जब अंगूठे से बहता रहा खून, फिर भी देश के लिए क्रीज पर डटे रहे धोनी

जब अंगूठे से बहता रहा खून, फिर भी देश के लिए क्रीज पर डटे रहे धोनी
वर्ल्ड में एम एस धोनी थे चोटिल

एमएस धोनी (MS Dhoni) वर्ल्ड कप (World Cup) के बाद से क्रिकेट मैदान पर नहीं उतरे हैं

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) लंबे समय से क्रिकेट मैदान से दूर हैं. पिछली बार धोनी इंग्लैंड में हुए वर्ल्ड कप में मैदान पर उतरे थे. भारत को वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मैच में हार का सामना करना पड़ा था. इस मैच के बाद धोनी के प्रदर्शन पर सवाल उठाए गए थे. हालांकि वर्ल्ड कप के बाद फैंस के सामने सच्चाई आई कि धोनी कितनी मुश्किलों के साथ वर्ल्ड कप में खेल रहे थे.

चोटिल अंगूठे के साथ इंग्लैंड के खिलाफ की थी बल्लेबाजी
भारत (India) को इंग्लैंड के खिलाफ लीग मुकाबले में 31 रन से हार का सामना करना पड़ा था. . 337 रन का पीछा करते हुए टीम इंडिया 5 विकेट पर 306 रन ही बना सकी थी. भारत को आखिरी 5 ओवरों में जीत के लिए 78 रन चाहिए थे और केदार जाधव व एमएस धोनी क्रीज पर मौजूद थे. लेकिन ये दोनों खिलाड़ी 39 रन ही बना सके. धोनी ने इस मैच में 100 से ज्यादा के स्ट्राइक रेट से रन बनाए थे. बाकी खिलाड़ियों के फ्लॉप रहने के बावजूद महेंद्र सिंह धोनी को निशाने पर लिया जा रहा.

बाद में सच सामने आया था कि धोनी उस मैच में चोटिल अंगूठे के साथ बल्लेबाजी कर रहे थे. मैदान से बाहर जाते हुए धोनी अंगूठा चूस रहे थे जिससे खून निकल रहा था औऱ यह तस्वीर काफी वायरल हुई थी. खून काफी ज्यादा था जिससे चोट का अंदाजा लगाया जा सकता है. धोनी ने फिर साबित किया था कि उनके लिए टीम सबसे पहली आती है और वह इसके लिए कुछ भी कर सकते हैं. धोनी इससे पहले भी कई बार चोट और दर्द के बावजूद टीम को जीत दिला चुके हैं.
धोनी के लिए खिलाड़ियों का प्यार, किसी ने बहाया खून तो कोई छत से कूदने को था तैयार



बतौर कप्तान भारत को धोनी ने दिलाई बड़ी सफलताएं
धोनी ने बतौर कप्तान भारत को कई बड़ी उपलब्धियां दिलाई है. वह दुनिया के इकलौते कप्तान हैं जिन्होंने पनी कप्तानी में आईसीसी के तीनों बड़े टूर्नामेंट अपने नाम किए हैं. उन्होंने साल 2007 में टी20 वर्ल्ड, साल 2011 में 50 ओवर का वर्ल्ड कप और साल 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी जिताई थी. भारत के सफलतम टेस्ट कप्तानों में शुमार धोनी की कप्तानी में भारत ने 27 टेस्ट मैच जीते. इस दौरान उन्होंने टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (21) को पीछे छोड़ा था
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज