लाइव टीवी

एमएस धोनी को अपने ही घर में नहीं मिला वोट डालने का अधिकार, उठे सवाल

News18Hindi
Updated: September 22, 2019, 10:36 PM IST
एमएस धोनी को अपने ही घर में नहीं मिला वोट डालने का अधिकार, उठे सवाल
एमएस धोनी.

झारखंड क्रिकेट एसोसिएशन (Jharkhand State Cricket Association) के मतदान के दौरान दिग्‍गज क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) वोट नहीं डाल पाए जबकि क्रिकेटर सौरभ तिवारी, वरुण आरोन सहित कई लोगों ने वोट डाले.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2019, 10:36 PM IST
  • Share this:
झारखंड राज्‍य क्रिकेट एसोसिएशन (Jharkhand State Cricket Association) के चुनाव रविवार को हो गए और इसमें अमिताभ चौधरी (Amitabh Chaudhary) के समर्थन वाले खेमे ने जीत दर्ज की. चौधरी के करीबी कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ नफीस अख्तर (Dr Nafis Akhtar) जेएससीए (JSCA) के अध्यक्ष चुने गए. अमिताभ चौधरी वर्तमान में बीसीसीआई (BCCI) के सचिव हैं. लेकिन मतदान के दौरान दिग्‍गज क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) वोट नहीं डाल पाए जबकि क्रिकेटर सौरभ तिवारी, वरुण आरोन सहित कई लोगों ने वोट डाले.

JSCA के मानद सदस्‍य हैं धोनी पर...
महेंद्र सिंह धोनी के वोटिंग से दूर रहने की काफी चर्चा रही. इस बारे में चुनाव परिणाम आने के बाद अमिताभ चौधरी ने कहा कि धोनी झारखंड क्रिकेट एसोसिएशन के मानद सदस्‍य है. मानद सदस्‍य को वोट डालने का अधिकार नहीं होता है. धोनी ने कभी भी आजीवन सदस्य बनने की इच्छा नहीं जताई. यदि वे इच्छा रखते हैं तो नई कमेटी कल ही धोनी से मिलकर उन्हें आजीवन सदस्य बनाने का काम करेगा.

कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ नफीस अख्तर ने अध्यक्ष पद पर जीत दर्ज की है.


अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेटर नहीं डाल सकते वोट
बता दें कि झारखंड क्रिकेट एसोसिएशन के संविधान में लिखा है कि मानद सदस्‍यों को किसी भी मीटिंग में वोट करने का अधिकार नहीं होगा. इसके अलावा बीसीसीआई की प्रशासक समिति वर्तमान में अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट खेलने वाले खिलाड़ियों को वोट डालने की अनुमति नहीं देती. केवल पूर्व क्रिकेटर और फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेटर ही अपने घरेलू बोर्ड के लिए वोट कर सकते हैं. धोनी भले ही वर्ल्‍ड कप के बाद से क्रिकेट खेल रहे हैं लेकिन वे अभी भी इंटरनेशनल क्रिकेट खेल रहे हैं.

पहले भी वोट नहीं डाल पाए थे धोनी
Loading...

पिछली बार भी चुनावों के वक्‍त धोनी के पास वोट डालने का अधिकार न होने का मसला उठा था. एसोसिएशन के उपाध्‍यक्ष अजय नाथ शाह देव ने बताया कि धोनी का मसला उठा था लेकिन उस पर कोई काम नहीं हुआ. उन्‍होंने आउटलुक से बात करते हुए कहा, 'तीन साल पहले एक चयन हुआ था और उस समय उन्‍हें मानद सदस्‍य बनाया गया था. पिछली बार भी वे इसके चलते वोट नहीं कर पाए थे और कुछ लोगों ने इस मामले को उठाया था. लेकिन एसोसिएशन और धोनी के लिए यह कभी भी मसला नहीं रहा.'

वहीं कुछ लोगों ने एसोसिएशन पर जानबूझकर धोनी को वोटिंग से दूर रखने का आरोप लगाया. क्रिकट्रेकर की खबर के अनुसार एसोसिएशन के एक सदस्‍य ने बताया कि अगर धोनी को आजीवन सदस्‍य बनाया जाए तो वह काफी योगदान दे सकते हैं.

कुलदीप यादव ने डाला दाढ़ी बनाने का वीडियो, बुमराह, चहल और रैना ने उड़ाया मजाक

टूर्नामेंट जीतने पर बिछड़ गए साथी को ऐसे किया याद, जमकर मनाया जश्न

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 22, 2019, 10:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...