ब्रिटेन (Britain Racism Problem) में कई अश्वेत क्रिकेटर खेलते हैं, वहां हजारों की संख्या में अश्वेत लोग रहते हैं लेकिन उनके साथ नस्लभेद होता है, ये दावा मॉन्टी पनेसर ने किया है

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारतीय मूल के इंग्लैंड के पूर्व स्पिनर मॉन्टी पनेसर (Monty Panesar) का मानना है कि ब्रिटेन में दक्षिण एशियाई प्रवासियों को यदा कदा ही नस्लवाद का सामना करना पड़ता है लेकिन इसकी तुलना अश्वेत समुदाय के साथ रोजमर्रा की जिंदगी में हो रहे बर्ताव से नहीं की जा सकती. पनेसर ने पीटीआई से बातचीत में कहा कि उनके देश में अश्वेत समुदाय के साथ नस्लवाद खत्म होना चाहिये और अधिकारियों को पांच साल की योजना बनाकर इसे खत्म करना चाहिये.

    अश्वेतों को झेलना पड़ता है नस्लभेद
    मॉन्टी पनेसर (Monty Panesar Racism) ने कहा ,' अगर कोई ब्रिटेन में काले रंग की खिड़कियों वाली कार चलाता है और वह अश्वेत है तो पुलिस उसकी कार जरूर रोकेगी . यहां अश्वेत लोग रोज पुलिस के खौफ के साये में जीते हैं.' इंग्लैंड के लिये 50 टेस्ट में 167 विकेट ले चुके पनेसर ने कहा ,'यह मेरे अश्वेत दोस्त बताते हैं . वे सुपरमार्केट जाते हैं तो लोगों को उन पर चोरी का शक होता है . यदि मैं जेब में कुछ रख लूं तो कोई ध्यान नहीं देगा लेकिन वे कुछ नहीं करते हैं तो भी उन पर शक रहता है .'



    'नस्लभेद खत्म किया जाना जरूरी'
    समूचे क्रिकेट जगत की तरह उन्हें भी वेस्टइंडीज के महान क्रिकेटर माइकल होल्डिंग के नस्लवाद पर दिये गए भाषण ने झकझोर दिया है . बता दें माइकल होल्डिंग अपने माता-पिता के साथ हुए नस्लवाद की घटना याद कर लाइव शो के दौरान रो पड़े थे. मॉन्टी पनेसर ने इस मुद्दे पर कहा,' पांच साल की योजना बनाकर इसे खत्म किया जाना चाहिये . भाषणों के बाद भी कुछ किया नहीं जाता तो फिर क्या फायदा . मैने माइकल होल्डिंग जैसा दमदार भाषण किसी का नहीं देखा . और क्रिकेट के जरिये ही नस्लवाद को खत्म करने से बेहतर क्या हो सकता है .'

    वर्ल्‍ड कप फाइनल में सुपर ओवर से पहले सिगरेट पीने गए थे बेन स्‍टोक्‍स!

    एमएस धोनी ने इस खिलाड़ी को दिलाए 6.75 करोड़ रुपये, सामने आया सच

    पनेसर (Monty Panesar) ने कहा ,' दक्षिण एशियाई समुदाय को कभी-कभी ही सुनना पड़ता है लेकिन अश्वेतों को नियमित आधार पर यह सब सहना पड़ता है . सिख समुदाय दशकों से समाज सेवा कर रहा है और प्यार का संदेश फैला रहा है . लोग उसकी सराहना करके हमें वह प्यार लौटाते हैं .' उन्होंने कहा ,' लेकिन अश्वेत समुदाय की कोई गलती नहीं होने पर भी पुलिस उन्हें दंडित करती है . अब उन पर से यह कलंक हटाना होगा . उन्हें शिक्षित करके दूसरों की तरह सफेदपोश नौकरियां दी जानी चाहिये .'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज