लाइव टीवी

धोनी बोले- मैं भी आम आदमी हूं, मुझे भी गुस्सा आता है

भाषा
Updated: October 16, 2019, 8:12 PM IST
धोनी बोले- मैं भी आम आदमी हूं, मुझे भी गुस्सा आता है
एमएस धोनी वर्ल्‍ड कप के बाद से क्रिकेट से दूर हैं.

जुलाई में विश्व कप (Cricket World Cup) सेमीफाइनल में भारत की हार के बाद महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) के भविष्य को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के बारे में कहा जाता है कि वह भावनाओं को व्यक्त नहीं करते. लेकिन इस करिश्माई पूर्व कप्तान ने कहा कि वह भी आम इंसान की तरह ही सोचते हैं लेकिन बस नकारात्मक विचारों पर नियंत्रण रखने के मामले में वह किसी अन्य की तुलना में बेहतर हैं.

अपने शांतचित के कारण उन्हें भारतीय क्रिकेट (Indian Cricket) में ‘कैप्टन कूल’ का तमगा मिला लेकिन दो बार वर्ल्ड चैंपियन (World Champion) टीम की अगुआई करने वाले इस विकेटकीपर बल्लेबाज ने कहा कि हर जीत और हर हार के दौरान भावनाएं उन पर भी हावी रही हैं. धोनी ने बुधवार को कहा, ‘मैं भी आम इंसान हूं लेकिन मैं किसी अन्य व्यक्ति की तुलना में अपनी भावनाओं को बेहतर तरीके से काबू में रखता हूं.’

समस्याओं का समाधान ढूंढने में विश्वास रखते हैं धोनी
जुलाई में विश्व कप (Cricket World Cup) सेमीफाइनल में भारत की हार के बाद धोनी (MS Dhoni) के भविष्य को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं. उन्होंने फिलहाल कुछ समय के लिए विश्राम लिया है. धोनी ने विपरीत परिस्थितियों से पार पाने के संबंध में कहा, ‘हर किसी की तरह मुझे भी निराशा होती है. कई बार मुझे भी गुस्सा आता है. लेकिन महत्वपूर्ण यह है कि इनमें से कोई भी भावना नकारात्मक नहीं है.’

cricket news, cricket, sports news, rishabh pant, virat kohli, indian cricket team, mahendra singh dhoni, क्रिकेट, क्रिकेट न्यूज, स्पोर्ट्स न्यूज, ऋषभ पंत, विराट कोहली, महेंद्र सिंह धोनी, टी-20 वर्ल्ड कप, भारतीय क्रिकेट टीम,
महेंद्र सिंह धोनी वर्ल्ड कप के बाद से टीम इंडिया के लिए मैदान में नहीं उतरे हैं. (AP)


इस 38 वर्षीय खिलाड़ी ने कहा कि समस्याओं का जाल बुनने के बजाय उनका समाधान ढूंढना उनके लिए कारगर साबित रहा है. उन्होंने कहा, ‘इन भावनाओं की तुलना में अभी क्या करना चाहिए यह अधिक महत्वपूर्ण है. अगली क्या चीज है जिसकी मैं योजना बना सकता हूं? वह अगला व्यक्ति कौन है जिसका मैं उपयोग कर सकता हूं? एक बार जब मैं यह सोचने लगता हूं तो फिर मैं अपनी भावनाओं को बेहतर तरीके से काबू कर लेता हूं.’

अपनी कप्तानी में प्रकिया पर ध्यान देते हैं धोनी
Loading...

धोनी ने फिर से कहा कि अंतिम परिणाम से महत्वपूर्ण प्रक्रिया है. अपनी कप्तानी के दौरान वह हमेशा इस बात पर जोर देते रहे थे. उन्होंने कहा, ‘अगर वह टेस्ट मैच है तो आपके पास दो पारियां होती हैं और आपको अपनी अगली रणनीति तैयार करने के लिए थोड़ा अधिक समय मिलता है. टी20 में सब कुछ तुरत फुरत होता है तो इसमें अलग तरह की सोच की जरूरत होती है.’

धोनी ने कहा, ‘वह एक खिलाड़ी हो सकता है जिसने गलती की या वो पूरी टीम हो सकती है. यह भी हो सकता है कि प्रारूप चाहे कोई भी हो हमने अपनी रणनीति पर अच्छी तरह से अमल नहीं किया हो.’

यह भी पढ़ें-

फेडरेशन ने दिए संकेत, ओलिंपिक क्वालिफायर के ‌लिए मैरीकॉम का नहीं होगा ट्रॉयल
BCCI अध्यक्ष बनने के बाद सौरव गांगुली ने हरभजन सिंह से मांगी मदद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 16, 2019, 5:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...