MS Dhoni Retirement: ये है एमएस धोनी के करियर का सबसे बड़ा मलाल

MS Dhoni Retirement: ये है एमएस धोनी के करियर का सबसे बड़ा मलाल
एमएस धोनी को वर्ल्‍ड कप सेमीफाइनल में डाइव न लगाने का मलाल है (फाइल फोटो)

MS Dhoni Retirement: एमएस धोनी की गिनती सबसे सफल कप्‍तानों में होती है. उनकी कप्‍तानी में भारत ने टी20 वर्ल्‍ड कप, चैंपियंस ट्रॉफी और वनडे वर्ल्‍ड कप का खिताब जीता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 16, 2020, 4:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. पूर्व भारतीय कप्‍तान एमएस धोनी (MS Dhoni Retirement) ने अपने सफल इंटरनेशनल करियर को अलविदा कह दिया है. धोनी पिछले साल हुए वर्ल्‍ड कप के सेमीफाइनल में मिली हार के बाद से ही क्रिकेट के मैदान से दूर थे. पिछले साल जुलाई में मिली उस हार ने करोड़ों भारतीयों का दिल तोड़ दिया था. खुद धोनी भी टूट गए थे और रन आउट होने के बाद वह भारी कदमों से पवेलियन की तरफ लौटे थे. धोनी ने अपनी कप्‍तानी में भारत को टी20 वर्ल्‍ड कप, चैंपियंस ट्रॉफी और वनडे वर्ल्‍ड कप का खिताब जरूर दिलाया हो, मगर उन्‍हें भी अपने करियर में एक सबसे बड़ा मलाल है और वो मलाल है न्‍यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्‍ड कप सेमीफाइनल में डाइव न लगा पाने का. खुद धोनी भी इस पर खुलकर बोल चुके हैं.

सेमीफाइनल में धोनी सिर्फ कुछ इंच से चूक गए थे और उनके आउट होते ही वर्ल्ड कप में भारत का सफर थम गया. इसी साल एक इंटरव्‍यू में धोनी ने कहा था कि उन्हें अभी तक उसका दुख है. उन्हें दुख इस बात का है कि वे डाइव लगा सकते थे, मगर नहीं लगा पाए.धोनी ने कहा कि वह खुद से कहते हैं, क्यों मैंने डाइव नहीं लगाई. सिर्फ दो इंच दूर था. एमएस धोनी तुम्हें डाइव लगाना चाहिए ‌था.
यह भी पढ़ें: 

रन आउट के बीच सिमटा एमएस धोनी का पूरा करियर, जानिए इस इत्‍तेफाक की कहानी
MS Dhoni Retirement: संन्‍यास लेने के बाद अब किसानों के लिए काम करेंगे एमएस धोनी!


धोनी ने जगा दी थी जीत की उम्‍मीद
वर्ल्‍ड कप के ग्रुप दौर में टीम इंडिया (Team India) का सफर शानदार रहा था और पिछले साल नौ जुलाई को सेमीफाइनल में टीम इंडिया का सामना न्यूजीलैंड से हुआ. लक्ष्य का पीछा करते हुए टीम की शुरुआत काफी निराशजनक रही. जिसके बाद एमएस धोनी (MS Dhoni) ने रवींद्र जडेजा के साथ मिलकर पारी को संभाला और पूरे देश के मन में जीत की उम्मीद जगा दी. 240 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत को जीत के लिए आखिरी दो ओवर में 31 रन चाहिए थे. धोनी ने छक्के के साथ ओवर की शुरुआत की. मगर इसके बाद उनकी पारी ज्यादा आगे नहीं बढ़ पाई. मार्टिन गप्टिल के एक थ्रो ने पूरे देश की उम्मीद तोड़ दी. धोनी दो इंच की दूरी से रन आउट होकर भारी कदमों से पवेलियन लौट गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज